लाइव टीवी

हाउसिंग बोर्ड स्वतंत्र मकानों वाले कॉलोनियों में वसूलेगा मेंटनेंस चार्ज, लोगों में नाराजगी

Raghwendra Sahu | News18 Chhattisgarh
Updated: October 21, 2019, 5:06 PM IST
हाउसिंग बोर्ड स्वतंत्र मकानों वाले कॉलोनियों में वसूलेगा मेंटनेंस चार्ज, लोगों में नाराजगी
हाउसिंग बोर्ड ने कॉलोनी के हितग्राहियों को नोटिस भी जारी करना शुरू कर दिया है.

छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड (Chhattisgarh Housing Board) की स्वतंत्र मकानों वाले कालोनियों में भी अब बोर्ड लोगों से मेंटेनेंस चार्ज (Maintenance Charge) वसूलने जा रहा है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड (Chhattisgarh Housing Board) की स्वतंत्र मकानों वाले कालोनियों में भी अब हाउसिंग बोर्ड लोगों से मेंटेनेंस चार्ज (Maintenance Charge) वसूलने जा रहा है. ये मेटेंनेस चार्ज ईडब्ल्यूएस मकानों के लिए 12 सौ रुपए से लेकर एलआईजी मकानों के लिए 3720 रुपए तक सालाना है. चूंकि ईडबल्यूएस और एलआईजी (LIG) मकानों में कमजोर वर्ग के लोग रहते हैं और पानी के सालाना 24 सौ रुपए के अलावा इस तरह सालाना मेंटेनेंस शुल्क लिए जाने से लोगों में नाराजगी है.

छत्तीसगढ़ हाउसिंग बोर्ड (Chhattisgarh Housing Board) ने रायपुर (Raipur) के सेजबहार, खिलोरा, आरंग, गातापार, बेलभाठा, धरमपुरा की कालोनियों के लिए पिछले महीने से लोगों को नोटिस देना भी शुरू कर दिया है, लेकिन इन कॉलोनियों में सफाई का बुरा हाल है. सेजबहार के लोगों ने बताया कि कॉलोनी में सफाई व्यवस्था व अन्य मेंटेनेंस को लेकर ठेकेदारों द्वारा मनमानी की जाती है. समय पर न तो पानी की टंकियों की सफाई होती है और न ही नालियों की सफाई हो पाती है.

Chhattisgarh
हाउसिंग बोर्ड के सेजबहार कॉलोली में पसरी गंदगी.


बीमार पड़ रहे लोग

सेजबहार कॉलोनी के अखिलेश द्विवेदी ने बताया कि पानी टंकियों की सफाई नहीं होने से लोग बीमार पड़ रहे हैं. शिकायत के बाद भी कोई ठोस कदम नहीं उठाए जा रहे हैं. कॉलोनी के ही प्रदीप चौधरी ने बताया कि कॉलोनी में सफाई करने के लिए ठेकेदार का गैरजिम्मेदराना रवैया रहता है. शिकायत के बाद भी कोई कार्रवाई नहीं की जाती है.

मानवाधिकार आयोग में शिकायत
राम शर्मा का कहना है कि बोर्ड ने मेंटेनेंस चार्ज के लिए जो राशि तय की है, उतनी राशि तो नगर निगम के क्षेत्र की कॉलोनियों में भी नहीं वसूली जाती है. वहीं सुशील भगत का कहना है कि कॉलोनी में सफाई नहीं होने को लेकर साल 2015 में मानवाधिकार आयोग में भी शिकायत की गई थी, लेकिन अब तक कोई उचित कार्रवाई नहीं की गई है. हाउसिंग बोर्ड द्वारा लोगों को परेशान करने का काम किया जा रहा है.
Loading...

ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ में मची राम नाम की लूट, BJP से आगे निकली कांग्रेस!   

प्रसूता के शव को मर्दों ने कंधा देने से किया इनकार, महिलाओं ने खटिया पर लादकर पंहुचाया श्मशान 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 21, 2019, 5:06 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...