Home /News /chhattisgarh /

Chhattisgarh News: कांग्रेस के हारे हुए नेताओं को पार्टी नहीं दे रही 'भाव', रायपुर में सीक्रेट मीटिंग

Chhattisgarh News: कांग्रेस के हारे हुए नेताओं को पार्टी नहीं दे रही 'भाव', रायपुर में सीक्रेट मीटिंग

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के हारे हुए नेताओं की पूछ परख कम हुई.

छत्तीसगढ़ में कांग्रेस के हारे हुए नेताओं की पूछ परख कम हुई.

Chhattisgarh Politics: छत्तीसगढ़ में कांग्रेस (Chhattisgarh Congress Crisis) के हारे हुए नेता अब लामबंद हो गए हैं. प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए अभी दो साल का वक्त बाकी है, लेकिन सत्ता और संगठन से तवज्जों नहीं मिलने से असंतुष्ट नेताओं का ही एक गुट अपने पार्टी के खिलाफ तैयार हो रहा है.

अधिक पढ़ें ...

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में साल 2018 के चुनाव में भले की कांग्रेस को बंपर बहुमत मिला हो, लेकिन कुछ सीटें कांग्रेस (Congress) ने गंवाई भी है जिनमें बीजेपी के दिग्गज नेता जीतकर आए हैं. इन नेताओं के सामने खड़े प्रत्याशियों को पहले से ये मालूम था कि उनके लिए जीत आसान नहीं है, लेकिन रिस्क लेकर उन्होंने चुनाव लड़ा और जैसी आशंका थी उन्हें हार का सामना करना पड़ा. लेकिन इसके बाद भी उन्हें ये उम्मीद थी कि सरकार बनने के बाद निगम-मंडल में या फिर संगठन के किसी महत्वपूर्ण पद में उन्हें जगह मिलेगी. लेकिन यहां भी सत्ता और संगठन से उन्हें दरकिनार ही कर दिया गया. इसके बाद अब ये हारे हुए नेता अपनी ताकत दिखाने के लिए एकजुट हुए हैं.

राजधानी रायपुर के एक निजी होटल में बैठकर इन नेताओं ने आगे की रणनीति तैयार की है. रायपुर दक्षिण से बीजेपी के कद्दावर नेता बृजमोहन अग्रवाल के खिलाफ चुनाव लड़ने वाले नेता कन्हैया अग्रवाल का कहना है कि वे संगठन को मजबूत करने और अपने क्षेत्र में हुए काम और आने वाली परेशानियों को लेकर चर्चा की.
पीसीसी चीफ का दावा, कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र 

कन्हैया अग्रवाल भले ही ये कह रहे हो कि संगठन को मजबूत करने और क्षेत्र की परेशानी पर चर्चा करने के लिए वे बैठक किए हो, लेकिन सूत्रों का कहना है कि सत्ता और संगठन में इन नेताओं की पूछ-परख कम हो गई है. इन्हें दरकिनार कर दिया गया है, इसलिए ये बैठकें रखी गयी थी. हांलाकि पीसीसी अध्यक्ष मोहन मरकाम का कहना है कि कांग्रेस में आंतरिक लोकतंत्र है. इसलिए हर नेता, कार्यकर्ता अपनी बात कह सकता है और बैठक करने वाले नेताओं को भी अपनी बातें कहने का हक है.

बीजेपी ने कसा तंज
इधर, बीजेपी ने इस मामले में तंज कसा है. बीजेपी नेता गौरीशंकर श्रीवास का कहना है कि संगठन और सरकार के प्रति नेताओं का असंतोष है जो इस तरह की बैठके हुई. उन्होंने कहा कि जिन नेताओं ने संघर्ष किया है उन्हें दरकिनार कर दिया गया और बीजेपी ऐसे नेताओं के लिए सहानुभूति रखती है.

कांग्रेस के हारे हुए नेताओं की इस बैठक से पार्टी के उपर बने दबाव को लेकर संचार विभाग प्रमुख सुशील आनंद शुक्ला का कहना है कि नेता अगर एक साथ सत्ता और संगठन के पास कोई बात रखना चाहते हैं तो ये गलत नहीं है, लेकिन 70 विधायकों वाली पार्टी के उपर किसी तरह का दबाव नहीं है.

ये भी पढ़ें: हरीश रावत Out हरीश चौधरी In, पंजाब प्रभारी पद पर कांग्रेस का बड़ा दांव, AICC में राजस्थान का वर्चस्व

चुनाव में भले ही अभी 2 साल का वक्त बाकी है, लेकिन इस बात को कहीं से नज़रअंदाज नहीं किया जा सकता कि हारे हुए नेताओं का भी अपना जनसमर्थन और वोट बैंक है. ऐसे में बहुमत में आई सरकार पर अभी इसका असर भले ही ना पड़े, लेकिन 2023 करीब आते तक इन नेताओं की नारजगी दूर करना पार्टी के लिए जरूरी होगा.

Tags: Bhupesh Baghel, BJP, Chhattisgarh Congress, Chhattisgarh news, Congress politics, Raipur news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर