छत्तीसगढ़: रायपुर नगर निगम कोरोना काल में पार्षदों और उनके परिजनों का करवा रहा बीमा

रायपुर नगर निगम पार्षदों और उनके परिजनों का मेडिकल बीमा करवा रहा है.

रायपुर नगर निगम पार्षदों और उनके परिजनों का मेडिकल बीमा करवा रहा है.

कोरोना संक्रमण (Corona Infection) के खतरे को देखते हुये रायपुर नगर निगम (Raipur Municipal Corporation) ने अपने पार्षदों और उनके परिजनों का बीमा करवाया है. इसमें पार्षद और उनके परिवारों को 2-2 लाख रुपये का सालाना मेडिकल होगा शामिल होगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 3:41 PM IST
  • Share this:
रायपुर. कोरोना संक्रमण (Corona Infection) को देखते हुए पहली बार रायपुर (Raipur) नगर निगम अपने पार्षद और एल्डरमैन सहित उन पर आश्रित परिवार का मेडिकल बीमा (Medical Insurance) करा रहा है. नगर निगम के 70 पार्षद और 10 एल्डरमैन सहित उनके आश्रित परिवारों में माता-पिता के साथ पत्नी और बच्चों का कोरोना सहित गंभीर बीमारियों के इलाज का खर्च बीमा कंपनी उठायेगी. इसमें पार्षद और उनके परिवारों को 2-2 लाख रुपये का सालाना मेडिकल होगा शामिल होगा.

इसमें 25 लाख का एक बफर अमाउंट भी रखा गया है. अगर इलाज का खर्च 2 लाख से ज्यादा हुआ तो इस अमाउंट से उसकी भरपायी की जाएगी. महापौर एजाज ढेबर के निर्देश पर पार्षद और उनके बच्चों के लिए 13 लाख 570 रुपए का सालाना प्रीमियम नगर निगम मेडिकल बीमा के लिए जमा करेगा. इससे भी ज्यादा खुशी की बात यह है कि चालू वर्ष से ही इसका लाभ नगर निगम के कर्मचारियों को मिलने लगेगा.

छत्तीसगढ़: बालिका वधू बनने से बची किशोरी, आधे रास्ते से ही लौटी बारात

हांलाकि ऐसे पार्षद और एल्डरमैने जिनके बच्चों की उम्र 25 साल से ज्यादा होगी, उन्हें इस स्कीम का फायदा नहीं मिलेगा. इसके लिए पार्षदों से दस्तावेज और जरूरी जानकारी मंगायी गई है, जिसके बाद पार्षदों के लिए हेल्थ कार्ड जारी किया जाएगा.
बताया जा रहा है कि कोरोना काल में पार्षद वार्ड वासियों के सीधे संपर्क में हैं और इस बीच कई पार्षद कोरोना संक्रमण की जद में भी आ चुके हैं. ऐसे में महापौर द्वारा सभी पार्षदों का बीमा कराए जाने का फैसला लिया गया है. पहले इस स्कीम में नगर निगम के कर्मचारी-अधिकारी भी शामिल थे, लेकिन इसमें सालाना 2 करोड़ रुपए प्रीमियम को देखते हुए इसकी प्रक्रिया पर रोक लगा दी गयी थी. लेकिन, अब चरणबद्ध तरीके से इसकी शुरुआत की गयी है, जिसमें टेंडर की प्रक्रिया पूरी हो गयी है. वहीं हेल्थ कार्ड इश्यू होते ही पार्षदों को बीमा कवर मिल सकेगा.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज