छत्तीसगढ़ में कोरोना ने बिगाड़े हालात, 24 घंटे में मिले 14 हजार से अधिक नए केस, 183 लोगों की मौत

छत्तीसगढ़ में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं, जिसमें सबसे ज्यादा रायपुर की हालत खराब है.

छत्तीसगढ़ में कोरोना से हालात बिगड़ते जा रहे हैं, जिसमें सबसे ज्यादा रायपुर की हालत खराब है.

छत्तीसगढ़ में कोरोना कहर कम नहीं हो रहा है, बुधवार को एक बार फिर से 24 घण्टे में 14 हजार 519 नए मरीज मिले हैं. वहीं रिकॉर्ड 183 लोगों की संक्रमण से मौत हुई है. इनमें सबसे ज्यादा राजधानी रायपुर जिले में 67 लोगों की मौत हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 22, 2021, 6:30 AM IST
  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ में एक बार फिर से कोरोना ब्लास्ट हुआ है. बीते 24 घण्टे में 14 हजार 519 नए मरीज मिले हैं. वहीं 24 घण्टे में रिकॉर्ड 183 लोगों की कोविड से मौत हुई है. इनमें से केवल रायपुर जिले में 67 लोगों की मौत हो गई है. रायपुर में 3081 नए मरीज मिले हैं, जो पूरे प्रदेश में सबसे ज्यादा हैं. दुर्ग में 1659 नए मरीज मिले हैं. 24 घण्टे में 16 हजार 188 लोगों ने कोरोना को मात दी और ठीक होकर अपने घर चले गए. अब प्रदेश में एक्टिव मरीजों की संख्या हुई 1 लाख 22 हजार 751 हो गई है. कुल पीड़ितों की संख्या हुई 5 लाख 88 हजार 818 है, वहीं छत्तीसगढ़ में कोरोना से अब तक 6467 लोगों की मौत हो गई है.  अब तक 4 लाख 59 हजार 600 मरीज हुए रिकवर हो चुके हैं.

इधर, छत्तीसगढ़ के CM भूपेश बघेल ने आज ऐलान कर दिया है कि राज्य में 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को कोरोना वैक्सीन का भुगतान राज्य सरकार करेगी. अपने नागरिकों की जीवन रक्षा के लिए हम हर संभव कदम उठाएंगे. सीएम भूपेश बघेल लगातार कोरोना के हालातों पर नजर बनाए हुए हैं. राजधानी रायपुर में ज्यादा हालात खराब हैं. इसलिए मुख्यमंत्री ने रायपुर में ऑक्सीजन सिलेंडर की आपूर्ति निरंतर बनाये रखने के लिये कलेक्टर को एक करोड़ रुपए की राशि की स्वीकृति प्रदान की है.

रेमडेसिविर की खरीदी के दिए निर्देश 

छत्तीसगढ़ में कोरोना के बढ़ते खतरे को देखते हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कलेक्टरों को तात्कालिक आवश्यकतानुसार रेमडेसिविर इंजेक्शन (Remdesivir) और अन्य आवश्यक जीवन रक्षक दवाओं की खरीदारी की अनुमति दी है. उन्होंने बालोद और मुंगेली में आरटीपीसीआर टेस्टिंग लैब की स्थापना की भी मंजूरी दे दी है. मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें बिना थके, बिना रूके कोरोना से लड़ाई जीतना है. सबके सहयोग और टीम भावना के साथ व्यवस्थित रूप से काम करने की जरूरत है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज