होम /न्यूज /छत्तीसगढ़ /छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद के खात्मे का ब्लू प्रिंट तैयार, केंद्र-राज्य सरकार ने बनाई साझा रणनीति

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद के खात्मे का ब्लू प्रिंट तैयार, केंद्र-राज्य सरकार ने बनाई साझा रणनीति

छत्तीसगढ़ का बीजापुर एक बाद फिर से नक्सलियों के कारनामे से खून से लाल हो गया.

छत्तीसगढ़ का बीजापुर एक बाद फिर से नक्सलियों के कारनामे से खून से लाल हो गया.

पुलिस और सुरक्षाबलों ने जिस तरह से छत्तीसगढ़ में नक्सलियों (Naxalism In Chhattisgarh) के खिलाफ साझा रणनीति बनाकर काम कर ...अधिक पढ़ें

रायपुर. छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद (Naxalism In Chhattisgarh) को जड़ से खत्म करने के लिए तैयारियां शुरू हो गई हैं. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) के बीच पिछले दिनों दिल्ली में हुई मुलाकात के बाद नक्सलियों के खिलाफ बड़ी लड़ाई (Operation Against Naxals) का ब्लू प्रिंट तैयार किया जा रहा है. प्रदेश के 28 जिलों में से 14 जिले नक्सल प्रभावित हैं. पिछले तीन दशक से भी ज्यादा समय से यहां नक्सवाद ने अपनी जड़ें जमा रखी हैं. पुलिस और सुरक्षाबलों ने अब जिस तरह से नक्सलियों के खिलाफ साझा रणनीति बनाकर काम करना शुरू किया है उससे सहज अंदाजा लगाया जा सकता है कि जॉइंट ऑपरेशन कर नक्सलवाद के नासूर को खत्म करने की तैयारी है. पैरामिलिट्री फोर्स और छत्तीसगढ़ पुलिस फोर्स के अधिकारी नक्सलियों के खिलाफ आर-पार की लड़ाई की बात कह रहे हैं.

नक्सल समस्या पर विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक का कहना है कि प्रदेश में नक्सली गतिविधियों में बढ़ोतरी हो रही है जिससे नक्सलियों का हौसला बढ़ रहा है. वहीं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि उनकी सरकार नक्सलियों को घुसकर मारने का काम कर रही है. पहले बीजेपी सरकार में नक्सली पुलिस कैंपों पर हमला करते थे, लेकिन अब पुलिस फोर्स नक्सलियों के कैंप में घुसकर उन्हें मार रही है.

केंद्र और राज्य सरकार दोनों की साझा रणनीति नक्सलियों के खात्मे के लिए उनके ताबूत में आखिरी कील ठोकने का काम करेगा या नहीं, यह देखने वाली बात होगी. लेकिन इतना जरुर है कि यदि दोनों सरकारों की साझा रणनीति काम कर जाती है तो राज्य से नक्सलवाद का सफाया होना तय है.

Tags: Anti naxal operation, Bhupesh Baghel, Chhattisgarh news, Crime News, Naxal terror, Naxal violence, Naxalism, Raipur news

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें