FB पोस्ट से चर्चा में आए IPS जितेन्द्र शुक्ला बने महासमुंद SP, इन अफसरों के भी तबादले

विवादों के बाद बीते मार्च महीने में आईपीएस शुक्ला का सुकमा (Sukma) जिले से ट्रांसफर कर पीएचक्यू रायपुर (PHQ Raipur) लाया गया था.

Raghwendra Sahu | News18 Chhattisgarh
Updated: August 16, 2019, 2:39 PM IST
FB पोस्ट से चर्चा में आए IPS जितेन्द्र शुक्ला बने महासमुंद SP, इन अफसरों के भी तबादले
छत्तीसगढ़ सरकार ने 5 आईपीएस अफसरों की तबादला सूची जारी की है. इसमें आईपीएस जितेन्द्र शुक्ला का नाम भी शामिल है.
Raghwendra Sahu
Raghwendra Sahu | News18 Chhattisgarh
Updated: August 16, 2019, 2:39 PM IST
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) सरकार ने 5 आईपीएस (IPS) अफसरों की तबादला सूची जारी की है. इसमें मंत्री कवासी लखमा (Minister Kavasi Lakhama) को पत्र और उसके बाद फेसबुक पर पोस्ट लिखकर चर्चा में आए आईपीएस जितेन्द्र शुक्ला (IPS Jitendra Shukla) का नाम भी शामिल है. विवादों के बाद ही बीते मार्च महीने में आईपीएस शुक्ला का सुकमा (Sukma) जिले से ट्रांसफर कर पीएचक्यू रायपुर लाया गया था. इस ट्रांसफर के कुछ दिन पहले ही जितेन्द्र शुक्ला को नारायणपुर जिले से तबादला कर सुकमा जिले का एसपी बनाया गया था. अब जितेन्द्र शुक्ला को महासमुंद पुलिस की कमान सौंपी गई है.

बीते 14 अगस्त को जारी तबादला सूचि में गिरीजा शंकर जायसवाल को एसपी सूरजपुर (SP Surajpur) से सेनानी 13 वीं वाहिनी कोरबा, संतोष कुमार सिंह एसपी महासमुंद से एसपी रायगढ़, जितेन्द्र शुक्ला एआईजी पीएचक्यू से एसपी महासमुंद, राजेश कुमार अग्रवाल एसपी रायगढ़ से एआईजी पीएचक्यू एवं राजेश कुकरेजा को एसपी एसटीएफ बघेरा दुर्ग से एसपी सूरजपुर बनाया गया है. छत्तीसगढ़ सरकार के गृह विभाग ने ये आदेश जारी किया है.

FB पोस्ट से आए चर्चा में
बता दें कि सुकमा से ट्रांसफर के बाद आईपीएस जितेन्द्र शुक्ला ने फेसबुक पर एक पोस्ट किया था. इसकी वजह से ही मीडिया की सुर्खियों में आए. एफबी पर जितेन्द्र शुक्ला ने लिखा था— 'Unwanted and unexpected...But time has come to say .....Bye Bye Bastar and gud bye to Sukma.'' 11 मार्च 2019 को आईपीएस शुक्ला ने एफबी पर लिखा था- ''किसी भी पुलिस अधिकारी खास कर छत्तीसगढ़ कैडर के लिए नक्सलवाद और बस्तर अपनी एक महत्वपूर्ण जगह रखता है. यहां पर रह कर इसके लिए काम करना अपने आप में गौरवान्वित महसूस करने जैसा होता है. जब से कैडर अलॉट हुआ उस दिन से बस्तर और खास कर सुकमा में काम करने को ले के दिल और दिमाग मे हमेशा एक अलग रोमांच रहा और 28 मई 2016 से जब ये मौका मिला उस दिन से ले के 8 मार्च 2019 तक, जितने दिन यहां रहे पूरे दिल के साथ काम किया अपने हर उस रोमांच, साहस, डर, भय, सबको न सिर्फ जिया बल्कि बस्तर से जुड़े हर उस प्रचलित और सुने सुनाये मिथ को तोड़ा जिसको ले के बस्तर बदनाम है.'' इसके बादवे चर्चाओं में रहे.

ये भी पढ़ें: सुकमा एसपी जितेन्द्र शुक्ला ने ट्रांसफर के बाद एफबी पर लिखा-'Unwanted & Unexpected' 

ये भी पढ़ें: 26 जवानों की हत्या में शामिल 'नक्सली' ने पुलिस को बनाया भाई, कही ये बात... 
First published: August 16, 2019, 2:35 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...