• Home
  • »
  • News
  • »
  • chhattisgarh
  • »
  • छत्तीसगढ़ी में पढ़ें- भविष्य देखइया टार्च के महिमा

छत्तीसगढ़ी में पढ़ें- भविष्य देखइया टार्च के महिमा

कॉन्सेप्ट इमेज.

कॉन्सेप्ट इमेज.

लालबुझक्कड़ टार्च के शर्त पूरा करिस तब टार्च खूब अंजोर करिस. अंजोरे-अंजोर म लालबुझक्कड़ अपन भविष्य देखिस. ओला दिखिस के वो ह मुंगेरीलाल बन चुके.

  • Share this:
भविष्य देखइया टार्च से बड़े-बड़े ढपोर शंख मन धन्य होगे हें. खबरीलाल के कहना हे के ये टार्च वोला बहुत तपस्या करे के बाद आजादी के देबी ह खुद परगट हो के संउपिस. देबी किहिस जे मन अपन भविष्य सुधारे बर वर्तमान म भिड़े हें उन ल ये टार्च उनकर भविष्य साफ़-साफ़ देखा देथे. खबरीलाल भविष्य देखइया कीमती टार्च धरे हे. एखर दरसन करे से लोकतंत्र के कतको समस्या के हल सूझना शुरू हो जथे. बड़े-बड़े ढपोरशँख मन एखर दरसन करके धन्य होगे हें. खबरीलाल के कहना हे के ये टार्च वोला बहुत तपस्या करे के बाद आजादी के देबी ह खुद परगट हो के संउपिस. देबी किहिस जे मन अपन भविष्य सुधारे बर वर्तमान म भिड़े हें उन ल ये टार्च उनकर भविष्य साफ़-साफ़ देखा देथे. एखर सेवा पाना बहुत सरल हे. संझा जुआर जब गंवई गाँव म कटकट ले अंधियार होय तब, ये टार्च भविष्य देखाथे.

चकाचक अंजोर म एखर बैटरी फेल हो जथे. फूल लगे न पान, न नरियर, न कोनो तंत्र. न मंत्र, न रूपया, न पइसा. एखर शुद्ध भारतीय फ्री-सेवा हे. लाभ लेवइय्या मन ल अपन पूरा परिचय देना जरूरी हे. ओखर बाद टार्च ल छू के प्रण करे बर लागथे. ‘’जो कहूं, सच कहूँ. अपन आप ल जेमन जन-सेवक मानथें या जोन जन-सेवक हें उन ल अपन भविष्य देखे बर झटकुन चांस मिलथे. सच बोलना अनिवार्य हे. झूठ बोलइय्या मन बर, ये टार्च काम नइ करे, बुगबुगाय तक नहीं. इही समस्या हे.

खूब पावरफूल बैटरी
आजादी के देबी ह खबरीलाल ल जब से टार्च दे हे तब से कतको जन-सेवक अपन भविष्य देखे के इच्छा से अइंन-गिन, आशा-निराशा म बुदबुदाइन. खबरीलाल के मितान लालबुझक्कड़ जब अइसन अद्भूत टार्च के खबर सुनिस तब अपन मितान के बड़ गुण गइस. लालबुझक्कड़ खुद टार्च ल उलट-पलट के देखिस. किहिस वाह..वाह केसरिया, लाल रंग के ये टार्च के बैटरी खूब पावरफूल हे. एखर बर अपन मितान ल बधाई दिस. फेर किहिस-एखर जांच करे जाय. अमावस्या के रात दस बजे गाँव तिर के घुट्कुरी म दुनो मितान पहुँचिन. वर्तमान से भविष्य देखना बड़ सुग्घर लगथे.

लालबुझक्कड़ टार्च के शर्त पूरा करिस तब टार्च खूब अंजोर करिस. अंजोरे-अंजोर म लालबुझक्कड़ अपन भविष्य देखिस. ओला दिखिस के वो ह मुंगेरीलाल बन चुके. सपना के अथाह गहिर (गहराई) म डूबकत-डूबकात, सपना के भंवरी ओला लिलत हे. लालबुझक्कड़ अपन आँखी ल मुंदे-मुंदे जोर से चिल्लइस.-‘मितान, वर्तमान जइसे हे, बने हे. भविष्य ल का देखना कहि के दुनों मितान लहुटगें’.

मूसरचंद देखिस भविष्य
कुछ नेता खबरीलाल तिर अइंन. अपन भविष्य देखे के इच्छा जाहिर करिन. खबरीलाल टार्च के शर्त बतइस. सफेद धोती कुरता पहिने हाथी बरोबर नेता मुसरचंद जिन्दगी म पहिली बार सच बोले के प्रण करिस. नेताजी किहिस- ‘मैं अपन जीवन म कतको झन ल टंगड़ी मार के गिराय हंव. कुरसी झटके, अउ पटके हंव. अब उनकर पाछू भागत थक गे हंव. जय बोलात अउ दूसर बर वोट मांगत बुढ़ात जात हों. हे! टार्च मोर भविष्य बता. टार्च रोशनी फेंकिस त भविष्य में नेताजी दिखिस. ओहा अपन चमचा गेंग से खुद घिरे रिहिस. नेताजी मन वोला फूल-हार ले लाद्त राहें. नेता मुसरचंद गदगदाय हें.

सरकार वोला निगम/मंडल के अध्यक्ष घोषित करे हे. नेता मुसरचंद बेहद खुश होइस. खबरीलाल के कान म धीरे-धीरे किहिस-खबरी भाई, तोर टार्च त सच के जादू देखाथे. एखर आघू मे हा अकेल्ला आ के अपन पूरा भविष्य देखहूँ. खबरीलाल समझगे के राजनीति म सब ले बड़े नीति होथे ‘सबे झन अपन हें, फेर कोनो अपन नइ हे. अच्छा सूझ वाले नेता कखरो उपर विश्वास नइ करे. अपन रद्दा के काँटा-खूंटी ल जेन चतरियावत चलथे तेने ल राजगद्दी पोटारथे.

पिसावत मनखे
जब ले खबरीलाल ल वरदानी टार्च मिले हे तब से वोहा खूंटा बरोबर अपन जगा म गड़े रहिगे. कोनो डाहर आना-जाना घलो कमती होगे हे. एक दिन दर्जन भर नेता मन ल टार्च वापिस   लहुटा दिस. उन बहुत कोशिश करिन फेर उनकर बानी ले सच नइ निकलिस. आम आदमी बारी-बारी अपन परिचय दिन. टार्च के रोशनी होइस फेर बुझागे. आम-आदमी खबरीलाल ल पूछिंन–टार्च के रोशनी गायब होय के का मतलब हे? खबरीलाल किहिस-आम आदमी के भविष्य में अंधियार जादा अउ अंजोर कम हे.

कुछ मध्यमवर्गीय सज्जन आईंन. उन ल टार्च भविष्य देखइस. आम-आदमी अटकत, भटकत चारों खुंट ले पिसावत दिखिन. महादानी नेता मन उन ल कुशियार कस पेरत दिखिंन. गरीबी हटइया मन खुश रिहिन. भीड़ जय जय बोलत सुनइस. कुछ ख़ास मनखे मन अपन भविष्य देखिन आज से जादा सदाबहार हे अवइया कल. राज कखरो, काज कखरो होय, उन मजा करत दिखिन. सरकार के फ्री सुविधा के नकली गरीब मन ठेलहा फेर मजा म दिखिन. फ्री सुविधा से वंचित मन आंसू बोहावत दिखिंन. कुछ डाक्टर मानवता के सेवा करत दिखिंन. कुछ अस्पताल ल सुंदर दूकान कस चलावत दिखिन. लालबुझक्कड़ किहिस अपन भविष्य देखे चाहत सबो ल होथे

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज