• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • हैरत की बात है... 13 महीनों से बीरगांव नगर निगम में नहीं हुई सामान्य सभा की बैठक

हैरत की बात है... 13 महीनों से बीरगांव नगर निगम में नहीं हुई सामान्य सभा की बैठक

नेता प्रतिपक्ष भीखम देवांगन का आरोप है कि पिछले 1 साल से महापौर को सामान्य सभा की बैठक के लिए कहा जा रहा है लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही.

  • Share this:
सवा लाख से ज्यादा की आबादी वाली बीरगांव नगर निगम की जनता बुनियादी सुविधाओं के लिए जुझ रही है. यहां के जनप्रतिनिधियों की गंभीरता का आलम ये है कि नगर निगम में पिछले 13 महीनों से सामान्य सभा की बैठक ही नहीं हुई.

बीरगांव नगर पालिका को नगर निगम का दर्जा मिले 5 साल से ज्यादा का वक्त बीत चुका है, लेकिन यहां की जनता को अब भी बुनियादी सुविधाओं की बाट जोह रही है. खराब सड़कें, बजबजाती नालियां और गंदगी बीरगांव नगर नगिम की पहचान बन चुकी है. इतनी गंभीर समस्याओं के बावजूद यहां नगर निगम के विकास कार्यों के लिए जरूरी सामान्य सभा की बैठक भी पिछले 13 महीनों से नहीं हुई. जबकि सामान्य सभा की बैठक हर दो महीने में नियमतः होनी चाहिए. इस मसले पर किसी भी जनप्रतिनिधि का ध्यान नहीं है. समान्य सभा की बैठक को लेकर यहां की महापौर अंबिका यदु की भी अपनी ही दलील है. अंबिका यदु का कहना है कि सामान्य सभा के लायक एजेंडा ही नहीं है. इसलिए सभा की बैठक नहीं हुई. एजेंडे के आधार पर ही बैठक रखी जाती है.
वार्डों में अधूरे काम

हर वार्ड में अधूरी नाली और कंक्रीट सड़क

कचरा डालने मोहल्ले में पेटी का अभाव

घरेलू नल कनेक्शन का काम अधूरा

वार्डों में पूरी तरह नहीं लग पाई स्ट्रीट लाइट

सफाई में लापरवाही से गंदगी से परेशानी

बीरगांव नगर निगम में जनवरी 2018 में हुई अंतिम सामान्य सभा के बाद 26 अप्रैल 2018 और 22 मई 2018 को दो बार सामान्य सभा की बैठक बुलाई गई थी. लेकिन ये विशेष सामान्य सभा जो शासन के द्वारा स्वीकृत कामों के लिए बुलाई गई थी और उसके बाद महापौर सामान्य सभा की बैठक बुलाना ही भूल गई. बीरगांव नगर निगम के नेता प्रतिपक्ष भीखम देवांगन का आरोप है कि पिछले 1 साल से महापौर को सामान्य सभा की बैठक के लिए कहा जा रहा है लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही.

बीरगांव नगर निगम और यहां की जनता का ये दुर्भाग्य है कि यहां पिछले 1 साल से सामान्य सभा की बैठक ही नहीं बुलाई गई. जबकि सामान्य सभा के जरिए ही जनहित के मुद्दों पर स्वीकृति होती है लेकिन जनहित को लेकर ना महापौर गंभीर हैं, ना अधिकारी और ना ही बाकी जनप्रतिनिधि.

ये भी पढ़ें:

कोण्डागांव: तेज रफ्तार स्कूल बस पलटी, खिड़की तोड़कर निकाले गए घायल बच्चे

अंतागढ़ टेपकांड: फिरोज सिद्दीकी ने कहा- जान को है खतरा, सरकार ने दी सुरक्षा

जमीन के अंदर पानी टंकी में नक्सलियों ने छिपाया था हथियार, जवानों ने किया बरामद

VIDEO: अचानकमार टाइगर रिजर्व से भटककर गांव पहुंचा भालू

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स     

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज