MP की हलचल में छत्तीसगढ़ का तड़का, जोगी पिता-पुत्र ने सियासी आग में डाला 'घी'
Raipur News in Hindi

MP की हलचल में छत्तीसगढ़ का तड़का, जोगी पिता-पुत्र ने सियासी आग में डाला 'घी'
file Photo

सत्ता प्राप्ती के इस सियासी हवन में बेंगलुरू की आहुति महत्वपूर्ण मानी जा रही है. तो वहीं गुरुग्राम में ठहरे बीजेपी के सभी विधायकों का भी रुख हवन की सिद्धि पर निर्भर करता है.

  • Share this:
रायपुर.  मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के सियासी तूफान में कुछ का उखड़ना तय है, तो कुछ पैर जमाए हुए हैं कि वे तनिक भी डिग नहीं रहे. सत्ता की चाहत में सियासी तूफान अब बवंडर में तब्दील हो चुका है और इसकी जद क्या भोपाल (Bhopal), क्या रायपुर (Raipur), क्या जयपुर (Jaipur), क्या गुरुग्राम (Gurugram), दिल्ली (Delhi) के सियासी गलियारों में भी अब तेज हवाएं चल रही है. मोदी-शाह निवास से लेकर सिंधिया हाउस तक और बीजेपी दिग्गजों के निवास तक में सत्ता के लिए शह-मात का हवन धधक रहा है. सत्ता प्राप्ती के इस सियासी हवन में बेंगलुरु (Bengaluru) की आहुति महत्वपूर्ण मानी जा रही है. तो वहीं गुरुग्राम में ठहरे बीजेपी के सभी विधायकों का भी रुख हवन की सिद्धि पर निर्भर करता है.

इन तमाम सियासी बवंडर के बीच छत्तीसगढ़ के प्रथम मुख्यमंत्री और राजीव गांधी के कहने पर कलेक्टर का पद छोड़कर राजनीति में आए अजीत जोगी (Ajit Jogi) ने आग में घी डालने का काम किया है. अजीत जोगी ने ट्वीट कर MP की सियासी आग में ट्वीट का घी डालाते हुए लिखा कि सिंधिया को पीसीसी अध्यक्ष या राज्यसभा ना देकर कांग्रेस ने ऐसी भूल की की सरकार ही चली जाएगी. ऐसे कुप्रबंधन के लिए कमलनाथ दिग्विजय सिंह और काफी हद तक कांग्रेस आलाकमान जिम्मेदार है, उन्हें संभल कर चलना पड़ेगा.

अजीत जोगी ने ट्वीट कर कसा तंज



7 विधायकों और 14 फीसदी वोट के साथ छत्तीसगढ़ का प्रथम और एकमात्र मान्यता प्राप्त राजनीति दल जोगी कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष अमित जोगी ने बैक टू बैक तीन ट्वीट कर राहुल गांधी से लेकर भूपेश बघेल, कमलनाथ, अशोक गहलोत तक को कटघरे में खड़ा कर दिया है. अमित जोगी ने अपने पहले ट्वीट में लिखा है कि मध्यप्रदेश क्राइसेस की गलतियों से छत्तीसगढ़ कांग्रेस को सीख लेनी चाहिए. बहुतम कितना भी विशाल क्यों ने हो, उसे लोकतंत्र अहंकार और तानाशाही में बदलने का अधिकार नहीं देता है. छत्तीसगढ़ और राजस्थान में भी ज्योतिरादित्य सिंधिया बनने में देरी नहीं लगेगी.





अमित जोगी के अपने पहले ट्वीट के करीब आधे घंटे बाद ही दूसरा ट्वीट करते हुए 17 दिसंबर 2018 को छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के शपथ ग्रहण समारोह की उस तस्वीर के साथ कटाक्ष किया जिसमें राहुल गांधी, भूपेश बघेल, टीएस सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू एक-दूसरे का हाथ पकड़े हुए जनता का अभिवादन स्वीकार कर रहे हैं. अपने दूसरे ट्वीट में अमित जोगी ने लिखा कि छत्तीसगढ़ का तथाकथित सामूहिक नेतृत्व केवल इस तस्वीर में दिखने को मिलता है. वर्तमान में साहू, शहरी और सरगुजा तो पूरी तरह से गायब है.



अमित जोगी (Amit Jogi) इतने पर ही नहीं रूके. तीसरा ट्वीट करते हुए राहुल गांधी पर सीधा कटाक्ष कर ज्योतिरादित्य सिंधिया, टीएस सिंहदेव और सचिन पायलट की तस्वीर के साथ ट्वीट कर लिखा कि है कि 17.12.2018 को तात्कालिक कांग्रेस अध्यक्ष ने छत्तीसगढ़ के जनादेश को समझते हुए सामूहिक नेतृत्व की बात कही थी. 15 महीनों में इस सामूहिक नेतृत्व का गला घोटने में कोई कसर नहीं नहीं छूटी है. एक को छोड़ बाकियों की क्या दुर्गति हुई है, किसी से छीपी नहीं है. इसका परिणाम छत्तीसगढ़ की जनता रोज भुगत रही है.



कांग्रेस का करारा पलटवार

कांग्रेस पार्टी से निकाले हुए जोगी पिता-पुत्र के ट्वीट पर कांग्रेस ने करारा पलटवार किया है. कांग्रेस के तेजतर्रा प्रवक्ता आरपी सिंह ने पलटवार करते हुए कहा कि कांग्रेस नेतृत्व को और ना ही कांग्रेस पार्टी को पिटे हुए मोहरों के सलाह की जरूरत है. उन्होंने कहा कि जिनका पार्टी के साथ गद्दारी का लंबा इतिहास रहा हो वे वफादारी पर चर्चा ना करें, अन्यथा बेशर्मी भी शरमा जाएगी.

'कांग्रेस पार्टी को पिटे हुए मोहरों के सलाह की जरूरत नहीं है'


सीएम का अचानक दिल्ली दौरा

मध्यप्रदेश के सियासी बवंडर के बीच छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) का अचानक दिल्ली (Delhi) दौरा पर हैं. आलाकमान के बुलावे पर सीएम बघेल दिल्ली रवाना हुए हैं. सीएम बघेल का दिल्ली दौरे भी कांग्रेस के भीतरी हलचल की पराकाष्ठा को बताने के लिए काफी है.

ये भी पढ़ें: 

होली की रात राजनांदगांव में दो युवकों पर चली गोली, पुलिस ने किया मामला दर्ज 

MP के सियासी संग्राम पर CM भूपेश बघेल बोले- अभी कमलनाथ का 'पत्ता' खुलना बाकी है!
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading