Assembly Banner 2021

लोकसभा चुनाव 2019: कार्यकर्ताओं की नाराजगी और अंतरकलह दूर करना बीजेपी के लिए होगी बड़ी चुनौती!

demo pic

demo pic

बीजेपी को बिखरी पार्टी समेटने की फिक्र सता रही है तो वहीं कांग्रेस के सामने प्रत्याशी चयन की एक बड़ी समस्या साबित हो सकती है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में भाजपा और कांग्रेस दोनों ने ही लोकसभा की पूरी की पूरी 11 सीटें जीतने का लक्ष्य बनाया है. हालांकि इन दावों के बीच बीजेपी के सामने बिखरी पार्टी को समेटने की बड़ी चुनौती है. कार्यकर्ताओं की नाराजगी और नेताओं के बीच जारी अंतरकलह को दूर करना भी बड़ी समस्‍या है. वहीं कांग्रेस विधानसभा की जीत से उत्साहित तो है, लेकिन पिछली तीन लोकसभा में केवल एक-एक सीट मिली थी. ऐसे में जमीन मजबूत बनाने से लेकर प्रत्याशी चयन तक की चुनौती है.

छत्तीसगढ़ में लोकसभा चुनाव को लेकर बीजेपी ने कमर कस ली है. पूरी की पूरी 11 सीटें जीतने के दावों के बीच पिछले तीन लोकसभा चुनावों से 11 में दस-दस सीट जीतने वाली भाजपा विधानसभा चुनाव के बाद कई चुनौतियों से गुजर रही है. विधानसभा चुनाव के बाद पार्टी से बूथ स्तर के कार्यकर्ता नाराज है. विधानसभा चुनाव में उपेक्षा के कारण कार्यकर्ताओं की नाराजगी ने पार्टी को सबसे बुरे प्रदर्शन स्तर पर पहुंचा दिया था. अब बीजेपी के सामने सबसे बड़ी चुनौती है कि कार्यकर्ताओं की नाराजगी और अंतरकलह दूर करने है.

बीजेपी कई आयोजन के जरिए कार्यकर्ताओं को संगठित करने की कोशिश कर रही है. कमल रंगोली और मेरा घर, भाजपा का घर अभियान चलाया जा रहा है. वहीं इसका कोई खास असर पार्टी पदाधिकारियों पर नहीं दिख रहा है. प्रदेश के करीब एक हजार से ज्यादा नेताओं के पद संभालने के बाद बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष विक्रम उसेंडी ने फोन पर संपर्क किया है. कार्यकर्ताओं को पार्टी के पक्ष में काम करने और उनकी समस्याओं को दूर करने का आश्वासन प्रदेश अध्यक्ष ने दिया है. हालांकि बड़े नेताओं के बीच मचे घमासान से निपटना भी सबसे बड़ी चुनौती है.



छत्तीसगढ़ बीजेपी में आला नेताओं के बीच वाकयुद्ध चल रहा है. बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ. रमन सिंह मानते हैं कि नाराजगी तो है. हालांकि वो कहते हैं कि एक घर में इस तरह की स्थिति कोई बड़ी बात नहीं है. वहीं कांग्रेस इस बार विधानसभा चुनाव के बाद उत्साह से लबरेज है. कांग्रेस प्रवक्ता शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि विधानसभा चुनाव के बाद पिछले दो महीनों में लिए गए राज्य सरकार के कुछ बड़े फैसले कांग्रेस की बड़ी ताकत है. हालांकि प्रत्याशी चयन और जमीन को मजबूत करना कांग्रेस के लिए भी बड़ी मूसीबत है.
हालांकि बीजेपी 11 में से 11 सीटें हासिल करने की बात दोहरा तो रही है लेकिन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केंद्र की योजनाओं के अलावा कुछ और नहीं पेश कर पा रही है. ‌वहीं कांग्रेस चूंकि केवल एक ही सीट जीती है ऐसे में उसे बीजेपी से कहीं ज्यादा मेहनत बूथ में करना पड़ सकता है.

ये भी पढ़ें:

लोकसभा चुनाव 2019: कांग्रेस ने फिक्स किया '11' का टारगेट, नए चेहरों पर लगाएगी दाव!

लोकसभा चुनाव 2019: छत्तीसगढ़ में ये हो सकती है कांग्रेस की 'Dream-11'  

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स  
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज