होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी के लिए दूसरे राज्यों का दौरा करेगी टीम, सियासत तेज, आमने-सामने बीजेपी-कांग्रेस

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी के लिए दूसरे राज्यों का दौरा करेगी टीम, सियासत तेज, आमने-सामने बीजेपी-कांग्रेस

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी के लिए बनी कमेटी दूसरे राज्यों का दौरा करेगी.

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी के लिए बनी कमेटी दूसरे राज्यों का दौरा करेगी.

छत्तीसगढ़ में शराबबंदी को लेकर हलचल एक बार फिर से शुरू हो गई है. राज्य में शराबबंदी के लिए बनी राजनीतिक कमेटी की बैठक रायपुर में हुई. इस बैठक में कमेटी ने कई अहम निर्णय लिए. कमेटी ने निर्णय लिया कि सदस्य उन राज्यों का दौरा करेंगे, जहां पहले से शराबबंदी लागू है. वहां के हालात का जायजा टीम लेगी.

अधिक पढ़ें ...

रायपुर. छत्तीसगढ़ में शराबबंदी का फॉर्मूला समझने यहां बनी कमेटी अब दूसरे राज्यों का दौरा करेगी. कमेटी के अध्यक्ष विधायक सत्यनारायण शर्मा ने बताया कि इसे लेकर एक बैठक रखी गयी थी और शराबबंदी वाले राज्यों का अध्ययन दौरा करने का फैसला लिया गया है. प्रदेश में शराबबंदी के लिए बनायी गयी राजनीतिक कमेटी की ये तीसरी बैठक थी. उन्होंने बताया कि अध्ययन दल द्वारा अन्य राज्य जहां वर्तमान में पूर्ण शराबबंदी लागू है, ऐसे राज्य जहां पूर्ण शराबबंदी लागू थी, लेकिन बाद में फिर से शराब बेची जाने लगी उन राज्यों का दौरा किया जाएगा. साथ ही कमेटी देश के अनुसूचित जनजाति बाहुल किसी अन्य राज्य का भी दौरा कर रिपोर्ट तैयार करेगी.

शराबबंदी पर बनी कमेटी और उनके दूसरे राज्यों के दौरे को लेकर पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने सरकार पर हमला बोला है. उन्होंने कहा कि प्रदेश में सरकार कांग्रेस की है, एक आर्डर से शराबबंदी हो सकती है, लेकिन सरकार के पास इच्छा शक्ति नहीं है. साढ़े पांच हजार करोड़ रुपये सरकार शराब से कमाती है, शराब का सेस सरकार की पॉकेटमनी है और उसी राशि से सारे काम हो रहे हैं. अजय चंद्राकर ने आरोप लगाया कि शराब के सेस के पैसों से गुलछर्रे उड़ाए जा रहे हैं.

सत्ता-विपक्ष आमने-सामने
कमेटी के अध्यक्ष सत्यनारायण शर्मा ने बीजेपी विधायक अजय चंद्राकर के बयान पर आपत्ति दर्ज की है. उन्होंने कहा कि अजय चंद्राकर पहले अपने विधानसभा में शराबबंदी करके दिखा दें. शर्मा ने कहा कि देश के जिन राज्यों में बीजेपी की सरकार है, पहले वहां बंद करके दिखा दें. हम उन्हें अपना आदर्श मान लेंगे. सत्यनारायण शर्मा ने बीजेपी पर आरोप लगाया कि बीजेपी ही नहीं चाहती कि शराबबंदी हो. वे कमेटी में शामिल नहीं हुए और अब इस मुद्दे का राजनीतिक फायदा उठाना चाहती है. बहरहाल विधानसभा चुनाव से पहले शराबबंदी का मुद्दा एक बार फिर से गर्माने लगा है.

Tags: Chhattisgarh news, Raipur news

अगली ख़बर