Home /News /chhattisgarh /

भूपेश इलेवन: ऐसे साधा गया छत्तीसगढ़ का जातीय संतुलन

भूपेश इलेवन: ऐसे साधा गया छत्तीसगढ़ का जातीय संतुलन

भूपेश बघेल (फाइल फोटो)

भूपेश बघेल (फाइल फोटो)

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व में चलने वाली कांग्रेस की सरकार के इस नए मंत्रिमण्डल में पूरी तरह जातीय समीकरण को साधता मिश्रण नजर आया.

    छत्तीसगढ़ की पांचवीं सरकार के मंत्रिमंडल का गठन हो गया है. रायपुर के पुलिस परेड ग्राउंड में राज्यपाल आनंदी बेन पटेल ने कांग्रेस की सरकार के 9 मंत्रियों को शपथ दिलाई. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार के इस नए मंत्रिमण्डल में पूरी तरह जातीय समीकरण को साधता मिश्रण नजर आया. मंत्रिमण्डल में ऐसे मंत्रियों को शामिल किया गया है जो अलग-अलग जातीय वर्ग से आते हैं.

    भूपेश की टीम में नए बनाए गए 9 मंत्रियों में तीन अनुसूचित जनजाति वर्ग, दो अनुसूचित जाति वर्ग, एक अन्य पिछड़ा वर्ग व एक अल्पसंख्यक वर्ग से और एक मंत्री सामान्य वर्ग से लिए गए हैं. जाति वर्ग की बात करें तो मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और इन्हीं के साथ 17 दिसंबर को ही मंत्री पद की शपथ लेने वाले ताम्रध्वज साहू अन्य पिछड़ा वर्ग से हैं. जबकि टीएस सिंहदेव सामान्य वर्ग से हैं.

    ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़ सरकार की टीम भूपेश तैयार, पढ़ें- शपथ के बाद मंत्रियों ने क्या कहा

    मंत्रिमंडल के नए सदस्यों में साजा विधानसभा क्षेत्र से विधायक रविन्द्र चौबे को मंत्री बनाया गया है. रविन्द्र सामान्य वर्ग से आते हैं. कोरबा विधायक जयसिंह अग्रवाल भी समान्य वर्ग से हैं. कवर्धा से विधायक मोहम्मद अकबर अल्पसंख्यक वर्ग से हैं. डौंडी लोहारा से अनिला भेड़िया मंत्री बनाई गई हैं. अनिला अनुसूचित जनजाति वर्ग से आती हैं. कोंटा से विधायक कवासी लखमा और प्रतापपुर के विधायक डॉ प्रेमसाय सिंह टेकाम भी अनुसूचित जनजाति वर्ग से हैं. आरंग से विधायक शिव डहरिया और अहिवारा से विधायक गुरु रुद्र कुमार को मंत्री बनाया गया है. दोनों अनुसूचित जाति वर्ग से हैं. खरसिया से विधायक उमेश पटेल मंत्री बनाए गए हैं. ये अन्य पिछड़ा वर्ग से आते हैं.

    ये भी पढ़ें: PHOTOS: भूपेश की कैबिनेट में ये विधायक बनें मंत्री, जानें क्यों मिली मंत्रिमंडल में जगह

    इस तरह कांग्रेस की नई सरकार में चारों जाति वर्गों से विधायकों को मंत्री के रूप में प्रतिनिधित्व मिला है. पूरे मंत्रिमण्डल की अगर बात करें तो सीएम भूपेश सहित अन्य पिछड़ा वर्ग से सबसे ज्यादा 4 मंत्री बनाए गए हैं. सामान्य वर्ग से टीएस सिंहदेव सहित तीन मंत्री बनाए गए हैं. अनुसूचित जनजाति वर्ग से तीन और अनुसूचित जनजाति वर्ग से दो प्रतिनिधि, मंत्रिमण्डल में शामिल हुए हैं. इनमें से पांच पूर्व मंत्री रह चुके हैं और सात नए मंत्रियों के रूप में काम करेंगे.

    ये भी पढ़ें: छत्तीसगढ़: भूपेश बघेल की कप्तानी में ये मंत्री खेलेंगे नई पारी

    दुर्ग से 6 मंत्रियों को मिला प्रतिनिधित्व
    नए मंत्रिमण्डल में संभागवार प्रतिनिधित्व की अगर बात करें तो सबसे ज्यादा मंत्री दुर्ग संभाग से बनाए गए हैं. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल का पाटन विधानसभा क्षेत्र दुर्ग संभाग के अंतर्गत आता है. इसी संभाग से रविन्द्र चौबे, रुद्र गुरु, ताम्रध्वज साहू, अनिला भेड़िया और मो. अकबर मंत्री बने हैं. सरगुजा संभाग से टीएस सिंहदेव और डॉ प्रेमसाय सिंह टेकाम को प्रतिनिधित्व मिला है. बिलासपुर संभाग से उमेश पटेल और जय सिंह अग्रवाल मंत्री बनाए गए हैं. इनके अलावा बस्तर संभाग से कवासी लखमा मंत्री बने हैं. रायपुर संभाग से शिव डहरिया को मंत्री बनाया गया है.

    ये भी पढ़ें: CM भूपेश बघेल ने दिए निर्देश, टाटा संयंत्र के लिए अधिग्रहित जमीन किसानों को होगी वापस

    Tags: Bhupesh Baghel, Chhattisgarh news, Raipur news

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर