लोकसभा चुनाव 2019: ...तो क्या इस वजह से रिटायर्ड अफसरों का राजनीति से हो रहा 'मोहभंग'?

अफसर से नेता बनने के लिए विधानसभा चुनाव 2018 में होड़ सी लगी थी. लेकिन तीन महीने के अंदर ही अफसरों का राजनीतिक दलों में शामिल होने का भूत उतर सा गया है.

Surendra Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: April 6, 2019, 10:02 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019: ...तो क्या इस वजह से रिटायर्ड अफसरों का राजनीति से हो रहा 'मोहभंग'?
demo pic
Surendra Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: April 6, 2019, 10:02 AM IST
छत्तीसगढ़ में रिटायर्ड और इस्तीफा देकर राजनीति में आने वाले सरकारी अफसरों का 2018 में हुए विधानसभा चुनाव में जैसे तांता सा लगा हुआ था. लेकिन लोकसभा चुनाव आते-आते ऐसे अफसरों का राजनीतिक से मोहभंग हो गया है. विधानसभा चुनाव में न ही भाजपा और न ही कांग्रेस पार्टी में अफसरों को दिलचस्पी रह गई है. गौरलतब हो, सूबे में अफसर से नेता बनने के लिए विधानसभा चुनाव 2018 में होड़ सी लगी थी. लेकिन तीन महीने के अंदर ही अफसरों का राजनीतिक दलों में शामिल होने का भूत उतर सा गया है.

वहीं दूसरी और कांग्रेस पार्टी में शामिल हुए रिटायर्ड अफसरों को पार्टी ने अभी भी अपनी पलकों पर बैठाए हुए है. कई रिटायर्ड अफसरों को पार्टी ने विधानसभा चुनाव में मौका दिया और वो विधायक भी बन गए, जिसमे रिटायर्ड आईएएस शिशुपाल सोरी कांकेर से विधायक है और अनूप नाग अंतागढ़ से कांग्रेस विधायक है. वहीं रिटायर्ड आईएएस आरपीएस त्यागी कांग्रेस के सक्रिय नेताओं में शामिल होकर पार्टी के लिए काम कर रहे है.

demo pic


भाजपा में पिछले साल 2018 में 24 से अधिक प्रशासनिक अफसर और समाजसेवियों ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह के सामने पार्टी में शामिल हुए थे. लेकिन सूबे में कांग्रेस की सत्ता आने के बाद ढाई महीने में ही सभी प्रशासनिक अफसरों ने भाजपा से इस्तीफा दे दिया है. अभी केवल पूर्व आईएएस ओपी चौधरी ही भाजपा में नेता बचे है.

भाजपा


इस पूरे मामले में पीसीसी संचार विभाग अध्यक्ष शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि भाजपा में कई रिटायर्ड आईएएस तो हुए लेकिन सभी ने पार्टी को अलविदा कह दिया. उनका कहना है कि भाजपा में शामिल होने के बाद अफसरों को पार्टी की हकीकत मालूम हुई. इसलिए सभी ने पार्टी छोड़ दी. तो वहीं भाजपा के वरिष्ठ नेता नवीन मार्कंण्डेय का कहना है कि जिन अफसरों को हमारी पार्टी की सही पहचना है वे अभी भी पार्टी का हिस्सा हैं और मिलकर पार्टी के लिए काम कर रहे हैं. तो वहीं पूर्व सीएम अजीत जोगी का कहना है कि राजनीति में आना-जाना लगा रहता है. किसी के आने-जाने से कोई ज्यादा फर्क नहीं पड़ता.

कांग्रेस

Loading...

ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस का बड़ा आरोप, भाजपा के पास नहीं है प्रचार के लिए संसाधन  

जशपुर के पंडरीपानी पहुंचे 8 देशों से विदेशी मेहमान, जलवायु परिवर्तन पर करेंगे अध्ययन

लोकसभा चुनाव 2019: दुर्ग सीट पर होगी 'रिश्तों' में जंग, इस वजह से होगा दिलचस्प मुकाबला  

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स   

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: April 6, 2019, 9:52 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...