Assembly Banner 2021

पुलिस पब्लिक स्कूल को मिली CBSE की मान्यता, कम फीस में 12वीं तक होगी पढ़ाई

कम फीस में बच्चों को मिलेगी अच्छी शिक्षा.

कम फीस में बच्चों को मिलेगी अच्छी शिक्षा.

पुलिस पब्लिक स्कूल सबसे अगल इसलिए है क्योकि यहां कम शुल्क में बेहतर शिक्षा दी जा रही है. प्रदेश में जब नई सरकार ने कार्यभार संभाला उसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खाली पड़े भवन के मरम्मत कराने के आदेश दिए थे.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में शिक्षा के स्तर को बेहतर करने के लिए राज्य सरकार शिक्षा के क्षेत्र में कई सुधार और बदलाव कर रही है. प्रदेश के मुखिया भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) राज्य में शिक्षा के स्तर को बढ़ाव देने के लिए आगे भी आ रहे हैं. राज्य सरकार के विशेष प्रयास से पुलिस पब्लिक स्कूल को सीबीएसई ने 12वीं कक्षा तक मान्यता दे दी है. पेंशनबाड़ा में संचालित पुलिस पब्लिक स्कूल (Police Public School) अब शिक्षा के क्षेत्र में अग्रीणी संस्थाओं में सुमार हो गई है. ऐसा इसलिए क्योंकि यहां शिक्षा नो-लॉस नो प्राफिट के पैमाने पर संचालित किया जाता, कई ऐसे शिक्षण संस्थान है जो इस पैमाने पर काम कर रहे हैं.

पुलिस पब्लिक स्कूल सबसे अगल इसलिए है क्योकि यहां कम शुल्क में बेहतर शिक्षा दी जा रही है. प्रदेश में जब नई सरकार ने कार्यभार संभाला उसके बाद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने खाली पड़े भवन के मरम्मत कराने के आदेश दिए. साथ ही स्कूल को अच्छे से संचालित करने के निर्देश दिए थे. पुलिस विभाग ने इस दिशा में ना सिर्फ तेजी से काम किया बल्कि शिक्षा की अनिवार्यता और आवश्यकताओं को ध्यान में रख कर तय समय में शिक्षा के मंदिर को प्रारंभ भी किया.

सीबीएसई की टीम ने किया था निरीक्षण



बीते दिनों सीबीएसई की विशेष टीम के निरीक्षण में पुलिस पब्लिक स्कूल में सभी मानक पूरे पाए गए थे, जिसके बाद स्कूल को मान्यता प्रदान की गई. पुलिस पब्लिक स्कूल कक्षा आठवीं तक संचालित हो रहा था. इस सत्र से यहां के छात्र-छात्राएं 9वीं में एडमिशन ले सकेंगे. स्कूल में पुलिसकर्मियों के अलावा आम नागरिकों के बच्चे भी पढ़ाई करते हैं. डीजीपी डीएम अवस्थी ने बताया कि इस स्कूल की खास बात है कि यहां पुलिसकर्मी ही शिक्षक की भूमिका निभाते हैं. सभी योग्यताएं पूरी करने वाले पुलिसकर्मियों को यहां पदस्थ किया गया है.
यहां पढ़ाई के साथ-साथ बच्चों को एक्स्ट्रा करिकुलर एक्टिविटी भी सिखाई जाती है. इसके अलावा खेलकूद और अन्य गतिविधियां भी लगातार संचालित होती रहती हैं. स्कूल में कम्प्यूटर लैब, प्ले ग्राउंड, म्यूजिक क्लास जैसी सुविधाएं उपलब्ध हैं. वर्तमान में स्कूल बिना किसी व्यवसायिक लाभ की अपेक्षा से संचालित किया जा रहा है. यही वजह है कि पुलिसब्लिक स्कूल में फीस अन्य स्कूलों की अपेक्षा बहुत ही कम है. पिछले वर्ष स्कूल में 185 बच्चे अध्ययनरत थे. पुलिस पब्लिक स्कूल शिक्षा में पिछले साल 185 विद्यार्थी थे. वही इस साल छात्र-छात्राओं की संख्या 300 से पार हो गया है.

ये भी पढ़ें: 

एक लाख प्रवासी मजदूरों की 'घर वापसी' के लिए कितना तैयार है छत्तीसगढ़? 



कवर्धा: क्वारंटाइन सेंटर में घुसा शराबी जबरन मजदूरों के साथ सोया, अब कार्रवाई में फंसी पुलिस 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज