लाइव टीवी

छत्तीसगढ़ में न तो सत्ता और न ही संगठन का विस्तार कर रही है कांग्रेस, सता रहा किस बात का डर?

Awadhesh Mishra | News18 Chhattisgarh
Updated: October 15, 2019, 9:34 AM IST
छत्तीसगढ़ में न तो सत्ता और न ही संगठन का विस्तार कर रही है कांग्रेस, सता रहा किस बात का डर?
कांग्रेस भीतरी असंतुलन और विरोध के डर से ना तो सत्ता का विस्तार कर पा रही है और ना ही संगठन का.

छत्तीसगढ़ कांग्रेस (Chhattisgarh Congress) को करीब चार माह पहले मोहन मरकाम (Mohan Markam) के रूप में नया पीसीसी चीफ मिला था, मगर चार माह बाद भी कार्यकारिणी का गठन नहीं किया जा सका है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में सत्ताधारी दल कांग्रेस (Congress) ना तो निगम मंडल में नियुक्ति के जरिए सत्ता का विस्तार कर रही है और न ही कार्यकारिणी गठित कर संगठन का. इसको लेकर कई तरह की चर्चाएं तेज हो गई हैं. चर्चा है कि आखिरकार कांग्रेस (Congress) किस बात से डरी हुई है. सूबे में 15 सालों बाद कांग्रेस पार्टी को सत्ता तो मिली, मगर सत्ता प्राप्ति के करीब 10 माह बाद भी निगम-मंडलों में नियुक्ति नहीं की गई है. इतना ही नहीं कांग्रेस संगठन में भी पदाधिकारियों की नये सिरे से नियुक्ति अब तक नहीं की गई है.

दरअसल छत्तीसगढ़ कांग्रेस (Chhattisgarh Congress) को करीब चार माह पहले मोहन मरकाम (Mohan Markam) के रूप में नया पीसीसी चीफ मिला था, मगर चार माह बाद भी कार्यकारिणी का गठन नहीं किया जा सका है. जिसके बाद राजनीतिक गलियारों में कई तरह की चर्चाएं तेज हो रही हैं. चर्चा है कि कांग्रेस भीतरी असंतुलन और विरोध के डर से ना तो सत्ता का विस्तार कर पा रही है और ना ही संगठन का. इसको लेकर न केवल विपक्षीय दल बल्कि जानकार भी कांग्रेस के संगठात्मक शक्ति पर सवाल उठा रहे हैं.

किससे डर रही कांग्रेस
बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता संजय श्रीवास्तव का कहना है कि कांग्रेस में अंदर ही अंदर घमासान मचा हुआ है. बड़े नेता गुटों में बटे हैं. इतना ही नहीं विपक्ष के आक्रामक रवैये से भी कांग्रेस डरी हुई है. इसके चलते ही सत्ता और संगठन का विस्तार नहीं कर पा रही है. प्रदेश के वरिष्ठ पत्रकार व राजनीतिक विश्लेषक बाबूलाल शर्मा का कहना है कि यदि सत्ता में आने के बाद 9 महीने बाद भी सरकार निगम मंडलों में नियुक्ति व कांग्रेस अपने संगठन का विस्तार नहीं कर पा रही है तो सवाल उठेंगे ही. इससे साफ है कि कांग्रेस में अंदर ही अंदर सबकुछ ठीक नहीं चल रहा है.

कैडर बेस पार्टी का दंभ!
साल 2018 के अंत में हुए विधानसभा चुनाव से कांग्रेस कैडर बेस पार्टी बनने का दंभ भर रही है, मगर धरातल पर संगठन विस्तार को लेकर आज तक पीछे हट रही है. जानकारों की माने तो चित्रकोट उपचुनाव के बाद संगठन का विस्तार किया जाएगा. वह भी अब तक के संगठात्मक गतिविधियों में सक्रियता के आधार पर. संगठन विस्तार के सवाल पर वरिष्ठ नेता और विधायक सत्यनारायण शर्मा ने अपनी पार्टी का बचाव करते हुए कहा कि सब काम ठीक समय पर किया जाएगा.

ये भी पढ़ें: शहादत पर भारी भ्रष्टाचार-2: 9 करोड़ की 712 गड्ढों वाली सड़क की जांच भी नहीं करने जाते इंजीनियर! 
Loading...

चित्रकोट उपचुनाव: बस्तर में राजनीतिक पार्टियों के एजेंडे से गायब है नक्सल समस्या

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 15, 2019, 9:34 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...