रायपुर: CM भूपेश बघेल ने केंद्रीय रेल मंत्री को लिखा पत्र, श्रमिकों की वापसी के लिए मांगी 28 ट्रेनें
Raipur News in Hindi

रायपुर: CM भूपेश बघेल ने केंद्रीय रेल मंत्री को लिखा पत्र, श्रमिकों की वापसी के लिए मांगी 28 ट्रेनें
सीएम भूपेश बघेल ने रेल मंत्री पीयूष गोयल से की 28 ट्रेनों की मांग (फाइल फोटो)

CM भूपेश बघेल ने कहा कि स्लीपर मेल और एक्सप्रेस ट्रेन के लिए जो रेलवे ने शुल्क निर्धारित किया है, वह कि उचित नहीं है क्योंकि सभी प्रवासी श्रमिक लॉकडाउन (Lockdown) के कारण फंसे हुए हैं और पीड़ित हैं.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) ने रेल मंत्री पीयूष गोयल (Railway Minister Piyush Goyal) को पत्र लिखकर उनसे राज्य के प्रवासी श्रमिकों की वापसी के लिए देश के विभिन्न शहरों से 28 ट्रेनों को चलाने का अनुरोध किया है. मुख्यमंत्री ने भारत सरकार द्वारा फंसे हुए मजदूरों की उनके घर तक वापसी के लिए ट्रेनों के संचालन के निर्णय का स्वागत करते हुए मानवीय आधार पर रेलवे द्वारा ट्रेनों के संचालन की निःशुल्क व्यवस्था करने और ट्रेनों के संचालन के लिए जल्द से जल्द तारीख और समय तय करने का आग्रह किया है.

मुख्यमंत्री ने अपने पत्र में लिखा है कि देश भर में पिछले कुछ दिनों में कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई तेज हो गई है. राज्य द्वारा भी कोविड-19 का बहादुरी से मुकाबला किया जा रहा है. हमने अपने राज्य में इस महामारी के संक्रमण को रोकने में काफी हद तक सफलता पाई है. इस समय छत्तीसगढ़ के बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिक देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे हुए हैं. हेल्पलाइन और अन्य माध्यमों से प्राप्त सूचना के अनुसार करीब 1.17 लाख से भी अधिक प्रवासी कामगार देश के 21 राज्यों और 4 केन्द्र शासित प्रदेशों में फंसे होने की जानकारी मिली है. परिवहन की प्रक्रिया शुरू होने के बाद संख्या और बढ़ सकती है. यदि प्रवासी श्रमिकों के अलावा अन्य लोगों जैसे छात्र, पर्यटक आदि को जोड़ते हैं तो यह संख्या बहुत बड़ी हो जायेगी.

श्रमिकों के हिसाब से ट्रेन का शुल्क महंगा
बघेल ने कहा कि देश भर में फंसे हुए लोगों के लिए जो ट्रेने विशेष रूप से संचालित की जा रही हैं, उसे फंसे हुए मजदूरों और व्यापक लॉकडाउन से प्रभावित लोगों को बिना किसी परेशानी के आगे की यात्रा के लिए निःशुल्क संचालित की जानी चाहिए. रेलवे बोर्ड के द्वारा एक मई को जारी पत्र के अनुसार स्लीपर मेल और एक्सप्रेस ट्रेन के लिए शुल्क निर्धारित किया गया है, जो कि उचित नहीं है क्योंकि सभी प्रवासी श्रमिक लॉकडाउन के कारण फंसे हुए हैं और पीड़ित हैं. मानवीय आधार पर रेलवे द्वारा निःशुल्क व्यवस्था की जानी चाहिए. इस संबंध में आपसे अनुरोध करता हूं कि प्रदेश के प्रवासी श्रमिकों एवं नागरिकों की वापसी हेतु पर्याप्त संख्या में ट्रेनों का संचालन करने का कष्ट करें.
28 ट्रेनों की मांग


सीएम भूपेश बघेल ने जम्मू से रायपुर-बिलासपुर 7 ट्रेनें, लखनऊ से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, कानपुर से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, चेन्नई से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, बंगलौर से रायपुर-बिलासपुर 1 ट्रेन, पुणे से रायपुर-बिलासपुर 2 ट्रेनें, इलाहाबाद से बिलासपुर 1 ट्रेन, दिल्ली से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, हैदराबाद-सिकंदराबाद से रायपुर-बिलासपुर 3 ट्रेनें, विशाखापट्टनम से रायपुर 1 ट्रेन, सूरत-अहमदाबाद से रायपुर 1 ट्रेन, कोलकाता से रायपुर 1 ट्रेन, जयपुर से रायपुर 1 ट्रेन, पटना से दुर्ग 1 ट्रेन संचालन करने की मांग की है.

ये भी पढ़ें: मंत्री कवासी लखमा बोले- 3 मई तक बंद रहेंगी शराब दुकानें, जल्दबाजी में नहीं होगा कोई फैसला
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading