छत्तीसगढ़ में विदेशी निवेश कराने बनेगी रणनीति, इन सेक्टर के उद्योगों को देंगे न्योता
Raipur News in Hindi

छत्तीसगढ़ में विदेशी निवेश कराने बनेगी रणनीति, इन सेक्टर के उद्योगों को देंगे न्योता
छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल.

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में विदेशी निवेश को आमंत्रित करने के लिए रणनीति बनाई जाएगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 7:08 AM IST
  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में विदेशी निवेश को आमंत्रित करने के लिए रणनीति बनाई जाएगी. मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (Bhupesh Baghel) ने राज्य में प्रत्यक्ष विदेश निवेश के संबंध में उद्योग विभाग के प्रस्तावित कार्ययोजना को  सैद्धांतिक सहमति दे दी है. सीएम ने उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव को कुछ चुनिंदा सेक्टर के उद्योगों को छत्तीसगढ़ में आमंत्रित करने के लिए आवश्यक चर्चा और पत्राचार करने की भी बात कही. इसके लिए आवश्यकता अनुसार रणनीति तैयार करने के निर्देश भी दिए. सीएम की सैद्धांतिक सह​मति के बाद अब आगे की कार्रवाई की जाएगी.

राज्य में ऑटोमोबाइल, आयरन एवं स्टील, भारी इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिक वायर एवं ऑप्टिकल फायबर, कन्ज्यूमर ड्यूरेबल्स, टेक्सटाईल, इलेक्ट्रानिक्स आदि उद्योगों की स्थापना के लिए प्राथमिकता से विदेशी पूंजी निवेश के संबंध में विस्तार से चर्चा की गई. इस अवसर पर उद्योग मंत्री कवासी लखमा, मुख्यमंत्री के अपर मुख्य सचिव श्री सुब्रत साहू, उद्योग विभाग के प्रमुख सचिव मनोज पिंगुआ सहित अन्य अधिकारी उपस्थित थे.

इन देशों की कंपनियों को दे सकते हैं न्योता
प्रमुख सचिव उद्योग मनोज पिंगुआ ने पावर पाइंट प्रेजेन्टेशन से विदेशी पूंजी निवेश के संबंध में प्रस्तुतीकरण देते हुए बताया कि कोविड-19 संक्रमण की वजह से वर्तमान में विश्व में जो स्थिति निर्मित हुई है, उसको देखते हुए भारत, विशेषकर छत्तीसगढ़ राज्य में चीन से बाहर निकलने को इच्छुक विदेशी औद्योगिक संस्थानों को यहां उद्योग स्थापित करने के लिए आमंत्रित करने के अवसर निर्मित हुए हैं. उन्होंने बताया कि यूएसए, जापान, दक्षिण कोरिया, ताईवान एवं वियतनाम की प्रमुख कंपनियों को छत्तीसगढ़ में अपना उद्योग स्थापित करने के लिए आमंत्रित किया जा सकता है. उन्होंने बताया कि इस संबंध में विभाग द्वारा प्रारंभिक तैयारियां शुरू कर दी गई है. पिंगुआ ने बताया कि उक्त देशों की कंपनियों की कई ईकाइयां भारत में पहले से ही कार्यरत हैं. उन्हें छत्तीसगढ़ राज्य में भी अपना उद्यम शुरू करने के लिए आमंत्रित किया जाना उपयुक्त होगा, इसके लिए आवश्यक सुविधाएं एवं रियायतें भी दी जा सकती हैं.
दी जा सकती है ये छूट


मनोज पिंगुआ ने बताया कि विदेशी कंपनियों को छत्तीसगढ़ में उद्योग स्थापना के लिए सिंगल स्ट्रोक क्लीयरेंस, प्लग एण्ड प्ले सुविधा के साथ भूमि, कुशल श्रम शक्ति, प्रोजेक्ट की स्वीकृति का सरलीकरण, निवेश पैकेज, स्थानीय निवेशकों से साथ ज्वाईंट वेंचर, आवश्यक अधोसंरचना, बिजली, पानी के अधिभार में छूट दिया जा सकता है. विदेशी निवेश सम्बंधी त्वरित निर्णय लेने हेतु मुख्य सचिव की अध्यक्षता में वरिष्ठ सचिवों की समिति गठित करने की सहमति भी दी गयी है.

ये भी पढ़ें:
मंगलसूत्र से जरूरी मास्क: Twitter पर छाई मैरिज कपल की ये खूबसूरत तस्वीर, विधानसभा अध्यक्ष ने भी सराहा

Lockdown 2.0: कोरोना के कारण श्मशान में लॉक हुईं अस्थियां, मुक्ति का इंतजार
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज