हाथ से मैला उठाने के मामले में हाईकोर्ट ने संबंधित विभाग के सचिव को किया तलब

मामले की सुनवाई हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की डिवीजन बैंच ने किया. सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने मामले से संबंधित विभाग के सचिव को अगली सुनवाई में उपस्थित होने का आदेश दिया है. मामले में अगली सुनवाई 4 हफ्ते बाद की जाएगी.

Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: October 13, 2018, 3:11 PM IST
हाथ से मैला उठाने के मामले में हाईकोर्ट ने संबंधित विभाग के सचिव को किया तलब
छत्तीसगढ़ हाईकोर्ट
Pankaj Gupte
Pankaj Gupte | News18 Chhattisgarh
Updated: October 13, 2018, 3:11 PM IST
छत्तीसगढ़ में हाथ से मैला उठाने वाले सफाई कर्मचारियों के लिए बनाए गए कानून का सही से पालन नहीं किए जाने को लेकर दायर कि गई जनहित याचिका पर शुक्रवार को सुनवाई हुई. मामले की सुनवाई हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस की डिवीजन बैंच ने किया. सुनवाई के बाद हाईकोर्ट ने मामले से संबंधित विभाग के सचिव को अगली सुनवाई में उपस्थित होने का आदेश दिया है. मामले में अगली सुनवाई 4 हफ्ते बाद की जाएगी.

बता दें कि याचिकाकर्ता जन्मजये सोना ने हाईकोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की है. याचिका में कहा गया है कि आधुनिक भारत मे आज भी कुछ इंसान दूसरे इंसानों का मल हाथ से उठाने को मजबूर हैं. शहर के गटर में घुसकर मैला साफ करने वाले कई मजदूरों की विषैले गैस की वजह से मौत भी हो चुकी है.

याचिकाकर्ता का कहना है कि सरकार ने साल 2013 में सफाई कर्मियों के पुनर्वास और उत्थान के लिए कई प्रावधान किए हैं. लेकिन इन कानूनों का सही से पालन नही किया जा रहा है. जानकारी के मुताबिक छत्तीसगढ़ के कई जिलों में आज भी मजदूर हाथ से मैला उठाने को मजबूर हैं. मजदूर गटर में घुसकर काम कर रहे हैं, कई बार विषैले गैसों की चपेट में आकर उनकी मौत भी हो जाती है.

अधिकारों की सही जानकारी नहीं होने की वजह से गरीब मजदूरों के लिए सुरक्षा मापदंडों या जरूरी उपकरणों को  मुहैय्या नही कराया जाता है. ऐसे में आए दिन किसी न किसी मजदूर की जान जाती रहती है. उम्मीद है कि हाईकोर्ट में मामला जाने के बाद इस पर कार्रवाई की जाएगी.

यह भी पढ़ें- बैकुंठपुर जिला अस्पताल: नर्स की लापरवाही से डस्टबिन में गिरा नवजात, मौत
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर