छत्तीसगढ़ के शहीदों को कॉमिक्स से जानेंगे स्कूली बच्चे, सरकार ने की ये तैयारी

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में महापुरुषों और शहीदों की कहानी बच्चों को उन्ही के अंदाज़ में पढ़ाई जाएंगी. कॉमिक्स (Comix) में महान विभूतियों की जीवनी पाठ्यपुस्तक निगम ने तैयार की है.

Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: August 12, 2019, 9:19 PM IST
छत्तीसगढ़ के शहीदों को कॉमिक्स से जानेंगे स्कूली बच्चे, सरकार ने की ये तैयारी
छत्तीसगढ़ की महान विभूतियों की जीवनी अब स्कूली छात्रों को कॉमिक्स के अंदाज़ में पढ़ने को मिलेंगी. सांकेतिक फोटो.
Devwrat Bhagat
Devwrat Bhagat | News18 Chhattisgarh
Updated: August 12, 2019, 9:19 PM IST
छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की महान विभूतियों की जीवनी अब स्कूली छात्रों को कॉमिक्स (Comix) के अंदाज़ में पढ़ने को मिलेंगी. छत्तीसगढ़ सरकार के पाठ्यपुस्तक निगम (Textbook corporation) ने प्रदेश के 40 महापुरुषों और शहीदों की जीवनी को कार्टून बेस्ड किताबों (Cartoon based book) में तैयार किया है. इन कॉमिक्स का प्रकाशन किया जा चुका है. कॉमिक्स को स्कूलों की सिलेबेस में शामिल किताबों की सूची में रखा जाएगा.

छत्तीसगढ़ में महापुरुषों और शहीदों की कहानी बच्चों को उन्ही के अंदाज़ में पढ़ाई जाएंगी. कॉमिक्स में महान विभूतियों की जीवनी पाठ्यपुस्तक निगम ने तैयार की है. इसमें गुरु घासीदास, शहीद वीरनारायण सिंह, गुण्डाधुर, दाऊ मंदराजी, महाराजा चक्रधर, पंडित सुंदरलाल शर्मा जैसे महापुरुषों की कहानी हैं तो वहीं शहीद कौशल यादव और नक्सलियों से लोहा लेते हुए शहीद होने वाले विनोद चौबे की जीवनी भी बतायी गयी है. इसके अलावा अविभाजित मध्यप्रदेश के पहले मुख्यमंत्री पंडित रविशंकर शुक्ल और श्यामाचरण शुक्ल जैसे कुशल राजनीतिज्ञों की जीवनी प्रदेश के स्कूली छात्र अब कॉमिक्स के जरिए पढ़ेंगे.

इनकी पहल पर कवायद
छत्तीसगढ़ पाठ्यपुस्तक निगम के महाप्रबंधक डॉ. अशोक चतुर्वेदी ने बताया कि राजीव गांधी शिक्षा मिशन की पहल पर पाठ्यपुस्तक निगम ने 40 महापुरुषों और विभूतियों की कहानी को कॉमिक्स के रूप में संजोया है. ये कॉमिक्स सरकारी स्कूलों की लाइब्रेरी के अलावा रायपुर की सेंट्रल लाइब्रेरी और दूसरे जिलों के वाचनालयों में भी भेजी जा रही हैं. जिससे की प्राइवेट स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चे भी प्रदेश के नामचीन चेहरों को जान सकें. बच्चे कॉमिक्स पढ़ने में ज्यादा रुचि रखते हैं. ऐसे में बच्चे सचित्र जीवनी के जरिए प्रदेश की विभूतियों को जान पायेंगे. पाठ्यपुस्तक निगम ने इसके लिए करीब डेढ़ से दो लाख पुस्तकों की छपायी की है.

ये भी पढ़ें: प्रसव पी​ड़ा में तड़पती महीला को दो किलोमीटर कांवड़ में ढोकर लाए परिजन, रास्ते में ही बच्चे का जन्म 

ये भी पढ़ें: आम का पेड़ काटने से नाराज छोटे भाई ने की बड़े भाई की हत्या, गिरफ्तार 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 12, 2019, 9:19 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...