• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • पेट दर्द से परेशान महिला पहुंची अस्पताल, सर्जरी में निकला दुर्लभ Stone Baby

पेट दर्द से परेशान महिला पहुंची अस्पताल, सर्जरी में निकला दुर्लभ Stone Baby

डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर महिला के पेट से निकाला स्टोन बेबी.

डॉक्टरों ने ऑपरेशन कर महिला के पेट से निकाला स्टोन बेबी.

Chhattisgarh News: पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय में एक दर्लभ केस आया. 26 साल की महिला के पेट की सर्जरी कर सात महीने के स्टोन बेबी (Stone Baby) को निकाला गया.

  • Share this:

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के गरियाबंद (Gariyabandh) जिले की निवासी एक 26 साल की महिला कुछ दिनों पहले पेट में दर्द और पेट में पानी भरने के कारण होने वाले सूजन से परेशान थी. महिला इलाज के लिए पं. जवाहर लाल नेहरू स्मृति चिकित्सा महाविद्यालय के स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग में भर्ती हुई. जांच में महिला के पेट में दुर्लभ लिथोपेडियन का पता चला जिसे स्टोन बेबी (Stone Baby) भी कहा जाता है. स्त्री एवं प्रसूति रोग विभागाध्यक्ष प्रो. डॉ. ज्योति जायसवाल के नेतृत्व में स्टोन बेबी को बाहर निकालने के लिए पेट की सर्जरी की गई जिसमें करीब सात महीने के विकसित दुर्लभ स्टोन बेबी (मृत) को बाहर निकाला गया. सर्जरी के बाद महिला के पेट की परेशानी खत्म हो गई, इसलिए अब वह डिस्चार्ज लेकर घर जाने को तैयार है. विभागाध्यक्ष डॉ. ज्योति जायसवाल के मुताबिक बच्चेदानी के बाहर पेट यानी एब्डोमन में भ्रूण का विकास होकर स्टोन बेबी में बदल जाने की स्थिति बहुत ही दुर्लभ है. इस प्रकार के केस मेडिकल जर्नल में बहुत ही कम देखने को मिलते है.

डॉ. ज्योति जायसवाल के मुताबिक लिथोपेडियन या स्टोन बेबी तब बनता है जब गर्भावस्था, गर्भाशय के बजाय पेट में (एब्डामिनल प्रेगनेंसी) होती है. जब यह गर्भावस्था अंततः विफल हो जाती है और भ्रूण के पास पर्याप्त रक्त की आपूर्ति नहीं होती है, तो शरीर के पास भ्रूण को बाहर निकालने का कोई तरीका नहीं होता है. नतीजन, शरीर अपनी स्वयं की प्रतिरक्षा प्रक्रिया का उपयोग करके भ्रूण को पत्थर में बदल देता है जो शरीर को किसी भी ऐसी विदेशी वस्तु से बचाता है जिससे शरीर को कोई नुकसान न हो. ऊतकों का इस प्रकार का कैल्सिफिकेशन मां को संक्रमण से बचाता है. कई बार इससे शरीर को कोई नुकसान नहीं होता लेकिन कई बार इसके पेट के अंदर रहने के कारण दूसरी समस्याएं भी जन्म लेने लगती हैं.

क्या होता है कैल्सीफिकेशन?

कैल्सीफिकेशन एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें शरीर के ऊतकों में कैल्शियम का निर्माण होता है, जिससे ऊतक सख्त हो जाते हैं. यह एक सामान्य या असामान्य प्रक्रिया हो सकती है. गरियाबंद में महिला की 15 दिन पहले नॉर्मल डिलीवरी हुई थी जिसमें महिला ने लगभग साढ़े सात महीने के एक अत्यंत कम वजनी एवं अपरिपक्व जीवित शिशु को जन्म दिया था. शिशु उपचार उपरांत भी नहीं ठीक हो पाया और उसकी मृत्यु हो गई. इस प्रकार महिला के पेट में दो बेबी थे. एक जो बच्चेदानी (यूट्रस) के अंदर सामान्य शिशुओं की तरह पल रहा था एवं जीवित जन्म लिया और दूसरा बच्चेदानी के बाहर एवं पेट (आंत व आमाशय के आसपास) के अंदर स्टोन (मृत) में तब्दील हो चुका था.

26 वर्षीय इस महिला को राजधानी के एक अन्य अस्पताल से सोनोग्राफी की रिपोर्ट के साथ रेफर किया गया था. सोनोग्राफी रिपोर्ट के आधार पर इस बात की जानकारी मिली कि महिला के पेट के अंदर लगभग सात महीने का स्टोन बेबी है जो गर्भाशय के बाहर पेट में स्थित है और कैल्शियम के जमाव से पत्थर (लिथोपेडियन) में तब्दील हो चुका है.

डॉ. ज्योति जायसवाल ऑपरेशन के संबंध में जानकारी देती हुई बताती हैं कि स्त्री रोग विभाग में भर्ती होने के बाद महिला का एक्स रे, सीटी एंजियो, एम. आर. आई. कराया गया. स्टोन बेबी का पता लगने पर वैस्कुलर सर्जरी विभाग के डॉक्टरों से ओपिनियन लिया गया. साथ ही इस केस की जानकारी भी दी गई कि यदि बच्चा आमाशय और आंत की नसों से चिपका होगा तो सर्जरी के समय वैस्कुलर सर्जन की जरूरत पड़ सकती है. सर्जरी विभाग के डॉक्टरों को भी ऑपरेशन के दौरान इस संभावना के अंतर्गत साथ में रखा गया कि यदि बच्चेदानी के बाहर बच्चा अंतड़ियों और ओमेंटम के बीच में लिपटा हुआ होगा तो सर्जन की भी जरूरत पड़ेगी. बीते शुक्रवार को सुबह ऑपरेशन हुआ. ऑपरेशन के दौरान देखा गया कि स्टोन बेबी का आंवल बाहर था. आंवल यूट्रस के बाहर रूडीमेंटरी हार्न के टिश्यू से ब्लड सप्लाई ले रही थी. रूडीमेंटरी हार्न को काट करके स्टोन बेबी के साथ निकाल दिया गया. ऑपरेशन में ज्यादा दिक्कतें नहीं आई क्योंकि पेट के अंदर बेबी ने आस-पास के अंगों को प्रभावित नहीं किया था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज