• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • छत्तीसगढ़ी व्यंग्य: सांय-सांय-भांय के बीच खुलिस स्कूल

छत्तीसगढ़ी व्यंग्य: सांय-सांय-भांय के बीच खुलिस स्कूल

सांकेतिक तस्वीर.

सांकेतिक तस्वीर.

शिक्षा अभियान के इंजन कोइला खाय, धुंगिया छोड़े, भाप पिए, सीटी बजाय, फेर धक़-धक करत छोटे, संकरू/या बड़े-चवडू पटरी म दउड़े. ठीक कोइला वाले छुक-छुक रेल इंजन कस. जे करा हाथ मार देय इंजन वुही करा ठाड़ हो जाय. शिक्षा-विभाग के अफसर मन के इही हाल हे.

  • Share this:

छत्तीसगढ़ म सत्रह महीना ले बंद स्कूल खुलिस..‘मोहल्ला क्लास’, ‘शिक्षा तुंहर दुआर’, ‘शिक्षा तुंहर अंगना’ ‘पोंगा-पढ़ई’ आन-लाईन, आफ-लाईन शिक्षण सरकार के तरह-तरह के अभियान चलिस. एमा कुछु अभियान बंद होगे, कुछु चलत हे. सरकारी अभियान म कोनो जगा अंजोर, कोनो जगा चुमुक ले अंधियार होथे.  राजीव गाँधी शिक्षा अभियान के इंजन कोइला खाय, धुंगिया छोड़े, भाप पिए, सीटी बजाय, फेर धक़-धक करत छोटे, संकरू/या बड़े-चवडू पटरी म दउड़े. ठीक कोइला वाले छुक-छुक रेल इंजन कस. जे करा हाथ मार देय वुही करा ठाड़ हो जाय. शिक्षा-विभाग के अफसर मन के इही हाल हे. कोरोना-काल म घलो अपन पीठ आप थपथपायें. राजधानी वाले अपन फोटू सहित खबर छपवाइंन. ट्रायल फेल. असफल परचार जारी हे.

आन-लाईन, आफ लाईन शिक्षा  
आन-लाईन ल लेके आफ-लाईन तक लइका मन के पढ़े-पढ़ाय बर गुरूजी मन कोशिश करिन. कोरोना के महानाश के चलते-चलत बालक, पालक अउ गुरूजी मन के जी अभू पोटपोट करत हे. स्कूल ल खोलना बड़ हिम्मत के बात होगे हे. मिडिल स्कूल के दु कक्षा खुलगे फेर के पचास फीसदी के जगा म तीस-पैतीस फीसदी लइका स्कूल आवत हें. दसवीं-बारहवीं के बीस फीसदी लइका स्कूल आवत हें. पालक मन कोरोना के डर के मारे लइका मन ल स्कूल भेजे बर घबरावत हें! केंद्र सरकार कुपोषण पीड़ित क्षेत्र के लइका मन ल अब मध्यान्ह भोजन के पहिली नास्ता देही.

वैक्सीन-प्रेरना
छत्तीसगढ़ म कोरोना-प्रकोप नहीं के बरोबर हे. तीसर लहर के डर कलेचुप खोपड़ी ले बाहिर निकलथे. थोरकुन म घूम फिर के फेर खपड़ी म आ बइठथे. फेर शोले फिल्म के डायलाग झिंझोरथे ‘जो डर गया, सो मर गया’. अइसना म मोदीजी के वैक्सीन काम आथे- “कोरोना कम हुआ है, अभी गया नहीं है.”चेलिक लइका मन ल गोठियावत सुने गे हे- ‘कोरोना कम हुआ है, अभी गया नहीं है’. जाहिर हे कि कोरोना कोनो जघा लुकाय होही. कोरोना वैक्सीन लगाय के प्रेरना मिलत हे. स्कूल के सब गुरूजी, मैडम जी मन ल कोरोना वैक्सीन लग गे हे. स्कूल म कोरोना के सब नियम लागू हे.

 टीका के दुकाल-सुकाल
टीका के दुकाल-सुकाल दुनो चलत हे. पहला डोज लगे हे, त दूसरा डोज उरकगे हे. दुसरा डोज के टीका ह अइस हे त पहला डोज बर लुल्वासी होवत हे. कोविशिल्ड मिलथे त कोवैक्सीन के दुकाल होथे. चाहे जइसे होय अटक-अटक के होय के लटक-झटक कोरोना के तीसरा लहर के डर के मारे टीका सुंघियावत टीका केंद्र पहुंच जात हें. फेर अब टीका संकट नइ टिक सके.

रीढ़ के खोज
शिक्षा-विभाग के रीढ़ टेड़गा-बेड़गा हे. कोरोना के पहिली अउ कोरोना के बाद म ओखर गति अष्टावक्र कस यथावत हे. शिक्षा म बुनियाद के शिक्षा ल लेके उपर तक सब अगड़म-बगड़म हे. शिक्षा ल सरकारजी मन आवत-जावत खूब रऊँदे हें. कोनो जगा माडी भर, कोनो जगा गाड़ी भर त कोनो जगा नरी के आवत ले लद्दी (दलदल) हे. शिक्षा मिशन के काल म मिशन के थोरकुन हवा चले त झट झर-झर झर-झर नोट बरस जाय. कंगलूराम कस मनखे मंगलूराम होगें. अगड़म-बगड़म परयोग शिक्षा के चटनी पिस दिस. वो समे मरहा अधिकारी मन लाल-बाल खूब होइन. अंटियावत अइसे रेंगे के पहेलवान लगें. भीतरे-भीतरे अइसे डकार चले के भोपाल-ताल म लाहरा उठ जाय. गुरूजी मन ल पढ़ई ले छोड़ के बाकी सब बुता म जोते जाय. सरकारी बइला, सरकारी तुतारी. दउड़त राहों आरी-पारी. शिक्षा विभाग म जब-जब  हरियर चारा वाले प्रोजेक्ट शुरू होथे तब तब अधिकारी सफेद हाथी कस दिखथें.

कौशल-भारत-कुशल भारत
.अब ओ दिन गे जब …मिशन माने रूपिया के पेड़ होय. जतका हलाबे ओतका रूपिया पाबे.  अब स्कूल म छोटे कक्षा से स्कील-शिक्षा (कौशल-शिक्षा) दे जही. नव शिक्षण-सत्र 2021-22 तक देश के बारह हजार ले जादा स्कूल म कौशल-विकास पाठ्यकम लागू होवत हे.एमा डाटा साइंस अउ  कोडिंग शामिल हे. सन 2025 तक स्कूल मन से जुड़े पचास फीसदी छात्र मन ल एमा कुशल बनाय जही. नवा पीढी हुनरमंद होही. कौशल-भारत-कुशल भारत ले पहिली के शिक्षा मिशन माने नोट –कमाओ मिशन कस ये मिशन  नई चले.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन