छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में कम हुई नोटा की बखत, मिले 2 प्रतिशत वोट
Raipur News in Hindi

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018 में कम हुई नोटा की बखत, मिले 2 प्रतिशत वोट
प्रतिकात्मक तस्वीर

विधानसभा चुनाव 2013 में पहली बार नोटा का उपयोग किया था. पहली बार ही जनता ने यहां पर 3.07 फीसदी वोट नोटा में डाले थे. इस बार 2.0 फीसदी नोटा ने नेताओं का समीकरण बिगाड़ा है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनावों में राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों के अलावा नोटा की भी अहम भूमिका रही है. विधानसभा चुनाव में प्रत्याशियों की जीत हार को नोटा ने भी खूब प्रभावित किया है. 2018 के विधानसभा चुनाव में सीएम और उनके कैबिनेट मंत्रियों के खिलाफ जनता ने जमकर नोटा का उपयोग किया. छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2013 में पहली बार नोटा का उपयोग किया था. पहली बार ही जनता ने यहां पर 3.07 फीसदी वोट नोटा में डाले थे. इस बार 2.0 फीसदी नोटा ने नेताओं का समीकरण बिगाड़ा है. पिछले विधानसभा चुनाव के आंकड़ो पर ध्यान दें तो नोटा को मिले वोट प्रदेश के बड़े नेताओं की लोकप्रियता पर सवाल खड़ा कर रहे है. ​

2018 के चुनाव में नोटा को मिले वोट

नोटा को मिले वोट जीत-                                                        हार का अंतर
1 दंतेवाड़ा-     9929                                                                2172



2 चित्रकोट-   9824                                                                   17770


3 नारायणपुर - 6858                                                                 2647
4 सामरी- 6250                                                                      21923
5 केशकाल-6113                                                                  16972
6 धर्मजयगढ़-5955                                                                16972
7 साजा- 5840                                                                       31535
8 प्रतापपुर- 5741                                                                  44105
9 बिन्द्रानवागढ़- 5515                                                           10430
10 पंडरिया- 5234                                                                36487
11 सीतापुर-5189                                                                 36137
12 पत्थलगांव- 5159                                                             36686
13 कोंडागांव- 5146                                                              1796

तो वहीं राजनीतिक विश्लेषक रविकांत कौशिक बताते है कि अगर जनता नोटा का उनके खिलाफ उपयोग कर रही है तो उनको सोचना पड़ेगा. साथ ही जनप्रतिनिधियों को यह भी सोचना पड़ेगा कि आखिर जनता उन्हे स्वीकार क्यों नहीं कर रही है.

छत्तीसगढ़ की जनता ने इस बार भी विधानसभा चुनाव में जमकर नोटा का उपयोग किया जिसके चलते प्रत्याशियों को खूब रुलाया. कई जगहों पर इसने सपा, बसपा, सीपीआई, सीपीएम और आप जैसी पार्टियों को भी पछाड़ने में कामियाब नेटा रहा.

ये भी पढ़ें:

धमतरी: यहां NOTA में भी पिछड़ी BJP, सबसे अधिक वोट से आगे रही कांग्रेस

छत्तीसगढ़ विधानसभा चुनाव 2018: जीतकर आए 23 विधायकों पर आपराधिक मामले दर्ज

दिल्ली रवाना हुए टीएस सिंहदेव और भूपेश बघेल, CM के नाम पर लग सकती है मुहर

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading