Home /News /chhattisgarh /

72 घंटे के कर्फ्यू में दुकानें बंद राजनीति शुरू, बीजेपी ने इस बात पर जताई नाराजगी

72 घंटे के कर्फ्यू में दुकानें बंद राजनीति शुरू, बीजेपी ने इस बात पर जताई नाराजगी

बीजेपी भी सोशल मीडिया में कैंपेन चलाएगी . (Demo Pic)

बीजेपी भी सोशल मीडिया में कैंपेन चलाएगी . (Demo Pic)

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Raipur) में रविवार की शाम 5 बजे तक टोटल शटडाउन (Shut Sown) किया गया है.

रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) की राजधानी रायपुर (Raipur) में रविवार की शाम 5 बजे तक टोटल शटडाउन (Shut Down) किया गया है. इस महाबंद में महज पांच तरह की सेवाएं जारी है जिसमें पेट्रोल पंप, दवाई दुकान, मिल्क पार्लर, गैस और ऑनलाइन सेवाएं शामिल हैं. इस महाबंद में फल-सब्जियों के बाजार-दुकान सहित ठेलों को भी बंद कराया गया है. पुलिस सुबह से ही सड़कों पर उतकर बेवजह सड़कों पर घूमने वालों के खिलाफ कार्रवाई कर रही है, तो वहीं जहां दुकान खुले होने की शिकायत मिल रही है उनके खिलाफ भी कार्रवाई की जा रही है. जिला प्रशासन के फैसले को अब बीजेपी ने अव्यवहारिक और आपत्तिजनक बताया है. तो वहीं कांग्रेस ने बीजेपी की आपत्ति पर तीखा प्रहार करते हुए उन्हें उनका कार्यकाल याद दिलाते हुए किसानों के झूठे हमदर्द होने से बचने की नसीहत दी है.

सरकार का फैसला अव्यवहारिक और आपत्तिजनक: बीजेपी

भारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष संदीप शर्मा ने तीन दिन तक सब्जी-फल को आवश्यक वस्तु से बाहर करने के कांग्रेस सरकार के निर्णय को अव्यवहारिक एवं आपत्तिजनक बताया है. उन्होंने कहा कि प्रदेश की कांग्रेस सरकार इस निर्णय को सोशल डिस्टेंसिंग के लिए जरूरी बता रही है, जबकि प्रदेश सरकार की सोशल डिसटेंसिंग की धज्जियां उड़ रही है. तीन दिन बाद सोमवार से फिर सब्जी बाजार के हालात क्या होंगे इसका सहज अनुमान लगाया जा सकता है.

सब्जी और फल के विक्रय प्रतिबंध के इस अव्यवहारिक निर्णय से किसानों में भारी हताशा है. प्रतिदिन निकलने वाले 350 टन केला, 300 टन पपीता, 100 टन अमरूद, 150 टन मिर्च, 400 टन टमाटर सहित टन भाटा, मूली, गोभी, भाजी, आने वाले तीन दिनों में बर्बाद हो जाएंगे. साथ ही बीजेपी ने यह मांग की है कि सब्जी फल को आवश्यक वस्तु में शामिल कर “सोशल डिस्टेंसिंग” का पालन करते हुए इसकी विक्रय को सुचारू रूप से संचालित करने की व्यवस्था करे.

बीजेपी पहले तय करें की वह किसानों के साथ है या किसानों के खिलाफ: कांग्रेस

सब्जियों को आवश्यक साम्रगी से बाहर करने पर बीजेपी के वार पर प्रतिवार करते हए कांग्रेस प्रवक्ता आरपी सिंह ने कहा कि पहले भारतीय जनता पार्टी को यह तय करना होगा कि वे किसानों के साथ हैं या किसानों के खिलाफ. क्योंकि तीन दिन पहले उनके ही पार्टी के सर्वमान्य नेता-विधायक और पूर्व कृषि मंत्री बृजमोहन अग्रवाल का बयान आया था कि रावणभांटा में लग रहे थोक सब्जी बाजार को तत्काल बंद किया जाए और आज पार्टी सरकार के फैसले को आपत्तिजनक बता रही है.

प्रवक्ता आरपी सिंह ने यह भी कहा कि बीजेपी अपने अंदरूनी गुटबाजी को छुपाने के लिए सरकार पर इंलाज लगा रही है. जबकि सरकार की पहली प्राथमिकता प्रदेश की जनता और उनकी रक्षा है. साथ ही केंद्र द्वारा जारी गाइडलाइन का भी पालन करना सरकार की बड़ी जिम्मेदारी है. मगर इन तमाम जिम्मेदारियों के बीच किसानों को दिक्कतें ना हो इसलिए खुद मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कृषि मंत्री रविंद्र चौबे के साथ मिलकर  http://cghaat.in पोर्टल का शुभारंभ किया. इस पोर्टल के जिरए लोगों को घर पहुंच सब्जि-फल मिल सकेगा तो किसानों को उचित उपभोक्ता.

किसान हमेशा से राजनीति के केंद्र बिन्दु: बाबूलाल शर्मा

वरिष्ठ पत्रकार और राजनीति विश्लेषक बाबूलाल शर्मा इस विषय पर कहते हैं कि यह दुर्भाग्य है कि कृषि प्रधान राज्य छत्तीसगढ़ में किसान राज्य गठन के साथ ही और उससे पहले से भी हमेशा से राजनीति के केंद्र बिन्दु रहे हैं. किसानों के हमदर्द के रूप में यहां सत्ता का निर्णय होता है. चाहे कांग्रेस हो या बीजेपी या फिर कांग्रेस छत्तीसगढ़ में किसानों की स्थिति पर राजनीति होती रही है और आगामी भविष्य में भी होती रहेगी.

ये भी पढ़ें: 

बेवजह घूमने वालों को रायपुर पुलिस ने दी अनोखी सजा, बीच रास्ते कराया Push-up 

Lockdown 2.0: तमिलनाडु में फंसे सुकमा के मजदूर, कॉल सेंटर में फोन कर मांगी मदद

Tags: BJP, Chhattisgarh news, Congress, Raipur news

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर