JCC(J) से नितिन भंसाली के इस्तीफे पर संजीव अग्रवाल ने कहा- 'पार्टी के लिए क्षति की बात'

जेसीसीजे प्रवक्ता संजीव अग्रवाल ने कहा कि नितिन भंसाली के जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. क्योंकि वैसे उनके रहने से भी पार्टी को न तो पहले कोई फायदा मिला और ना ही अब कोई नुकसान होगा. हालांकि व्यक्तिगत तौर पर किसी आदमी के चले जाने से पार्टी को क्षति जरूर पहुंचती है, जो पार्टी को हुई है.

Surendra Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: March 17, 2019, 9:19 AM IST
JCC(J) से नितिन भंसाली के इस्तीफे पर संजीव अग्रवाल ने कहा- 'पार्टी के लिए क्षति की बात'
जेसीसीजे प्रवक्ता संजीव अग्रवाल
Surendra Singh | News18 Chhattisgarh
Updated: March 17, 2019, 9:19 AM IST
लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अजीत जोगी की पार्टी छत्तीसगढ़ जनता कांग्रेस का कुनबा बिखरने लगा है. लगातार पार्टी के पदाधिकारी पार्टी से अलविदा कह रहे हैं. सूबे में अजीत जोगी का साथ देने वाले उनके करीबी नेता भी उनका साथ छोड़कर जा रहे हैं. जोगी कांग्रेस से छोड़कर जाने वाले नेता और पदाधिकारियों की लंबी फेहरिस्त है. बता दें कि अजीत जोगी का साथ छोड़कर ज्यादातर नेता कांग्रेस पार्टी में शामिल होने जा रहे हैं.

अब पार्टी छोड़ने वालों में एक नाम नितिन भंसाली का भी जुड़ गया है, जो अजीत जोगी के काफी करीबी माने जाते थे. जोगी कांग्रेस में काफी अहम पदों पर कार्य कर चुके हैं, लेकिन अब नितिन भंसाली का मोहभंग हो गया है. हालांकि जेसीसीजे प्रवक्ता संजीव अग्रवाल ने कहा कि नितिन भंसाली के जाने से कोई फर्क नहीं पड़ेगा. क्योंकि वैसे उनके रहने से भी पार्टी को न तो पहले कोई फायदा मिला और ना ही अब कोई नुकसान होगा. हालांकि व्यक्तिगत तौर पर किसी आदमी के चले जाने से पार्टी को क्षति जरूर पहुंचती है, जो पार्टी को हुई है.

दरअसल, जोगी कांग्रेस को छोड़ने वाले नेता कांग्रेस पार्टी से आए थे. उनकी मंशा बीजेपी के खिलाफ थी और कांग्रेस की सरकार बनने के बाद अब कांग्रेस पार्टी में दोबारा जा रहे हैं. ऐसे नेताओं का जोगी कांग्रेस के प्रवक्ता संजीव अग्रवाल धन्यवाद दिया है. साथ ही उनके उज्जवल भविष्य की कामना भी की है.



बहरहाल, अब देखने वाली बात यह होगी कि लोकसभा चुनाव तक कितने ओर जोगी कांग्रेस के नेता पार्टी से अलविदा करते हैं. फिलहाल अजीत जोगी के सामने अभी सबसे बड़ी चुनौती अपनी पार्टी के कार्यकर्ताओं को संभालने की है. लोकसभा चुनाव से पहले अगर इसी तरह से कार्यकर्ता और पदाधिकारी पार्टी को छोड़ते रहेंगे तो लोकसभा का परिणाम क्या होगा.

ये भी पढ़ें:- छत्तीसगढ़: भाजपा के आला नेता दिल्ली रवाना, संसदीय बोर्ड की बैठक में करेंगे शिरकत

ये भी देखें:- VIDEO: लोकसभा चुनाव 2019 के कवरेज को लेकर Google ने पत्रकारों के लिए रखा वर्कशॉप
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...