लॉकडाउन में सीएम भूपेश बघेल की चिठ्ठीबाजी, 48 दिन में केन्द्र सरकार को लिखे 20 खत
Raipur News in Hindi

लॉकडाउन में सीएम भूपेश बघेल की चिठ्ठीबाजी, 48 दिन में केन्द्र सरकार को लिखे 20 खत
छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल और पीएम नरेन्द्र मोदी के मुलाकात की फाइल फोटो.

आर्थिक संकट को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने केन्द्र सरकार से राहत मांगने के लिए पत्र लिखना शुरू किया.

  • Share this:
रायपुर. कोरोना वायरस (Corona Virus) के संक्रमण (Covid-19) के फैलने के खतरे को देखते हुए लॉकडाउन (Lockdown) को लागू किया गया. पूरे देश में 25 मार्च से लॉकडाउन लागू कर दिया गया. अत्यावश्यक सेवाओं को छोड़कर सभी को बंद कर दिया गया. छत्तीसगढ़ में भी लॉकडाउन को केन्द्र सरकार की गाइडलाइन के अनुसार लागू कर दिया गया. लॉकडाउन 1, 2 और 3 क्रमशः लागू है, लेकिन इस बीच राज्य के सामने कई समस्याएं भी आकर खड़ी हो गई. मसलन आर्थिक संकट की स्थिति बनती गई.

आर्थिक संकट को लेकर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने केन्द्र सरकार से राहत मांगने के लिए पत्र लिखना शुरू किया. लॉकडाउन की 48 दिन के समयावधि में केन्द्र सरकार से 20 बार पत्र लिखकर अपने राज्य की समस्याओं से अवगत कराया. मुख्यमंत्री ने अपने पत्रों के माध्यम से सबसे ज्यादा मजदूरों और असंगठित कामगारों की समस्याओं को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को पत्र लिखकर राहत पैकेज देने का अनुरोध किया है.

10 बार पीएम को पत्र
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को 10 बार अपने पत्रों के माध्यम से अलग अलग पैकेज और समस्याओं से रुबरु कराने के लिए लगातार पत्र लिख है. 3 बार केन्द्रीय खाद्य मंत्री राम विलास पासवान को कोरोना को देखते हुए देश के अन्य राज्यों को पीडीएस के लिए चावल की आवश्यकता की पूर्ति के लिए छत्तीसगढ़ शासन सहयोग देने के लिए तैयार है, जिसके लिए चावल का उपार्जन की मात्रा 24 लाख मीट्रिक टन से बढ़ाकर 31.11 लाख मीट्रिक टन चावल करने को लेकर अनुरोध कर चुके है,सरप्लस चावल का समुचित निराकरण नहीं होने से राज्य को लगभग 1500 करोड़ रुपये का नुकसान हो रहा है.
पैकेज देने की मांग


सीएम भूपेश ने आर्थिक पैकेज के लिए 30 हजार करोड़ की राशि में 10 हजार करोड़ की राशि तत्काल देने की मांग केन्द्र सरकार से कर चुके हैं तो इस तरह से चाहे मजदूरों और अन्य लोगो के फंसे लोगो को लाने के लिए अतिरिक्त ट्रेन चलाने के लिए केन्द्रीय रेल मंत्री को पत्र लिख चुके है.

इस मद में करें खर्च
सीएम भूपेश के बार बार केन्द्र सरकार को लेकर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह का कहना है कि लोग भूखे प्यासे हैं, उनके लिए आपदा प्रबंधन के लिए जो पैसा मिला है उसमें से केवल 8 करोड़ खर्च किए है, ढाई हजार करोड़ की राशि जमा है.  राज्य सरकार अपना काम को छोड़कर सिर्फ पैकेज की मांग की जा रही है. अन्य राज्यों में 100-100 ट्रेने चल गई, लेकिन 1 लाख 60 हजार लोगो के लिए एक भी ट्रेन नही आयी है. ना तो राज्य सरकार एक भी ट्रेन एक मजदूर को ला पायी है.  तो वहीं दूसरी ओर छत्तीसगढ़ कांग्रेस के संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी का कहना है कि डॉ. रमन सिंह झूठ बोल रहे हैं. राज्य सरकार ने पैकेज की मांग की है, मनरेगा, जीएसटी का पैसा केन्द्र सरकार से मांगा है, राज्य के हित की बात को पुरजोर तरीके से रखा जा रहा है, राज्य सरकार प्रदेश के हितो की आवाज उठा रही है.
ये भी पढ़ें:
छत्‍तीसगढ़: पति से झगड़ा के बाद फेसबुक फ्रेंड से मिलने गई ग्वालियर, लॉकडाउन में फंसी तो.. 

4 ट्रेनों में होगी छत्तीसगढ़ के मजदूरों की वापसी, कराएं ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन, ये हेल्प लाइन नंबर भी जारी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज