CG: 3 खाद फैक्ट्रियों पर कृषि विभाग का छापा, स्टॉक जब्त होने के साथ बनाने व बेचने पर लगी रोक

छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के भनपुरी, उरला और महासमुंद में कृषि विभाग ने 3 खाद फैक्ट्रियों पर छापा मारा है. इन फैक्ट्रियों के स्टॉक को जब्त कर लिया गया है.

News18 Chhattisgarh
Updated: July 9, 2019, 7:30 AM IST
CG: 3 खाद फैक्ट्रियों पर कृषि विभाग का छापा, स्टॉक जब्त होने के साथ बनाने व बेचने पर लगी रोक
छत्‍तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के भनपुरी, उरला और महासमुंद में कृषि विभाग ने 3 खाद फैक्ट्रियों पर छापा मारा है. इन फैक्ट्रियों के स्टॉक को जब्त कर लिया गया है.
News18 Chhattisgarh
Updated: July 9, 2019, 7:30 AM IST
छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर के भनपुरी, उरला और महासमुंद में कृषि विभाग ने 3 खाद फैक्ट्रियों पर छापा मारा है. इन खाद फैक्ट्रियों के स्टॉक को जब्त कर लिया गया है. साथ ही इन फैक्ट्रियों में खाद बनाने और बेचने पर भी रोक लगा दी गई है. आपको बता दें कि कार्रवाई बीते सोमवार को कृषि विभाग की टीम द्वारा की गई. वहीं, हाल ही में राजनांदगांव में भी कृषि विभाग ने एक फैक्ट्री पर कार्रवाई की थी. तब जिन फैक्ट्रियों में छापा मारा गया था, उनमें गड़बड़ी की शिकायत कृषि मुख्यालय पहुंची थी.

लिहाजा, इसके बाद कृषि संचालक के निर्देश पर 3 अलग-अलग टीमों ने एक साथ छापेमारी की. तीनों फैक्ट्रियों से खाद के सैंपल ले लिए गए हैं. अब इन्हें जांच के लिए लैब भेजा जाएगा. रिपोर्ट आने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

इन जगहों पर की गई छापेमारी

बता दें कि भनपुरी औद्योगिक क्षेत्र स्थित माधव एग्रो केम में छापा मारने गई टीम को गोदाम में ही गंदगी मिली थी. इस वजह से वहां रखे गए खाद के स्टॉक में गुणवत्ता खराब होने की आशंका को लेकर कार्रवाई की गई.

उरला स्थित अल्फा बायो प्रोडक्ट में मजदूरों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ के साथ बिना लाइसेंस के बोरोन (रासायनिक तत्व) की पैकिंग करने का खुलासा हुआ है. इस दौरान वहां काम कर रहे मजदूरों ने न तो मास्क लगाया था और ना ही हाथों में ग्‍लब्‍स पहना था. नवंबर 2018 के बाद मजदूरों का स्वास्थ्य परीक्षण कभी नहीं किया गया. कीटनाशक के जहरीले प्रभाव को नष्ट करने वाला एंटी डोज भी यहां नहीं था. फैक्ट्री में एंटी डोज का लाइसेंस नहीं था. जांच के दौरान यहां केंद्र सरकार से रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट भी नहीं मिला.

कानूनी प्रावधान का उल्‍लंघन

महासमुंद के बिरकोनी स्थित तुलसी फास्फेट लिमिटेड में फैक्ट्री और विक्रय परिसर की जांच में उर्वरक आदेश 1985 का उल्लंघन पाया गया, इसके आधार पर 21 दिनों के लिए निर्माण पर रोक लगा दिया गया है. साथ ही फैक्ट्री प्रबंधन को कारण बताओ नोटिस भी जारी किया गया, लेकिन इस बीच संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर प्रबंधन के खिलाफ अब आगे की कार्रवाई की जाएगी.
Loading...

मिली जानकारी के मुताबिक, प्रदेश में 8.23 लाख मीट्रिक टन खाद का स्टॉक किया गया है. वहीं, किसानों को 4 लाख मीट्रिक टन खाद का बंट चुकी है. इसी तरह 7.74 लाख क्विंटल बीज का स्टॉक है. अब तक करीब 6 लाख क्विंटल बीज बंट चुका है. वहीं, राज्य में 10.50 लाख मीट्रिक टन खाद भंडारण का लक्ष्य है.

ये भी पढ़ें:- अजीत जोगी ने अपने बेटे अमित जोगी की इस ह​रकत पर जताया खेद

ये भी पढ़ें:- CM भूपेश बघेल का तीन शब्द का इमोशनल ट्वीट- मां चली गईं

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 9, 2019, 7:14 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...