छत्तीसगढ़ में 10 जून से आ जाएगा मॉनसून, बस्तर में झमाझम के साथ राज्य में करेगा प्रवेश

छत्तीसगढ़ में 10 जून को होगी मानसून की एंट्री, बस्तर से प्रवेश करेगा मानसून.

छत्तीसगढ़ में 10 जून को होगी मानसून की एंट्री, बस्तर से प्रवेश करेगा मानसून.

मौसम विभाग में 10 जून को बस्तर में मॉनसून  प्रवेश की पूरी संभावना जताई है. वैसे तो मानसून से पहले ही छत्तीसगढ़ में मई के महीने में बारिश हो रही है, लेकिन मानसून की जिस बारिश का इंतजार किसानों को होता है वो 10 जून से होगी.

  • Share this:

रायपुर. छत्तीसगढ़ ( Chhattisgarh ) में मॉनसून ( Monsoon ) की एंट्री 10 जून को होने वाली है. मौसम विभाग में 10 जून को बस्तर ( Bastar) में मॉनसून प्रवेश की पूरी संभावना जताई है. वैसे तो मानसून से पहले ही छत्तीसगढ़ में मई के महीने में बारिश हो रही है, लेकिन मॉनसून की जिस बारिश का इंतजार किसानों को होता है वो 10 जून से होगी.

रायपुर के लालपुर स्थित मौसम विज्ञान केन्द्र के मौसम विज्ञानी एचपी चंद्रा ने बताया कि भारत मौसम विभाग द्वारा 4 महीने की वर्षा ऋ तु का पूर्वानुमान जारी कर दिया गया है. चंद्रा ने बताया कि केरल में 31 मई तक मॉनसून का प्रवेश होगा और केरल से 10 जून तक बस्तर संभाग से मानसून का छत्तीसगढ़ में प्रवेश होगी. इसके बाद 15 जून तक मानसून के राजधानी रायपुर तक पहुंचने का अनुमान है और सरगुजा तक 21 जून तक मॉनसून पहुंच जाएगा. एचपी चंद्रा ने बताया कि यदि परिस्थितियां सामान्य रहती हैं तब 10 जून तक छत्तीसगढ़ में मानसून की एंट्री हो जाएगी. मौसम विभाग द्वारा पिछले 16 सालों में साल 2015 को छोडक़र केरल में मॉनसून पहुंचने का अनुमान अब तक सही रहा है. ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि इस बार भी तय समय तक मानसून का प्रवेश होगा.



छत्तीसगढ़ पहुंचने में लगते हैं 10 दिन

केरल से मानसून के छत्तीसगढ़ पहुंचने में 10 दिनों का समय लगता है और मौसम विभाग के अनुमान के मुताबिक 31 मई को जब मानसून केरल पहुंचेगा उसके 10 दिनों में ही बस्तर में मानसून प्रवेश की संभावना है. आपको बता दें कि मानसून हिंद महासागर और अरब सागर की ओर से भारत के दक्षिण-पश्चिम तट पर आने वाली हवाओं को कहा जाता है. जिनकी वजह से भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश और अन्य देशों में बारिश होती है और ये हवाएं चार माह तक सक्रिय रहती हैं.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज