मुश्किलों में छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम, इस वजह से नहीं बिक रही NCERT की किताबें

11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों को पुस्तकों के लिए भटकना ना पड़े और सस्ती दरों पर उन्हे किताबें मुहैया हो जाए इसलिए छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम ने कक्षा 11वीं- 12वीं की पुस्तकें छापी.

Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: July 6, 2019, 1:23 PM IST
मुश्किलों में छत्तीसगढ़ पाठ्य पुस्तक निगम, इस वजह से नहीं बिक रही NCERT की किताबें
रायपुर में नहीं बिक रही एनसीईआरटी की किताबें.
Devwrat Bhagat
Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: July 6, 2019, 1:23 PM IST
छत्तीसगढ़ में 11वीं और 12वीं कक्षा के छात्रों को पुस्तकों के लिए भटकना ना पड़े और सस्ती दरों पर उन्हे किताबें मुहैया हो जाए इसलिए छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम ने कक्षा 11वीं- 12वीं की पुस्तकें छापी. लेकिन अधिकतर स्कूलों में निजी प्रकाशकों की किताबें चल रही है. इस वजह से पाठ्य पुस्तक निगम द्वारा छापी गई किताबें नहीं बिक रही है. किताबे नहीं बिकने से निगम को लगातार घाटा हो रहा है. हालांकि पाठ्यपुस्तक  निगम ने किताबों को बेचने के लिए अपनी वेबसाइट पर ऑनलाइन सुविधा दी है. ये किताबें निगम के डिपो में भी है. डिपो से खरीदने पर पालकों को 15 प्रतिशत तक छूट मिलने की भी बात कही जा रही है. वहीं निगम के महाप्रबंधक अशोक चतुर्वेदी इस बात को स्वीकार करते हैं कि निजी प्रकाशकों द्वारा ज्यादा कमीशन मिलने की वजह से कई स्कूलों में उनकी किताबें बिक ही नहीं रही है.

इधर पाठ्य पुस्तक निगम ने 10वीं और 12वीं की किताबों में निगम और निजी प्रकाशकों द्वारा छापी गई किताबों के अंतर को भी बताया है.

निगम द्वारा मुद्रित प्रकाशकों की पुस्तकों की कीमतों में अंतर
पुस्तक का नाम                                     निगम की कीमत                            निजी प्रकाशकों की कीमत

गणित भाग-1 एवं भाग-2                     180.00 रूपए                               300 से 365 रूपए
जीव विज्ञान                                      200.00 रूपए                               350 से 385 रूपए
रसायन भाग-1 एवं भाग-2                 260.00 रूपए                               395 से 440 रूपए
Loading...

भौतिक भाग-1 एवं भाग-2                 235.00 रूपए                               350 से 390 रूपए
अर्थशास्त्र में सांख्यिकी भाग-1-2        140.00 रूपए                               165 से 195 रूपए
व्यावसायिक अध्ययन                         70.00 रूपए                                 125 से 199 रूपए
लेखाशास्त्र वित्तीय लेखांकन भाग-1-2    145.00 रूपए                            225 से 310 रूपए

जिम्मेदारों की दलील

सीधी सी बात है कि निजी प्रकाशकों से मिलने वाले कमीशन की वजह से एनसीआरटी की सस्ती दर पर मिलने वाली किताबे नहीं बिक रही है. इसे लेकर पालक संघ की सदस्य किर्ती चावड़ा का कहना है कि शासन द्वारा निजी स्कूलों पर कोई दबाव नहीं होने की वजह से ही ऐसा हो रहा है. इधर जिला शिक्षा अधिकारी जीआर चंद्राकर का कहना है कि उनके संज्ञान में अब तक ऐसा कोई मामला ही नहीं आया जहां एनसीआरटी की जगह दूसरे प्रकाशकों की किताबें चलाई जा रही हो.

ये भी पढ़ें:

बैगा आदिवासियों की पिटाई के मामले ने पकड़ा तूल, वन विभाग पर कार्रवाई की मांग 

छत्तीसगढ़: कई इलाकों में हो सकती है भारी बारिश, सुकमा में तूफान से आफत

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 6, 2019, 1:23 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...