आलाकमान से डांट पड़ने के बाद सरकार ने वापस लिया फैसला:भूपेश

कांग्रेस का कहना है कि सरकार ने जल्दबाजी में एससी-एसटी एक्ट के संशोधित कानून को राज्य में लागू करने का फैसला लिया था.

Mamta Lanjewar
Updated: April 17, 2018, 4:54 PM IST
आलाकमान से डांट पड़ने के बाद सरकार ने वापस लिया फैसला:भूपेश
पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल
Mamta Lanjewar
Updated: April 17, 2018, 4:54 PM IST
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने पुलिस मुख्यालय द्वारा एससी-एसटी एक्ट को लेकर जारी सर्कुलर को स्थगित कर दिया है. छत्तीसगढ़ में एससी एसटी एक्ट के संशोधित कानून को राज्य में स्थगित करने के राज्य सरकार के फैसले पर कांग्रेस अब श्रेय लेने में पीछे नहीं हट रही है.

सरकार के इस फैसले पर पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल ने सीधे मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह पर निशाना साधा है. पीसीसी अध्यक्ष भूपेश बघेल का कहना है कि पीएचक्यू के एक अधिकारी के निर्देश पर एससी-एसटी एक्ट के संशोधित नियम को राज्य में लागू कर दिया गया था. कांग्रेस के प्रदेश प्रभारी पी एल पुनिया ने इसके खिलाफ दिल्ली में एक प्रेस कांफ्रेंस ली थी.

भूपेश बघेल ने कहा- प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया के प्रेस कांफ्रेंस के बाद मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह को दिल्ली से डांट पड़ी. इसके बाद सरकार ने आनन फानन में यह फैसला वापस लिया है. सवाल इस बात का है कि यदि आदेश डॉ रमन सिंह की बिना जानकारी के निकला तो उस अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही करनी चाहिए. यदि ऐसा नहीं होता तो सरकार का दोहरा चरित्र उजागर हो जाता है.

कांग्रेस का साफ कहना है कि जल्दबाजी में सरकार ने संशोधित कानून को राज्य में लागू करने का फैसला लिया. सरकार के इस फैसले से एक तरीके से लोगों के सामने इनका असली चेहरा सामने आ गया है. कांग्रेस का कहना है कि सरकार एससी-एसटी की हितैशी नहीं है.

पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर