• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • Chhattisgarh: संग्रहण केंद्रों में रखा धान बारिश में भीगा, अब सरकार करेगी बर्बादी का आकलन

Chhattisgarh: संग्रहण केंद्रों में रखा धान बारिश में भीगा, अब सरकार करेगी बर्बादी का आकलन

छत्तीसगढ़ में कई क्विंटल धान बारिश में भीगा.

छत्तीसगढ़ में कई क्विंटल धान बारिश में भीगा.

Raipur News: धान भीगने का मामला सामने आया तो विपक्ष सरकार पर हमलावर हो गई. नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक (Dharamlal Kaushik) ने सरकार पर लापरवाही और गलत नीतियों के कारण धान के बर्बादी का आरोप लगाया.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) को धान (Dhan) का कटौरा कहा जाता है. छत्तीसगढ़ में धान और किसान हमेशा से ही राजनीति के केंद्र बिन्दु भी रहे हैं और यहीं वजह है कि धान के बीज से लेकर कस्टम मिलिंग तक धान पर सियासी बवाल मचा रहता है. ताजा बवाल धान के भीगने को लेकर मचा हुआ है. विगत दिनों से लगातार हो रही बारिश की वजह से धान संग्रहण केंद्रों से धान भीगने की लगातार तस्वीरें सामने आ रही है. इस पर अब सरकार ने संज्ञान लिया. न केवल संज्ञान लिया बल्कि मुख्यमंत्री (CM Bhupesh Baghel) ने आकलन कराने के भी निर्देश दिए हैं जानकारी देते हुए सरकार क प्रवक्ता मंत्री मोहम्द अकबर ने कहा कि भीगे हुए धान की बात को लेकर तत्काल आकलन कराने को कहा गया है.


अब जब धान भीगने पर मुख्यमंत्री संज्ञान लेंगे तो विपक्ष को तो सरकार पर हमलावर होने का मौका मिलेगा ही. विपक्ष की ओर से नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने सरकार पर लापरवाही और गलत नीतियों के कारण धान के बर्बादी का आरोप लगाया. मीडिया से बात करते हुए नेता प्रतिपक्ष ने कहा कि धान के उठाव में देरी की वजह से धान भीग रहा है. बीजेपी ने जिला स्तर पर कमेटियां बनाई है जो आकलन कर रही है. इसकी रिपोर्ट पर हम सरकार से जवाब मांगेंगे.



मुख्यमंत्री ने की समीक्षा

छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के ढाई साल पूरा होने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अलग-अलग योजनाओं की समीक्षा कर रहे हैं. समीक्षा बैठक के दूसरे दिन गोधन न्याय योजना, सुराजी गांव योजना, वृक्षारोपण प्रोत्साहन योजना, राजीव गांधी किसान न्याय योजना, लघु वनोपज, फलदार और औषधीय पौधों का रोपण, प्रसंस्करण, विपणन और सड़क किनारे वृक्षारोपण की विस्तार से समीक्षा की गई. समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री ने तय समय-सीमा में कार्यों को पूरा करने सहित गुणवत्तायुक्त कार्य करने के निर्देश दिए. साथ ही लोगों को वृक्षारोपण और फलदार, औषधीय पौधे लगाने के लिए प्रोत्साहित करने के निर्देश दिए. वहीं सड़क किनारे वृक्षों को होने वाले नुकसान से बचाने के लिए व्यवस्था करने को कहा

समीक्षा बैठक बाद मीडिया से चर्चा करते हुए सरकार के प्रवक्ता मंत्री मोहम्मद अकबर ने कहा कि सरकार योजनाओं के क्रियान्वयन को लेकर काफी गंभीर है. मौजूदा स्थिति को देखते हुए वृक्षारोपण  को बढ़ावा देने का निर्णय लिया गया है. अधिकारियों को लगातार मॉनिटरिंग करने को भी कहा गया है. बता दें कि मुख्यमंत्री के समीक्षा बैठक में बैठक में कृषि मंत्री रविंद्र चौबे, वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्री मोहम्मद अकबर, संसदीय सचिव शिशुपाल शोरी, मुख्य सचिव अमिताभ जैन सहित अन्य अधिकारी मौजूद रहे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज