यूरिनल का उपयोग नहीं किया तो अब निगम को देना होगा जुर्माना

रायपुर में खुले में शौच, यूरिन और कचरा फेंकने वालों पर नगर निगम द्वारा सख्ती बरती जा रही है. निगम की टीम अब ऐसे लोगों पर लगातार जुर्माना कर रही है.

Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: December 8, 2018, 6:26 PM IST
यूरिनल का उपयोग नहीं किया तो अब निगम को देना होगा जुर्माना
नगर निगम रायपुर (फाइल फोटो)
Devwrat Bhagat
Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: December 8, 2018, 6:26 PM IST
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में खुले में यूरिन करने वाले 1 हजार से ज्यादा लोगों पर नगर निगम ने जुर्माने की कार्रवाई की है. इसके अलावा खुले में शौच और कचरा फेंकने वालों पर भी सख्ती बरती गई है. लेकिन शहर में यूरिनल की कमी के चलते लोग निगम की इस कार्रवाई से खासे नाराज है. रायपुर में खुले में शौच, यूरिन और कचरा फेंकने वालों पर नगर निगम द्वारा सख्ती बरती जा रही है. निगम की टीम अब ऐसे लोगों पर लगातार जुर्माना कर रही है.

(ये भी पढ़ें: 'नक्सलगढ़' में छात्र राजनीति से मंत्री बने महेश गागड़ा क्या लगाएंगे जीत की हैट्रिक )

अब राजधानी रायपुर में अगर आप खुले में शौच या पेशाब करते पाए गये तो सीधे आप पर जुर्माना हो सकता है. खुले में शौच और कचरा फेंकने पर कार्रवाई को तो लोग जायज़ बता रहे है. लेकिन शहर में यूरिनल की कमी की वजह से खुले में पेशाब करने वालों पर की गयी कार्रवाई को गलत बता रहे है, क्योंकि राजधानी के मुख्य इलाकों में ही यूरिनल नहीं है और कई जगहों पर यहां ताले लटके हुए है.

(ये भी पढ़ें: आज भी साक्षर नहीं है राष्ट्रपति के दत्तक पुत्र पहाड़ी कोरवाओं का ये गांव!)

पिछले 4 महीने में की गयी कार्रवाई

कारण प्रकरण                                                            कुल जुर्माने की राशी
खुले में कचरा फेंकने पर                                               11 हजार कार्रवाई 2.50 लाख
Loading...

युरिनेशन ( खुले में पेशाब)                                              1 हजार कार्रवाई 9 हजार 500
खुले में शौच                                                                  2 सौ 50 कार्रवाई 22 सौ रू.

नगर निगम रायपुर ने खुले में शौच, पेशाब या फिर कचरा फैलाने वालों पर पहली बार में 50 दूसरी बार में 100 और तीसरी बार में 500 रू. और इसके बाद हर बार 500 रू. फाइन कर रही है. इसके साथ ही ये बात भी सामने आयी है कि गंदगी फैलाने वालों पर पुलिस केस भी किया जा रहा है. 10 ऐसे मामलों में पुलिसिया कार्रवाई भी की गयी है.

(ये भी पढ़ें: OPINION: कोई और खुश हो न हो, Exit Polls से जोगी जरूर खुश होंगे)

स्वच्छता अभियान के नोडल अधिकारी हरेन्द्र साहू ने बताया कि कम जुर्माना लेकर लोगों को समझाइश दी जा रही है अगर कोई गलती स्वीकारता है तो सांकेतिक रूप से कम फाइन लेकर ही छोड़ा जा रहा है. वहीं यूरिनल की कमी को स्वीकारते हुए हरेन्द्र साहू का कहना है कि सर्वे के मुताबिक 150 जगहों पर यूरिनल लगना था लेकिन केवल 88 जगहों पर ही लग पाया है.

(ये भी पढ़ें: LIVE TV: 11 दिसंबर का इंतजार, छत्तीसगढ़ में बनेगी किसकी सरकार?)

स्वच्छता को लेकर सख्ती तभी जायज़ है जब लोगों के पास इसके लिए विकल्प मौजूद हो. लेकिन नगर निगम ने बीना यूरिनल बनाये जुर्माने की कार्रवाई शुरू कर दी, जिसके चलते अब लोगों की नारज़गी झेलनी पड़ रही है.

(ये भी पढ़ें: Exit Poll 2018: छत्तीसगढ़ में 4 एजेंसियों ने कांग्रेस, तीन ने भाजपा, दो ने जताए त्रिशंकु के आसार)
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर