यहां अखबार पढ़कर सुनाएगी मशीन, आदिवासी रेडियो एप भी विकसित

इस ऐप का लोकार्पण करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च की टीम 30 जुलाई को ट्रिपल आईटी नया रायपुर पहुंचेगी.

News18 Chhattisgarh
Updated: July 29, 2019, 3:50 PM IST
यहां अखबार पढ़कर सुनाएगी मशीन, आदिवासी रेडियो एप भी विकसित
इस कार्य की शुरुआत के लिए सीजीनेट स्वर के साथियों ने गोंडी में 400 बच्चों की कहानी की किताबों का अनुवाद किया है.
News18 Chhattisgarh
Updated: July 29, 2019, 3:50 PM IST
छत्तीसगढ़ में जल्द ही मशीन अखबार पढ़कर सुनाएगी. माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च, ट्रिपल आईटी नया रायपुर और सीजीनेट स्वर फाउंडेशन ने एक साल पहले इस पर काम करना शुरू किया था, जिसके परिणामस्वरूप एक आदिवासी रेडियो ऐप विकसित हुआ है. इस ऐप में टेक्स्ट टू स्पीच तकनीक का उपयोग किया गया है, जिसमें लिखे हुए समाचार को अब मशीन की मदद से सुना भी जा सकेगा.

सीजीनेट स्वर फाउंडेशन के शुभ्रांशु चौधरी ने बताया कि गोंडी जैसी आदिवासी भाषाओं में, जिसमें बहुत से लोग पढ़ नहीं सकते उनके लिए यह ऐप बहुत उपयोगी होगा. इस ऐप का लोकार्पण करने के लिए माइक्रोसॉफ्ट रिसर्च की टीम 30 जुलाई को ट्रिपल आईटी नया रायपुर पहुंचेगी. यह दल गोंडी से हिंदी एवं अन्य भाषाओं में मशीन की मदद से अनुवाद करने का यन्त्र बनाने पर भी काम कर रही है.

400 बच्चों की कहानी का अनुवाद
शुभ्रांशु चौधरी ने बताया कि इस कार्य की शुरुआत के लिए सीजीनेट स्वर के साथियों ने गोंडी में 400 बच्चों की कहानी की किताबों का अनुवाद किया है. इन कहानी की किताबें एक बुक्स संस्था ने उपलब्ध कराई थी. हिंदी से गोंडी में अनुवाद किए गए इन 10 हजार वाक्यों को अब मशीन ट्रांसलेशन यन्त्र बनाने के लिए कम्प्यूटर में फीड किया जाएगा. इस प्रयोग के सफल होने के बाद मशीन हिंदी और अन्य भाषाओं से गोंडी में तथा उसका उलटा अनुवाद कर सकेगा, जैसा अन्य उन्नत भाषाओं में होता है.

ये भी पढ़ें: सीधी-साधी गाय ने नये मालिक को दौड़ा-दौड़ा कर मारा, उपभोक्ता फोरम पहुंचा मामला 

ये भी पढ़ेंनक्सलगढ़ में अब नशे की तस्करी, पुलिस ने ऐसे पकड़ा 1 करोड़ का गांजा 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 29, 2019, 3:50 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...