Home /News /chhattisgarh /

NMC बिल का विरोध: सभी निजी अस्पतालों की OPD रहेगी बंद, काली पट्टी लगाकर काम करेंगे डॉक्टर्स

NMC बिल का विरोध: सभी निजी अस्पतालों की OPD रहेगी बंद, काली पट्टी लगाकर काम करेंगे डॉक्टर्स

एनएमसी बिल का विरोध:  डॉक्टरों ने काली पट्टी लगाकर काम करने का फैसला लिया है.

एनएमसी बिल का विरोध: डॉक्टरों ने काली पट्टी लगाकर काम करने का फैसला लिया है.

इमरजेंसी, केजुअल्टी और आईसीयू (ICU) की सुविधा को छोड़कर बाकी किसी भी तरह का इलाज अस्पतालों में नहीं होगा.

    लोकसभा में पास हुए नेशनल मेडिकल कमीशन बिल-2019 को अव्यवहारिक बताते हुए इंडियन मडिकल एसोसिएशन इसका विरोध कर रहा है. एनएमसी (NMC) बिल के विरोध में 31 जुलाई को देश के साथ प्रदेशभर के निजी अस्पतालों में स्वास्थ्य सेवाएं 24 घंटों के लिए बंद रखा जाएगा. इमरजेंसी, केजुअल्टी और आईसीयू (ICU) की सुविधा को छोड़कर बाकी किसी भी तरह का इलाज अस्पतालों में नहीं होगा.

    24 घंटे स्वास्थ्य सेवाएं रहेंगी बाधित

    बुधवार को देशभर में डॉक्टरों की हड़ताल है. इस हड़ताल में राज्य भर के निजी अस्पतालों की ओपीडी बंद रहेगी. आज प्रदेश भर के निजी क्षेत्र में मेडिकल सेवाएं बाधित रहेंगी. एनएमसी बिल के विरोध में प्रदेश भर 2 सालों से प्रदेश के डॉक्टर्स  हैं और इस बिल के प्रावधानों को लेकर अपनी असहमति भी जता रहे है.

    इंडियन मेडिकल एसोसिएशन की छत्तीसगढ़ प्रदेश इकाई ने भी इस हड़ताल का समर्थन किया है.


    बता दें कि बंद के दौरान केवल एमरजेंसी में आने वाले मरीजों का इलाज किया जाएगा. हालांकि सरकारी अस्पतालों में मरीजों का इलाज जारी रहेगा, वहीं मेडिकल कॉलेज रायपुर के डॉक्टरों ने भी हड़ताल को अपना समर्थन दिया है. साथ की डॉक्टरों ने काली पट्टी लगाकर काम करने का फैसला लिया है.

    ये भी पढ़ें: 

    PHOTOS: सुकमा में बाढ़ का कहर, ऐसे लोगों को रेस्क्यू कर रहे जवान 

    बारिश में छत्तीसगढ़ का चित्रकोट बन गया ''नियाग्रा'', सालों बाद दिखता है ऐसा खूबसूरत नजारा 

     

    Tags: Chhattisgarh news, Doctors strike, Health ministry, Health News, Medical, Medical bill, Raipur news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर