पुलिस हिरासत में 7 आरोपियों की मौत पर नेता प्रतिपक्ष ने गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा

धरमलाल कौशिक ने पुलिस और आबकारी हिरासत में 7 लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में हुई मौत को लेकर सरकार पर सवाल उठाया है. पूछा है कि आखिर क्यों पुलिस हिरासत में लोग आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं.

News18 Chhattisgarh
Updated: July 25, 2019, 7:50 AM IST
पुलिस हिरासत में 7 आरोपियों की मौत पर नेता प्रतिपक्ष ने गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा
पुलिस हिरासत में 7 आरोपियों की मौत पर नेता प्रतिपक्ष ने गृहमंत्री से मांगा इस्तीफा (फाइल फोटो)
News18 Chhattisgarh
Updated: July 25, 2019, 7:50 AM IST
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पुलिस हिरासत में हो रही मौतों को लेकर नेता प्रतिपक्ष व बीजेपी नेता धरमलाल कौशिक ने कांग्रेस सरकार पर जमकर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि पुलिस और आबकारी हिरासत में अब तक करीब 7 लोगों की संदिग्ध मौत हो चुकी है. कौशिक ने सरकार पर सवाल उठाते हुए कहा कि आखिर क्यों पकड़े गए लोग पुलिस हिरासत में आत्महत्या जैसे कदम उठा रहे हैं. उन्होंने कहा कि नैतिकता के आधार पर गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू को अपने पद से इस्तीफा दे देना चाहिए. नेता प्रतिपक्ष ने अब तक हिरासत में हुई लोगों की मौत की जांच हाईकोर्ट के सेवानिवृत्त जज की अध्यक्षता में समिति बनाकर किए जाने की मांग की है. साथ ही पीड़ित परिवार को सरकार से उचित मुआवजा दिलाने की मांग की है.

"इतने लोगों की मौत कई सवाल खड़े करता है"

आपको बता दें कि नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने बीजेपी प्रदेश कार्यालय एकात्म परिसर में प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान ये बातें कहीं. उन्होंने बीते 22 जुलाई को अंबिकापुर के साइबर सेल और कवर्धा में आबकारी विभाग की हिरासत में हुई घटना का जिक्र करते हुए कहा कि आबकारी नियंत्रण कक्ष कवर्धा में हुई युवक की संदिग्ध मौत कई सवालों को जन्म देती है. वहीं घटना के बाद बगैर परिजनों को जानकारी दिए ही मृतक हरिचंद मरावी का पोस्टमार्टम तक करा दिया.

कौशिक ने बताया कि इसके बाद बीते 26 जून को बलरामपुर जिले के चंदोरा थाने में कृष्णा सारथी की, 8 अप्रैल को मारवाही थाने में चंद्रिका प्रसाद तिवारी की, 22 जुलाई को पांडुका थाने में चंगोराभाठा निवासी सुनील श्रीवास की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई थी. इसके अलावा मुंगेली और कटघोरा उप जेल में भी दो लोगों की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. लिहाजा, धरमलाल कौशिक ने इन सभी मामलों की जांच कर दोषी अफसरों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने की मांग की है.

अमित जोगी-amit jogi
अमित जोगी मानवाधिकार आयोग से करेंगे इसकी शिकायत (फाइल फोटो)


छजकां के अमित जोगी मानवाधिकार आयोग से करेंगे इसकी शिकायत 

इधर, पुलिस हिरासत में हो रही मौतों को छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस (जे) ने भी गंभीरता से लिया है. छजकां के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने हिरासत में हो रही मौतों के लिए बीजेपी और कांग्रेस दोनों को जिम्मेदार ठहराया है. साथ ही उनसे पीड़ित परिवार को 50-50 लाख रुपए का मुआवजा देने की मांग की है. यहां तक कि इसकी शिकायत उन्होंने मानवाधिकार आयोग से भी करने की बात कही है.
Loading...

ये भी पढ़ें:- किसानों की ट्रॉलियां चोरी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ 

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़ की नित्या को मिली 14 लाख की कल्पना चावला स्कॉलरशिप

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 25, 2019, 7:30 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...