लाइव टीवी

मुश्किलों में रायपुर स्मार्ट सिटी का ये ड्रीम प्रोजेक्ट, समय से पहले होने लगी 'बूढ़ी'
Raipur News in Hindi

Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: February 26, 2020, 4:13 PM IST
मुश्किलों में रायपुर स्मार्ट सिटी का ये ड्रीम प्रोजेक्ट, समय से पहले होने लगी 'बूढ़ी'
धीरे-धीरे कुटिया खाली हो गई है.

पूर्व महापौर और वर्तमान सभापति प्रमोद दुबे का कहना है कि अलग-अलग संस्थाओं ने इसे चलाने के लिए चाबी ली थी. लेकिन जब इसकी वर्तमान स्थिति देखी गई तब उन्होंने सामान गायब होने की बात कह दी.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Raipur) में बुजुर्गों के लिए बनायी गयी बापू की कुटिया के सामान चोरी हो गए हैं. शहर भर में रायपुर स्मार्ट सिटी कंपनी (Raipur Smart City) ने 27 बापू की कुटिया बनाई थी. लेकिन एक भी सही हालत में नहीं है और ज्यादातर जगहों से सामान गायब है. राजधानी में बापू की कुटिया चोरों (Theft) के निशाने पर है. रायपुर में बुजुर्गों के आमोद-प्रमोद के लिए अगल-अलग जगहों पर 27 बापू की कुटिया बनाई गई थी जिसमें जगह करीब 3 लाख रुपये के एलसीडी टीवी, कैरम, रेडियो और मनोरंजन के साधन उपलब्ध कराए गए थे. लेकिन यहां चोरों ने अपना हाथ साफ कर लिया है. धीरे-धीरे कुटिया खाली हो गई है.


गायब हो रहा सामान





राजधानी में जिन जगहों पर बापू की कुटिया बनाई गई थी उनमें से कटोरा तालाब, मोती बाग, देवेन्द्र नगर, टैगोर नगर समेत कई जगहों से सामान गायब हो चुके हैं. पूर्व महापौर और वर्तमान सभापति प्रमोद दुबे का कहना है कि अलग-अलग संस्थाओं ने इसे चलाने के लिए चाबी ली थी. लेकिन जब इसकी वर्तमान स्थिति देखी गई तब उन्होंने सामान गायब होने की बात कह दी. अब इस मामले में सूबे के पूर्व मेयर प्रमोद दुबे खुद एफआईआर दर्ज कराने की बात कह रहे हैं.


महापौर की दलील




सामान कब चोरी हुआ, कहां गायब हुआ, किसी को नहीं पता. इन सभी चोरियों में से कुछ ही मामले थाने में दर्ज किए गए और इन मामलों की भी जांच नहीं की गई. आशंका ये भी है कि काफी सामान इसे संचालन करने वाली समितियों ने ले लिए है, लेकिन उनसे भी पुछताछ नहीं की गई. अब मेयर एजाज ढेबर का कहना है कि बीजेपी शासन के समय बनाई गई बापू की कुटिया की देखरेख सही तरीके से नहीं की गयी. इसलिए ऐसी स्थिति बनी है हालांकि मेयर ने भी एफआईआर दर्ज कराने की बात कही है.




मेयर ने भी एफआईआर दर्ज कराने की बात कही है. (File Photo)




स्मार्ट सिटी ने सीनियर सिटिजन्स को एक अच्छा माहौल देने के लिए इन कुटियों का निर्माण कराया था लेकिन बुजुर्गों के लिए बनाई गई बापू की कुटिया समय से पहले ही बूढ़ी हो गई है. यहां से बुजुर्गों का सामान यूं चोरी चला जाना लचर व्यवस्थाओं के साथ ही इसकी जिम्मेदारी उठाने वाली समितियों पर भी बड़ा सवाल खड़ा करती है.






ये भी पढ़ें: 





News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 26, 2020, 4:01 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading