• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • अंतागढ़ टेपकांड मामले की सुनवाई टली, कोर्ट ने तय की ये नई तारीख

अंतागढ़ टेपकांड मामले की सुनवाई टली, कोर्ट ने तय की ये नई तारीख

नोटिस के बावजूद इस मामले में वॉयस सैंपल नहीं ले पाई है पुलिस (Demo Pic)

नोटिस के बावजूद इस मामले में वॉयस सैंपल नहीं ले पाई है पुलिस (Demo Pic)

एसआईटी (SIT- Special Investigation Team) ने अमित जोगी, अजीत जोगी, मन्तुराम पवार और डॉ. पुनीत गुप्ता के वाइस सैम्पल लेने के लिए कोर्ट में आवेदन किया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बहुचर्चित अंतागढ़ टेपकांड (Antagarh Tape Case) मामले की सुनवाई (Hearing) एक बार फिर टल गई है. मामले में सुनवाई की तारीख (Date) बढ़ा दी गई है. अब 5 सितम्बर को इस मामले की अगली सुनवाई होगी. जानकारी के मुताबिक जज (Judge) के अवकाश पर होने के कारण सुनवाई की तारीख बढ़ा दी गई है. बता दें कि आज प्रथम अपर जिला न्यायाधीश लीना अग्रवाल की कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई होनी थी. मालूम हो कि एसआईटी (SIT- Special Investigation Team) ने अमित जोगी (Amit Jogi) , अजीत जोगी (Ajit Jogi), मन्तुराम पवार (Manturam Pavar) और डॉ. पुनीत गुप्ता (Dr- Punit Gupta) के वाइस सैम्पल लेने के लिए कोर्ट (Court) में आवेदन(Application) किया है.

नोटिस के बावूद नहीं दे रहे वॉयस सैंपल:

अंतागढ़ टेपकांड मामले में एसआईटी (SIT) ने तत्कालीन कांग्रेस (Congress) उम्मीदवार रहे मंतूराम का वायस सैंपल और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी और उनके बेटे अमित जोगी को भी वायस सैंपल देने के लिए तीसरी बार नोटिस भेजा था. इसके तहत उन्हें बीते 21 अगस्त को एसआईटी के सामने उपस्थित होना था, लेकिन इस पूरे मामले में अमित जोगी और उनके पिता अजीत जोगी ने अपना वायस सैंपल (Voice Sample) देन से साफ इनकार कर दिया है. उनका कहना है कि किसी को भी वॉयस सैंपल देने के लिए उन्हें बाध्य नहीं किया जा सकता हैं.

क्या है अंतागढ़ मामला:

साल 2014 में अंतागढ़ के तत्कालीन विधायक विक्रम उसेंडी (Vikram Usendi) ने लोकसभा का चुनाव (LokSabha Election) जीतने के बाद इस्तीफा दिया था. वहां हुए उपचुनाव (By Election)  में कांग्रेस ने पूर्व विधायक मंतू राम पवार को प्रत्याशी बनाया था. भाजपा से भोजराम नाग खड़े हुए थे. नाम वापसी के अंतिम वक्त पर मंतूराम ने अपना नामांकन वापस ले लिया था. इससे भाजपा (BJP) को एक तरह का वाकओवर मिल गया था. बाद में फिरोज सिद्दीकी नाम से एक व्यक्ति का फोन कॉल (Phone Call) वायरल हुआ था. आरोप लगे थे कि तब कांग्रेस में रहे पूर्व सीएम अजीत जोगी के पुत्र अमित जोगी ने मंतू की नाम वापसी कराई. टेपकांड में कथित रूप से अमित जोगी और तत्कालीन मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह (Dr. Raman Singh) के दामाद पुनीत गुप्ता के बीच हुई बातचीत बताई गई थी.

ये भी पढ़ें: 

अजीत जोगी से मेरी कोई दुश्मनी नहीं, BJP ने ही उठाया था जाति का मुद्दा: सीएम भूपेश बघेल

नाबालिग को हाईकोर्ट से मिली अबॉर्शन की अनुमति, भ्रूण का DNA सुरक्षित रखने के निर्देश  

 

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज