Home /News /chhattisgarh /

अगर आपकी है तीन संतानें तो जा सकती है नौकरी!

अगर आपकी है तीन संतानें तो जा सकती है नौकरी!

आरटीआई में जवाब आया है कि राज्‍य में करीब 2500 शिक्षाकर्मी ऐसे है, जिनकी तीन संताने हैं. अगर ये नियम लागू किया गया तो उनकी नौकरी जा सकती है.

आरटीआई में जवाब आया है कि राज्‍य में करीब 2500 शिक्षाकर्मी ऐसे है, जिनकी तीन संताने हैं. अगर ये नियम लागू किया गया तो उनकी नौकरी जा सकती है.

आरटीआई में जवाब आया है कि राज्‍य में करीब 2500 शिक्षाकर्मी ऐसे है, जिनकी तीन संताने हैं. अगर ये नियम लागू किया गया तो उनकी नौकरी जा सकती है.

इन दिनों छत्‍तीसगढ़ के हजारों शिक्षकों की नींद उड़ गई है और ये सब कुछ हुआ है उस आरटीआई के जवाब से. जिसमें ये पूछा गया था कि राज्‍य में ऐसे कितने शिक्षक है जिनकी तीन संतानें हैं. क्‍योंकि इस आरटीआई के जवाब से छत्‍तीसगढ़ के हजारों शिक्षकों की नौकरी पर बन आई है.

महासमुंद के आरटीआई कार्यकर्ता अनिल अग्रवाल ने जब आरटीआई के तहत जानकारी मांगी कि जिले में कितने शिक्षक है, जिनकी 2001 के बाद तीन संतान है. तो इस पर एक चौकाने वाला जवाब सामने आया है.

आरटीआई एक्टिविस्ट का कहना है कि तीन बच्चे वाले शिक्षकों को उनके पद से बर्खास्त करने का नियम है.  इस आरटीआई के बाद महासमुंद के सीईओ ने सचिव, पंचायत एवं ग्रामीण विभाग को पत्र लिखकर मार्ग दर्शन मांगा है कि तीन संतान होने पर क्या कार्रवाई की जानी चाहिए.

आरटीआई में जवाब आया है कि राज्‍य में करीब 2500 शिक्षाकर्मी ऐसे है, जिनकी तीन संताने हैं. अगर ये नियम लागू किया गया तो उनकी नौकरी जा सकती है. अब सवाल ये उठता है कि तीन संतान तो दूसरे विभागों के कर्मचारी और अधिकारियों की भी है, लेकिन ये नियम उन विभागों में क्यों लागू नहीं हो सकता है. अगर संविधान समानता की बात करता है, तो तीन संतान का नियम सभी जनप्रतिनिधि और सभी विभागों में लागू होना चाहिए.

शिक्षाकर्मियों की तीन संतान के मामले पर शिक्षाकर्मी संघ का आरोप है कि कुछ लोगों द्वारा शिक्षाकर्मियों को परेशान किया जा रहा है. संघ के पदाधिकारी वीरेंद्र दूबे ने कहा जिनकी तीन संतानें है उन्हें डरने की जरूरत नहीं है. क्योंकि नौकरी के पहले तीन संतानों की शर्त है ना कि नौकरी मिलने के बाद तीन संतान होना.

Tags: RTI, Teacher job

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर