विवादित अफसर एसआरपी कल्लूरी के नेतृत्व में बहुचर्चित नान घोटाले की जांच करेगी SIT

आईपीएस एसआरपी कल्लूरी.
आईपीएस एसआरपी कल्लूरी.

छत्तीसगढ़ में बहुचर्चित नागरिक आपूर्ति निगम घोटला मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है. बस्तर में विवादित रहे आईपीएस अफसर एसआरपी कल्लूरी को नान घोटाले की जांच के लिए बनी एसआईटी का प्रभारी बनाया गया है.

  • Share this:
छत्तीसगढ़ में बहुचर्चित नागरिक आपूर्ति निगम घोटला मामले में स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम (एसआईटी) का गठन कर दिया गया है. बस्तर में विवादित रहे आईपीएस अफसर एसआरपी कल्लूरी को नान घोटाले की जांच के लिए बनी एसआईटी का प्रभारी बनाया गया है. कल्लूरी के नेतृत्व में कथित 36 हजार करोड़ रुपए के नान घोटाला मामले की नए सिरे से जांच की जाएगी. सरकार ने कल्लूरी के नेतृत्व में 12 सदस्यीय एसआईटी का गठन किया है. जांच टीम को 3 महीने में रिपोर्ट देने को कहा गया है.

मिली जानकारी के मुताबिक नान घोटाला मामले में जांच के लिए 11 बिंदु भी तय कर दिए गए हैं. एसआईटी में पुलिस महानिरीक्षक, राज्य आर्थिक अपराध एवं अन्वेषण ब्यूरो एवं एंटी करप्शन ब्यूरो छत्तीसगढ़ प्रभारी एसआरपी कल्लूरी, नारायणपुर के एसपी आईकल्याण एलेसेला, एसीबी के एएसपी मनोज कुमार खिलारी, जशपुर के एएसपी उनेजा खातून अंसारी, ईओडब्ल्यू के डीएसपी विश्वास चंद्राकर को शामिल किया गया है. इनके साथ ही ईओडब्ल्यू के डीएसपी अनिल बक्शी, सीआईडी के निरीक्षक एलएस कश्यप, एसीबी के निरीक्षक बृजेश तिवारी, रमाकांत साहू, कांकेर के निरीक्षक मोतीलाल पटेल, निरीक्षक फरहान कुरैशी को शामिल किया गया है. इन पुलिस अधिकारियों के अलावा विधि विशेषज्ञ एनएन चतुर्वेदी को भी शामिल किया गया है.

बता दें कि विधानसभा चुनाव के दौरान कांग्रेस नान घोटाले को लेकर रमन सरकार पर हमलावार रही थी. कांग्रेस ने चुनाव से पहले ही कहा था कि सरकार बनी तो नान घोटाले की जांच एसआईटी बनाकर कराई जाएगी. कांग्रेस ने सरकार बनने के बाद नान घोटाले की जांच शुरू कर दी है. सरकार के निर्देश पर ईओडब्ल्यू ने न्यायालय में भी आवेदन देकर एसआईटी जांच परिणाम आने तक कार्यवाही स्थगित रखने की मांग की है. वहीं ईओडब्ल्यू की ओर से जांच के 11 बिंदु भी तय कर लिए गए हैं.



ये भी पढ़ें: रायपुर: बैंकों के विलय से नाराज बैंक कर्मचारियों ने बुलाया 2 दिवसीय हड़ताल 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज