• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • छत्तीसगढ़ी में पढ़ें: लसलस ले फेर डारा मन लहसगेहें कोहा झन मारहू

छत्तीसगढ़ी में पढ़ें: लसलस ले फेर डारा मन लहसगेहें कोहा झन मारहू

सांकेतिक फोटो.

सांकेतिक फोटो.

कोहा कोनो नानमुन चीज नोहे. लउछरहा परगे ततके मा अलहन करा देथे. आजकल के बाताचीती घलो कोहा मारे कस काम करत हावे. जिनगी मा घटना बढ़ना लगे रथे फेर गरब गुमान करइया बर घटई बढ़ई ले काहीं फरक नइ परय.

  • Share this:

कोहा कोनो नानमुन चीज नोहे. लउछरहा परगे ततके मा अलहन करा देथे. आजकल के बाताचीती घलो कोहा मारे कस काम करत हावे. जिनगी मा घटना बढ़ना लगे रथे फेर गरब गुमान करइया बर घटई बढ़ई ले काहीं फरक नइ परय. आंखी मा झुलना झुलइया तंय मयारूक कतको झन के तोला थोरको घाम झन परह अइसे आर्शीवाद देवइया कतको मिल जहीं. आशीष ला बनाए नइ जा सकय. देखाए नइ जा सकय. मन के भितरी मा समाए रथे. जग मा उजियार रहय तोर नाम गांव बस अतके मा सबो समाए हावय. नजर ले नजर टकराए मा नजर घलाव लाग जथे कथें.

कथें ते का कथें एला आजतक फरियाके बतइया नइये.लगगे तेन निसाना ए अउ नइ लगिस तेन लागा ए. जेन नेंग चलत आवत हे तेला निभाना घलो परथे. निछावर करे के बेरा मन भितरी का चलथे तेला कोनो बताए के जरूरत नइ राहय बस पबरित मन के आशा अउ विसवास झलकथे.

नव के रेंगबे त कांटा खुटी ला जान डारबे
बने तनिया के रेंगइया हा कई पईत धोका मा पर जथे. अपट परे त हर गंगा अइसे केहे गेहे. पतियाए बात मा सदादिन सुख अउ खुशी मिलथे. चलत आवत हे तेने ला चलाना बने बात ए तभो समय परे मा कुछु न कुछु थोर बहुत परिवर्तन घलाव होवत रहना चाही. सबो जगा सुविधा के भरमार होगे हे. छकड़ा गाड़ी मा चढ़ईया मोटर गाड़ी वाला होगे हें. कतको हमरो सेती सुख बिसइया हमर परिवार सुखी राहय. कभू अपन सेती कोनो ला दुःख पीरा झन होवय अइसे बनाके रहना चाही. धरती माता ए ओखर कोरा मा सुख हे तेला जानव.

सबल होवय फेर निर्बल ला जानय
प्रकृति मा सबो सार सार ला जाने समझे अउ समझाए के नियम बनेहे. मीठ मीठ पाना हे ते फरे फर ला झन झोर ओकर मरम ला जान. फरती अउ कोहा के परती ला कोनो नइ भावंय. जानती बात हरय अइसे झुके डारा मा संदेश हावय ओर मान होवय बस अतके परताप हे हमर प्रकृति करा.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन