रायपुर जिला अस्पताल में दो बच्चों की हुई मौत, सात शिशुओं के मरने की खबर निकली अफवाह

मंगलवार की देर रात जिला अस्पताल पंडरी में एक साथ सात नवजात बच्चों की मौत की खबर आई थी. तब आनन-फानन में किसी ने तीन तो किसी ने पांच बच्चों की मौत की पुष्टि भी कर दी थी

Chhattisgarh News: मंगलवार की देर रात से इस बात की चर्चा थी कि जिला अस्पताल पंडरी में एक साथ सात बच्चों की मौत हो गई है. इसको लेकर हंगामा खड़ा होने की भी खबरें आईं थी. मगर बुधवार को रायपुर मेडिकल कॉलेज की ओर से बयान जारी कर यह स्पष्ट किया गया कि अलग-अलग कारणों से केवल दो शिशुओं की यहां मौत हुई है

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ के सबसे बड़े शासकीय अस्पताल रायपुर (Raipur) स्थित अंबेडकर अस्पताल के महिला एवं शिशुरोग विभाग में एक साथ सात बच्चों की मौत (Children Death) की खबर अफवाह साबित हुई है. मंगलवार की देर रात से इस बात की चर्चा थी कि जिला अस्पताल (District Hospital) पंडरी में एक साथ सात बच्चों की मौत हो गई है. इसको लेकर हंगामा खड़ा होने की भी खबरें आईं थी. मगर बुधवार को रायपुर मेडिकल कॉलेज की ओर से बयान जारी कर यह स्पष्ट किया गया कि अलग-अलग कारणों से केवल दो शिशुओं की यहां मौत हुई है.

दरअसल मंगलवार की देर रात जिला अस्पताल पंडरी में एक साथ सात नवजात बच्चों की मौत की खबर आई थी. तब आनन-फानन में किसी ने तीन तो किसी ने पांच बच्चों की मौत की पुष्टि भी कर दी थी. मगर न्यूज़ 18 तमाम पड़ताल करने के बाद पूरी जिम्मेदारी से यह बता रहा है कि रायपुर मेडिकल कॉलेज द्वारा जिला अस्पताल में संचालित महिला एवं शिशु रोग विभाग के नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट में केवल दो शिशुओं की मौत हुई है. इन शिशुओं की अलग-अलग कारणों से मौत हुई है.

दो शिशुओं की अलग-अलग वजहों से हुई मौत
जिला अस्पताल में जिन दो शिशुओं की मृत्यु हुई है उनमें से पहला शिशु 18 जुलाई की रात एक बजे से यहां भर्ती था. उसका वजन केवल 1.4 किलोग्राम था. वो जन्म से ही काफी कमजोर था और एडमिट होने के दिन से वेंटिलेटर पर था. मंगलवार को शाम साढ़े छह बजे उसकी मृत्यु हो गई. इस शिशु को अस्पताल द्वारा सभी आवश्यक उपचार उपलब्ध कराया गया था.

वहीं, दूसरे शिशु को उसकी माता जानकी देवी ने सोमवार सुबह 9.12 मिनट पर जन्म दिया था. यह प्रसूता जानकी सिन्हा का चौथा बच्चा था. जन्म के तुरंत बाद बच्चा रोया नहीं और ना ही उसने कोई प्रतिक्रिया दी. नवजात के दिमाग तक ऑक्सीजन का प्रवाह नहीं होने के कारण उसे झटके आने लगे थे. पल्स भी बहुत कम था. शिशु की गंभीर स्थिति को देखते हुए फौरन नवजात शिशु गहन चिकित्सा इकाई (नियोनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट/ NICU) में शिफ्ट किया गया जहां उसका उपचार जारी था. मंगलवार 20 जुलाई को शाम आठ से नौ बजे के बीच शिशु की मौत हो गई.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.