लाइव टीवी

मजबूत विपक्ष का दावा करने वाली BJP में छाई 'खामोशी', आला नेता चुनावी मैदान से नदारद

Mamta Lanjewar | News18 Chhattisgarh
Updated: October 12, 2019, 11:34 AM IST
मजबूत विपक्ष का दावा करने वाली BJP में छाई 'खामोशी', आला नेता चुनावी मैदान से नदारद
चित्रकोट उपचुनाव काफी नजदीक है, फिर भी बीजेपी नेता चुनावी मैदान से नदारद हैं. (File Photo)

राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि बीजेपी हर मुद्दे पर घिरती नजर आ रही है. ऐसे में पार्टी रणनीति तय ही नहीं कर पा रही. नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी को इससे नुकसान भी हो सकता है.

  • Share this:
रायपुर. लोकतंत्र में विपक्ष जनता की आवाज होता है. वह आम आदमी के मुद्दों को लेकर सरकार के सामने खड़ा रहता है, लेकिन छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) से इन दिनों विपक्ष गायब है. सूबे में कई ऐसे मुद्दे हैं जिसकी प्रगति के बारे में सरकार से बीजेपी (BJP) सवाल कर सकती है, लेकिन छत्तीसगढ़ बीजेपी में एक अजीब सी खामोशी पसरी हुई है. ये खामोशी तब भी हैरान करती है जब बेहद करीब चित्रकोट का उपचुनाव है. फिर भी बीजेपी के नेता मैदान से नदारद हैं. अगर पार्टी की स्थिति ऐसी ही रही तो आने वाले चुनाव में बड़ा नुकसान भी हो सकता है

क्या है बीजेपी की रणनीति

छत्तीसगढ़ बीजेपी में एक अजीब सी खामोशी पसरी हुई है. आजकल राज्य की सबसे बड़ी पार्टी के नेता एक साथ सिर्फ प्रदेश बीजेपी दफ्तर एकात्म परिसर या कुशाभाऊ ठाकरे परिसर में आयोजित बैठकों में ही दिखते हैं, लेकिन सड़क की लड़ाई से पूरी तरह गायब हैं. ये खामोशी तब और हैरान करती है जब सामने चित्रकोट उपचुनाव है और इस चुनाव के साथ बीजेपी का बस्तर में अस्तित्व भी जूड़ा हुआ है. लेकिन चुनाव मैदान से भी बड़े नेता गायब हैं.

chhattisgarh news, dantewada bypoll, dantewada by election news, by election result, bomb recovered in sukma, security forces recovered bomb in sukma, sukma news, छत्तीसगढ़ न्यूज, सुकमा न्यूज,  सुकमा में मिला बम, सुकमा में मिला आईईडी, नारायपुर में ब्लास्ट, दंतेवाड़ा उपचुनाव न्यूज, उपचुनाव न्यूज
ये खामोशी तब भी हैरान करती है जब बेहद करीब चित्रकोट का उपचुनाव है. फिर भी बीजेपी के नेता मैदान से नदारद हैं. (फाइल फोटो)


सवाल ये है कि राज्य की सबसे बड़ी पार्टी के खामोशी की वजह क्या है? क्या अपने कई दिग्गजों के तमाम तरह के घोटालों के आरोपों में घिरे रहने के बाद बीजेपी ने चुप्पी एक रणनीति के तहत साधी है और सड़क की लड़ाई से थोडे़ दिनों के लिए किनारा कर लेने में ही भलाई समझी है. या इसके पीछे कोई डर है.

 राजनीति भी जोरों पर

हालांकि बीजेपी इसकी कुछ और ही वजह बता रही है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेण्डी का कहना है कि पार्टी लगातार अपनी बातों को सामने रख रही है. फिलहाल संगठन में भी चुनाव चल रहे हैं. इसके साथ-साथ नगरीय निकाय चुनाव की तैयारी भी चल रही है. 9 महीनों में हमारे पास सरकार को लेकर काफी मुद्दे हैं. तो वहीं कांग्रेस संचार विभाग के प्रमुख शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि बीजेपी राजनीतिक कोमा में जा चुकी है. बीजेपी का ये रवैया लोकतंत्र के लिए खतरनाक हो सकता है. तो वहीं राजनीतिक विश्लेषकों का कहना है कि बीजेपी हर मुद्दे पर घिरती नजर आ रही है. ऐसे में पार्टी रणनीति तय ही नहीं कर पा रही. नगरीय निकाय चुनाव में पार्टी को इससे नुकसान भी हो सकता है.
Loading...

ये भी पढ़ें: 

मां ने मोबाइल चलाने पर लगाई डांट, बेटी ने फांसी लगाकर कर ली खुदकुशी 

छत्तीसगढ़ में अगर है रामराज, तो CM भूपेश बघेल वापस ले लें मेरी सुरक्षा: रमन सिंह  

 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 12, 2019, 11:25 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...