स्काई वॉक को लेकर कंफ्यूजन में छत्तीसगढ़ सरकार, कांग्रेस ने मांगी जनता से राय

स्काई वॉक पर अब तक कोई अंतिम फैसला नहीं हो पाया है. इस मसले पर कांग्रेस बुधवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने शास्त्री चौक पर टेबल-कुर्सी लगाकर लोगों से राय मांगी.

Devwrat Bhagat
Updated: June 13, 2019, 10:33 AM IST
स्काई वॉक को लेकर कंफ्यूजन में छत्तीसगढ़ सरकार, कांग्रेस ने मांगी जनता से राय
रायपुर में बने स्काईवॉक का विवाद सुलझलने का नाम नहीं ले रहा है.
Devwrat Bhagat
Devwrat Bhagat
Updated: June 13, 2019, 10:33 AM IST
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में बने स्काईवॉक का विवाद सुलझलने का नाम नहीं ले रहा है. राज्य सरकार भी इस असमंजस में है कि आखिर इसे रखा जाए या तोड़ दिया जाए. बुधवार को कांग्रेस कार्यकर्ताओं के साथ महापौर प्रमोद दूबे और विधायक विकास उपाध्याय इस बारे में जनता से राय लेते हुए नज़र आए. महापौर प्रमोद दुबे ने बताया कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पहले दिन से सपष्ट कहा है कि जनता की राय के आधार पर ही स्काई वॉक को लेकर निर्णय लिया जाएगा. इसलिए कांग्रेस नेता अब स्काई वॉक की ड्राइंग डिजाइन लेकर स्काई वॉक के पास चौराहे में बैठे रहे. इस दौरान कुछ ऐसे लोग भी पहुंचे जिन्होने इसे तोड़ने के बजाय इसके दूसरे उपयोग को लेकर भी अपना सुझाव कांग्रेस कार्यकर्ताओं को दिया.

स्काई वॉक पर सीएम ने कही ये बात



आपको बता दें कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ये साफ कर दिया है कि स्काई वॉक जनसुविधाओं के अनुरूप नहीं है. इसलिए इसे तोड़ा जाना चाहिए. लेकिन उससे पहले कांग्रेस जनता को भी अपने भरोसे में लेना चाह रही है. इसलिए जनता से उनकी राय मांगी गयी. इससे पहले सीएम भूपेश ने स्काई वॉक को लेकर कहा था कि स्काई वॉक का उपयोग दिखाई नहीं देता. बल्कि लोग इससे परेशानी ही हो रहे हैं. स्काई वॉक के उपर ग्लास और नीचे अल्यूमिनियम शीट डाली गई है. इतनी गर्मी में लोगों को क्या हाल होगा आप सोच ही सकते हैं.

क्या है स्कॉईवॉक प्रोजेक्ट---

- 2016-17 में शास्त्री चौक से करीब दो किमी की चाल में स्कॉय वॉक का काम शुरू हुआ.
- 48 करोड़ रुपये की लागत से टेंडर जारी किया गया लखनऊ की एक्सप्रेस वे निर्माण एजेंसी को, जो आगे इसकी कीमत बढ़ती गई जो 70 करोड़ तक पहुंच गई है.
- 2018 के जून महीने तक हर हाल में स्कॉय वॉक बनाने का लक्ष्य रखा गया, लेकिन एजेंसी पिछड़ गई.
Loading...

- 11 वें महीने में विधानसभा चुनाव के बाद कांग्रेस की नई सरकार ने निर्माण पर रोक लगाया, राय शुमारी तय की.
- 05 महीने बाद लोक निर्माण विभाग को सीएम हाउस से चिट्ठी मिली. बताया गया कि दोबारा सर्वे फिर निर्माण होगा.
- दोबारा सर्वे का काम अब पूरा हो चुका है. साथ ही जनता से भी इस बारे में रायशुमारी की जा रही है.
वीओ - अब आम जनता इस प्रोजेक्ट पर क्या कहती है ये भी सुन लिजिए..

बीजेपी ने कही ये बात

इधर स्काईवॉक तोड़ने को बीजेपी गलत बता रही है. बीजेपी नेती जेपी शर्मा का कहना है कि सर्वे के बाद ही इस प्रोजेक्ट को बनाया गया था. क्योंकि ये बीजेपी का प्रोजेक्ट था इसलिए ही कांग्रेस सरकार इसे तोड़ने जा रही है.

ये भी पढ़ें: घर में अकेले होने का फायदा उठाकर 11 साल की बच्ची से रेप

ये भी पढ़ें:  बीजापुर कलेक्टर ने जारी किया 'अजीबोगरीब' फरमान 

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स    
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...