लाइव टीवी
Elec-widget

स्टील कारो​बारियों के 30 ठिकानों पर आयकर की दबिश, करोड़ों रुपयों के टैक्स चोरी की आशंका

Surendra Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: November 27, 2019, 12:08 PM IST
स्टील कारो​बारियों के 30 ठिकानों पर आयकर की दबिश, करोड़ों रुपयों के टैक्स चोरी की आशंका
छत्तीसगढ़ के अलग अलग शहरों में आयकर की टीम ने दबिश दी.(फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के विभिन्न स्टील कारोबारियों (steel Industrialists) के ठिकानों पर आयकर अन्वेषण विभाग (Income Tax Investigation Wing) ने दबिश दी है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के विभिन्न स्टील कारोबारियों (steel Industrialists) के ठिकानों पर आयकर अन्वेषण विभाग (Income Tax Investigation Wing) ने दबिश दी है. प्रदेश के अलग अलग शहरों में आयकर की डेढ़ सौ से अधिक अधिकारी व कर्मचारियों की टीम ने बीते 26 नवंबर की शाम को दबिश दी. इनके साथ करीब 100 पुलिस कर्मी भी हैं. टीम ने सरिया, स्टील और स्पंज आयरन कारोबारियों के तीन समूहों के 30 ठिकानों पर दस्तावेजों की जांच शुरू की. इसमें कोलकाता, रायपुर और दुर्ग () स्थित 13 फैक्ट्री, दफ्तर और घर शामिल हैं.

सूत्रों के मुताबिक आयकर विभाग (Income Tax) की टीम रायपुर (Raipur) के उरला, सिलतरा स्थित दफ्तर और फैक्ट्री के साथ ही चौबे कॉलोनी, समता कालोनी और टाटीबंध के उदया सोसाइटी स्थित घरों में जांच कर रही है. स्टील कारोबारियों के कुछ साझेदारों एवं एजेंटों को भी जांच के दायरे में लिया गया है. प्राथमिक जांच में करोड़ों रुपयों के टैक्स चोरी से संबंधित दस्तावेज टीम को मिले हैं. इसमें मिले हिसाब का मिलान किया जा रहा है. लेनदेन के दस्तावेज, कम्प्यूटर और स्टॉक रजिस्टर की छानबीन की जा रही है. मिली जानकारी के मुताबिक सार्थक टीएमटी, सौरभ रोलिंग मिल, अलंकार एलाइज, त्रिदेव इस्पात, जोरावर इंजीनियरिंग, हनुमंत रिंगार्ड, सौरभ सरिया, सागर और पंकज इस्पात के ठिकानों पर जांच चल रही है.

एमपी और गुजरात की टीम
सूत्रों के मुताबिक छापेमारी के लिए एक दिन पहले ही करीब 150 अधिकारियों की टीम बड़े ही गोपनीय रूप से मध्यप्रदेश और गुजराज के अलग-अलग शहरों से पहुंची थी. दबिश देने के पहले टीम ने संबंधित ठिकानों का निरीक्षण किया. जांच के दौरान बड़ी संख्या में लूज पेपर और डायरियां मिली हैं, लेकिन इसका उल्लेख रोकड़ बही और वार्षिक बैलेंस शीट में नहीं किया गया है. वहीं करोड़ों रुपए का लाभ अर्जित करने के बाद भी कारोबार को नुकसान में चलना दिखाया जा रहा था. उत्पादन कम होने और नुकसान का हवाला देने के बाद भी करोड़ों रुपयों के कच्चे माल की खरीदी की जा रही थी. इसके बाद से वह आयकर विभाग के निशाने पर आ गए थे.

ये भी पढ़ें: नगरीय निकाय चुनाव में कांग्रेस का मास्टर प्लान तैयार, ​नेताओं के रिश्तेदारों की रहेगी नो-एंट्री! 

तीन तलाक पीड़िता ने एसपी दफ्तर में खाया जहर, पुलिस पर लगाए ये आरोप 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दुर्ग से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 27, 2019, 12:08 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...