छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: इन पांच कारणों से कांग्रेस को मिल सकती है सत्ता

छत्तीसगढ़ में 2018 के चुनावी दंगल में कुछ ऐसे कारण हैं, जो राजनीतिक दलों को सत्ता के करीब और दूर ले जा सकते हैं.

निलेश त्रिपाठी | News18Hindi
Updated: December 11, 2018, 2:50 AM IST
छत्तीसगढ़ चुनाव 2018: इन पांच कारणों से कांग्रेस को मिल सकती है सत्ता
News 18 Creatives.
निलेश त्रिपाठी | News18Hindi
Updated: December 11, 2018, 2:50 AM IST
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव के नतीजों आने में कुछ ही घंटे बाकी हैं. हर किसी की नजर मतगणना पर है. यहां वोटिंग 12 और 20 नवंबर  को चरणों में पूरी कर ली गई थी. ऐसे में नेताओं को नतीजों के लिए लंबा इंतजार करना पड़ा. वोटिंग और रिजल्ट के बीच मिले इतने लंबे वक्त का इस्तेमाल राजनीतिक दल में समीक्षा और जीत-हार के समीकरण तय करने में किया. सभी दल अपनी अपनी जीत के दावे कर रहे हैं.

(ये भी पढ़ें: कांग्रेस में सीएम पद के इतने दावेदार, सरकार बनी तो किसके सिर होगा ताज?)

इस बार कुछ ऐसे राजनीतिक समीकरण बन रहे हैं जिनके चलते प्रदेश में तख्ता पलट हो सकता है. इस चुनाव के दौरान कई ऐसी वजहें सामने आई हैं जो 15 साल से वनवास काट रही कांग्रेस की सत्ता में वापसी हो सकती है.

ये भी पढ़ें: यहां दांव पर गृहमंत्री की साख, क्या रामसेवक पैकरा को मिलेगी तीसरी जीत?

पांच कारण जिनके चलते सत्ता में आ सकती है कांग्रेस
सत्ता विरोधी लहर:- 15 साल से छत्तीसगढ़ में सत्ता पर काबिज भाजपा के खिलाफ इस बार सरकार विरोधी लहर थी. बढ़ती महंगाई, बेरोजगारी को मुद्दा बनाकर जनता के बीच आक्रोश पैदा करने में कांग्रेस सफल रही. इसके साथ ही संगठन के बदौलत चुनाव लड़ने की रणनीति बनाई.

कमजोरी को बनाई ताकत:- पिछले चुनावों में प्रत्याशी चयन को लेकर कांग्रेस पर सवाल उठते थे. इस बार कांग्रेस ने इस पर विशेष फोकस किया. इसके अलावा बड़े नेताओं में एकजुटता नहीं होने की कमजोरी को ताकत बनाकर उनको अपने अपने क्षेत्रों में विशेष रूप से फोकस करवाया. नेतृत्व का विकेन्द्रीकरण होने से क्षेत्रवार कांग्रेस मजबूत हुई.
Loading...

दमदार घोषणा पत्र:- कांग्रेस का घोषणा पत्र इस बार भाजपा पर भारी पड़ा है. घोषणा पत्र में किसानों का कर्ज माफ करने का वादा कांग्रेस के लिए मास्टरस्ट्रोक साबित हो सकता है. वोटिंग के बाद से बड़ी संख्या में किसान धान बेचने नहीं जा रहे हैं. क्योंकि वे नई सरकार बनने का इंतजार कर रहे हैं.

शीर्ष नेताओं की भूमिका:- कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी और छत्तीसगढ़ प्रभारी पीएल पुनिया ने छत्तीसगढ़ पर विशेष फोकस किया. हर स्तर के नेताओं से खुद मिले और रणनीति का क्रियान्वयन करवाने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई.

अजीत जोगी:- पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का कांग्रेस छोड़ना पार्टी के लिए फायदेमंद रहा. कांग्रेस नेता इस बात को जनता तक पहुंचाने में कामयाब रहे कि अजीत जोगी कांग्रेस में रहकर भाजपा के लिए काम करते थे, जिसके चलते पिछले चुनावों में उन्हें हार मिली.

ये भी पढें: कांग्रेस के बाद अब अजीत जोगी को भी है उम्मीदवारों के खरीद-फरोख्त की आशंका

ये कारण कांग्रेस को सत्ता से कर सकते हैं दूर
नहीं तलाश सके सीएम का विकल्प:- कांग्रेस पिछले 15 सालों में सीएम डॉ. रमन सिंह का विकल्प अपनी पार्टी में नहीं तलाश सकी. इसके अलावा इतने सालों में कांग्रेस सीएम डॉ. रमन सिंह पर कोई पुख्ता आरोप नहीं लगा सकी, जिससे उनकी छवि धूमिल हो.

जनता के बीच नहीं बना सके पैठ:- पिछले 15 सालों से सत्ता का वनवास काट रही कांग्रेस गांव, गरीब, किसान और आम जनता के बीच अपनी पैठ नहीं बना सकी. 15 सालों में कांग्रेस जनता के बीच खुद को भाजपा का विकल्प नहीं बता सकी.

ये भी पढ़ें:-Exclusive: छत्तीसगढ़ में अपने विधायकों को बिकने से ऐसे बचाएगी कांग्रेस

सरकार के खिलाफ माहौल बनाने में नाकाम:- लंबे समय से विपक्ष में रहने के बाद भी भाजपा सरकार के खिलाफ माहौल बनाने में कांग्रेस नाकाम रही. नान घोटाला, आगास्ता वेस्टलैंड, पनामा पेपर लीक, आदिवासी जमीन अधिग्रहण जैसे बड़े मुद्दों को भी नहीं भुना सके.

ये भी पढ़ें:
-बीजेपी के इस कद्दावर मंत्री को जीत का चौका लगाने से रोक पाएगी कांग्रेस? 
-इस हाई प्रोफाइल सीट पर प्रदेश की नजर, क्या कांग्रेस के इस कद्दावर नेता को फिर मिलेगी जीत 
-इन Political Families के ईर्द-गिर्द घूमती है छत्तीसगढ़ की राजनीति, रखते है खास रसूख 
-BJP के इस नेता के सिर हर बार सजा जीत का सेहरा, इस बार मिली है कड़ी चुनौती 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर