छत्तीसगढ़ में हुई छापेमारी पर वित्त मंत्रालय की सफाई, कहा- मिले थे कई इनपुट
Raipur News in Hindi

छत्तीसगढ़ में हुई छापेमारी पर वित्त मंत्रालय की सफाई, कहा- मिले थे कई इनपुट
27 फरवरी को आयकर विभाग ने रायपुर में कई जगहों पर छापेमारी की थी.

आयकर विभाग (Income Tax Department) की छत्तीसगढ़ के रायपुर (Raipur) में हुई छापेमारी के बाद केंद्र सरकार (Central Government) पर कई आरोप लगे थे. जिसके बाद इस मामले पर वित्त मंत्रालय ने सफाई दी है.

  • Share this:
नई दिल्ली. आयकर विभाग (Income Tax Department) की छत्तीसगढ़ के रायपुर (Raipur) में हुई छापेमारी के बाद केंद्र सरकार (Central Government) पर कई आरोप लगे थे. इस मामले पर वित्त मंत्रालय ने सफाई दी है. वित्त मंत्रालय का कहना है कि शराब और खनन कारोबार से सरकारी अधिकारियों के पास हुई बेहिसाब कमाई और उन पैसों की उपलब्धता की जानकारी मिली थी. इसके अलावा नोटबंदी के दौरान भारी नकदी जमा होने की जानकारी मिली थी. इस तरह के इनपुट मिलने के बाद यह कार्रवाई की गई. बता दें कि 27 फरवरी को आयकर विभाग ने रायपुर में कई जगहों पर छापेमारी की थी.

सरकारी कर्मचारियों को हर महीने दी जा रही है घूस
वहीं एक अन्य खबर के अनुसार, केंद्रीय प्रत्यक्ष कर बोर्ड (सीबीडीटी) ने सोमवार को कहा कि छत्तीसगढ़ में हर महीने में सरकारी कर्मचारियों को घूस दी जा रही है. यह बात आयकर विभाग द्वारा सरकारी अधिकारियों समेत कई लोगों के घरों एवं परिसरों की ली गयी तलाशी से से पता चलती है.





150 करोड़ के बेहिसाब लेन-देन की मिली जानकारी
सीबीडीटी ने कहा कि 27 फरवरी को कुछ लोगों, हवाला कारोबारियों तथा कारोबारियों के यहां रायपुर में तलाशी के बाद अब तक 150 करोड़ रुपये का बेहिसाब लेन-देन का पता चला है. इसमें 25 परिसरों की तलाशी ली गयी.

अवैध तरीके से हर महीने दिये पैसे
बोर्ड ने एक बयान में कहा, 'गड़बड़ी करने से जुड़े दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक डेटा जब्त किये गये. इससे पता चलता है कि सरकारी कर्मचारियों और अन्य को अवैध तरीके से हर महीने पैसे दिये जा रहे हैं.'

पीएम मोदी पर बनाया गया निशाना
वैसे छत्तीसगढ़ में आयकर विभाग की छापेमारी पर सियासत काफी तेज हो गई है. इस मामले में प्रदेश के सीएम मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने पीएम नरेंद्र मोदी को एक लेटर लिखा है. इस लेटर में उन्होंने इनकम टैक्स डिपार्टमेंट की इस कार्रवाई को 'गलत' बताया है. जानकारी के मुताबिक पीएम मोदी को लिखे लेटर में सीएम बघेल ने लिखा है कि हमारे पूर्वजों ने संविधान में संघीय ढांचे का प्रावधान सोच समझकर किया था. लेकिन कुछ केंद्रीय एजेंसियों द्वारा छत्तीसगढ़ में संघीय ढांचे के प्रावधानों को चोट पहुंचाने वाली कार्रवाई की गई है.

 
मेगा रेड है अभी भी है जारी
मालूम हो कि छत्तीसगढ़ में आईटी की 'मेगा रेड' लगातार पांचवें दिन भी जारी है. आयकर विभाग की जांच की जद में सूबे के आईएएस अधिकारियों से लेकर कारोबारी तक शामिल हैं. माना जा रहा है कि जल्द ही विभाग कुछ बड़ा खुलासा कर सकता है.

 

सीएम भूपेश बघेल ने किया था ट्वीट
जानकारी के लिए बता दें कि शनिवार को कैबिनेट की बैठक रद्द कर सीएम भूपेश बघेल दिल्ली रवाना हो गए थे. माना जा रहा था कि आलाकमान के नेताओं से आईटी छापे (IT Raid) पर चर्चा करने के लिए सीएम बघेल दिल्ली गए हैं. अब सीएम ने पीएम नरेंद्र मोदी से मदद की गुहार लगाई है. आईटी रेड को लेकर सीएम भूपेश बघेल ने एक ट्वीट किया है. उन्होंने पूरी कार्रवाई को गलत बताया है. सीएम भूपेश बघेल के ट्वीट (Tweet) को काफी रिएक्शन भी मिल रहा है.

(इनपुट भाषा से भी)

ये भी पढ़ें:

IT Raid: छापे में जब्त दस्तावेज से होगा बड़ा 'खुलासा', दिल्ली से रायपुर तब होगी जांच

छत्तीसगढ़: हंगामा है क्यों बरपा, छापा ही तो है मारा, चोरी तो नहीं..?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading