लाइव टीवी

रायपुर में छांटने की बजाय पेड़ों को काट रहा हाउसिंग बोर्ड, अफसर बेपरवाह

Raghwendra Sahu | News18 Chhattisgarh
Updated: October 23, 2019, 11:33 AM IST
रायपुर में छांटने की बजाय पेड़ों को काट रहा हाउसिंग बोर्ड, अफसर बेपरवाह
हाउसिंग बोर्ड पेड़ों की अवैध कटाई करा रहा है.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Raipur) के हाउसिंग बोर्ड (Housing Board) कॉलोनी सेजबहार में पर्यावरण से खिलवाड़ किया जा रहा है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Raipur) के हाउसिंग बोर्ड (Housing Board) कॉलोनी सेजबहार में पर्यावरण से खिलवाड़ किया जा रहा है. ये खिलवाड़ खुद हाउसिंग बोर्ड प्रबंधन कर रहा है. मनमाने तरीके से कालोनी में पेड़ों (Tree) की छंटनी के नाम पर पेड़ काटे जा रहे हैं. बुधवार की सुबह हाउसिंग बोर्ड (Housing Board) द्वारा 3 पेड़ों को जड़ के पास से काट दिया गया है. एक पेड़ तो जड़ से ही उखड़ गया है. वहीं कुछ पेड़ों को 6 फीट हाइट के उपर पूरा छांट दिया गया है.

दरअसल रायपुर (Raipur) के सेजबहार कॉलोनी में बिजली के खंभों में लगे बिजली तार तक कई पेड़ों की डंगालें पहुंच गईं थी. सुरक्षा के लिहाज से कुछ फीट तक पेड़ों की छटाई की जानी थी. लेकिन हाउसिंग बोर्ड (Housing Board) की ओर से इन पेड़ों की कुछ फीट की छंटाई की बजाय एक फीट छोड़कर पेड़ों की कटाई ही कर दी जा रही है. जिससे पर्यावरण प्रेमियों में नाराजगी है. केवल हाउसिंग बोर्ड ही इस तरह पेड़ों की अवैध कटाई करा रहा है, ऐसा भी नहीं है. बल्कि कॉलोनी में बहुत से ऐसे लोग भी हैं, जिनका मकान सामने है और पर्याप्त जगह होने के बाद भी सालों पहले हाउसिंग बोर्ड द्वारा लगाए गए पेड़ों को अपनी सुविधा के लिए काट दे रहे हैं इनमें बहुत से ऐसे लोग हैं जो इन सामने के मकानों में दुकान निकालकर दुकानें खोल रहे हैं और इस कारण भी पेड़ों को काट रहे हैं.

chhattisgarh
सेजबहार में पर्यावरण से खिलवाड़ खुद हाउसिंग बोर्ड प्रबंधन कर रहा है.


अफसर बेपरवाह

हाउसिंग बोर्ड के नियमानुसार लोगों को अपने घरों के सामने दो पेड़ लगाना अनिवार्य है, लेकिन लोग नियमों का पालन तो नहीं करते उल्टे पहले से लगाए गए मुख्य मार्ग के पेड़ों को अवैध तरीके से काट रहे हैं और हाउसिंग बोर्ड के अधिकारी बेपरवाह बने हुए हैं. कॉलोनी के ही निवासी दीपक चौधरी का कहना है कि इस तरह पेड़ों को काटा जाना बहुत ही गलत है. सालों लगते हैं एक पेड़ को बड़ा होने में और हाउसिंग बोर्ड के साथ ही लोग जिस तरह पेड़ों को काट रहे हैं इससे बहुत दु:ख होता है. मैंने खुद पर्यावरण संरक्षण के लिए अपने घर में कई पेड़ लगाए हैं. वहीं इस मामले में हाउसिंग बोर्ड के ईई एसके गुप्ता का कहना है कि बिजली के तारों से बचाने पेड़ों की छंटनी की गई है. अगर पेड़ों को ज्यादा काट दिया गया है तो मैं इसकी जांच करवाता हूं.

ये भी पढ़ें: ATM में किसी से मदद ले रहे हैं तो सावधान! ऐसे निशाना बनाते हैं ठग  

बस्तर के इस रेड कॉरिडोर में कमजोर पड़े नक्सली, नहीं मिल रहे नये लड़ाके!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 23, 2019, 11:33 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...