लाइव टीवी

सुकमा मुठभेड़: कितने नक्सली मारे गए, पुलिस और माओवादियों के अलग-अलग दावे
Raipur News in Hindi

News18 Chhattisgarh
Updated: March 25, 2020, 2:35 PM IST
सुकमा मुठभेड़: कितने नक्सली मारे गए, पुलिस और माओवादियों के अलग-अलग दावे
शहीदों के श्रद्धांजलि सभा में मौजूद जवान के परिजन.

छत्तीसगढ़ के सुकमा के मिनपा में बीते 21 मार्च की दोपहर को सुरक्षा बल के जवानों और नक्सलियों के बीच जबरदस्त मुठभेड़ हुई थी. मुठभेड़ के बाद लापता 17 जवानों का शव दूसरे दिन 22 मार्च को बरामद किया गया था.

  • Share this:
रायपुर/सुकमा. छत्तीसगढ़ के सुकमा के मिनपा में बीते 21 मार्च की दोपहर को सुरक्षा बल के जवानों और नक्सलियों के बीच जबरदस्त मुठभेड़ हुई थी. इस मुठभेड़ के बाद लापता 17 जवानों का शव दूसरे दिन 22 मार्च को बरामद किया गया था. 17 में से 12 डीआरजी और 5 एसटीएफ के जवान शहीद हुए थे. इसके बाद प्रदेश के पुलिस मुखिया डीएम अवस्थी ने कहा था कि मुठभेड़ में कई नक्सली भी मारे गए हैं और नक्सली घायल भी हुए हैं. मारे गए और घायल नक्सलियों के नाम जल्द ही पुलिस उजागर करेगी. 23 मार्च को सुकमा जिला मुख्यालय की पुलिस लाइन में शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई.

24 मार्च को बस्तर रेंज के आईजी सुंदरराज पी ने एक विस्तृत प्रेस नोट जारी किया. इसमें आईजी सुंदरराज ने बताया सुकमा के चिंतागुफा-बुरकापाल क्षेत्रांतर्गत मिनपा-एलमागुड़ा-कोराजडोंगरी के जंगलों में सीपीआई माओवादी नक्सलियों की उपस्थिति की जानकारी होने पर चिंतागुफा एवं बुरकापाल कैम्प से डीआरजी, एसटीएफ और कोबरा की संयुक्त बल नक्सल अभियान के लिए रवाना हुई. 21 मार्च को दोपहर लगभग डेढ़ बजे कोराजडोंगरी पहाड़ एवं मिनपा जंगल के पास सुरक्षाबलों एवं नक्सलियों के बीच मुठभेड़ शुरू हो गई0 कोराजडोंगरी पहाड़ के पास हुई करीब 40 मिनट की मुठभेड़ में करीब 6 नक्सली जख्मी हुए जिन्हें माओवादी द्वारा कव्हरिंग फायर देते हुये अपने साथ ले गए.

Chhattisgarh
सुकमा में शहीद जवानों को परिजनों ने श्रद्धांजलि दी.


शव और हथियार बरामद नहीं



आईजी सुंदरराज ने बताया कि इस दौरान मिनपा जंगल के पास बुरकापाल डीआरजी और एसटीएफ की टीम व माओवादियों के बीच में दोपहर लगभग 1.45 से लेकर 3 बजे के बीच में बुरकापाल में मुठभेड़ हुई. इसमें कम से कम 8 माओवादियों को मार गिराया, लेकिन लगातार गोलीबारी होने से माओवादियों का शव व हथियार बरामद तत्काल नहीं की गई. माओवादियों वारा अपनी स्थिति को मजबूत करने के लिए दुलेड़ जंगल के तरफ से अन्य नक्सली टीम मिनपा पहुंचे. इस परिस्थिति को देखते हुए चिंतागुफा डीआरजी व एसटीएफ कोराजडोंगरी से आगे बढ़कर मिनपा के जंगल में बुरकापाल के पास पहुंची.

..तो जवान घायल हो गए
सुंदरराज के मुताबिक यहां नक्सलियों से लगभग 3 घण्टे तक आर-पार की लड़ाई लड़ी गई. इस बीच डीआरजी और एसटीएफ के कुछ जवानों को माओवादियों के गोली व ग्रेनेड लगने से घायल हो गये. इसके बावजूद भी जवानों द्वारा लड़ाई को निर्णायक मोड़ तक ले जाने के उद्देश्य से घायल व बाकी साथियों द्वारा नक्सलियों से मात्र 20-25 मीटर की दूरी में पहुंचकर कई माओवादियों को मार गिराया गया. घायल जवानों द्वारा अपने जान की परवाह न करते हुये उच्चतम वीरता का परिचय देते हुए एकदम नक्सलियों के लोकेशन तक पहुंच कर और कई माओवादियों को मौत के घाट उतारे. मुठभेड़ में 15 जवान घायल हो गए, जिन्हें ईलाज के लिए रायपुर भेजा गया. अन्य 17 डीआरजी और एसटीएफ के जवानों जो नक्सलियों के चक्रव्यूह तक पहुंचकर उन्हें पीछे खदेड़ने में अपने हथियार के अंतिम गोली तक लड़ते हुये वीरगति को प्राप्त हुए.

पहली बार आमने-सामने की लड़ाई
बस्तर आईजी सुंदरराज पी ने दावा किया कि विगत वर्षों में यह पहला अवसर है कि जिसमें सुरक्षाबल-माओवादियों के बीच आमने-सामने की युद्ध जैसी परिस्थिति में मुठभेड़ हुई. अभी तक विभिन्न सूत्रों से प्राप्त जानकारी अनुसार माओवादियों के बटालियन नं. 01, सीआरसी कंपनी एवं पीएलजीए प्लाटून के कम से कम 15 से अधिक माओवादी मारे जाने और 20 से अधिक माओवादी गंभीर रूप से घायल होने की जानकारी प्राप्त हो रही है, जिन्हें तस्दीक किया जा हरा है. जिनका नाम विवरण सार्वजनिक किया जायेगा.

Chhattisgarh
नक्सलियों द्वारा मुठभेड़ में मारे गए साथियों के अंतिम संस्कार की फोटो जारी की गई.


पुलिस का दावा 22 नक्सली मारे गए
बस्तर आईजी सुंदरराज पी द्वारा जारी प्रेस विज्ञप्ति में दावा किया गया है कि सुकमा में 21 मार्च को लॉंच किए गए सुरक्षा बल के आपरेशन में कम से कम 22 नक्सली मारे गए हैं. इसके अलावा 25 से अधिक नक्सली घायल भी हुए हैं. जबकि इस मुठभेड़ में 17 जवान शहीद और 15 जवान घायल हुए हैं. हालांकि पुलिस की इस विज्ञप्ति में मारे गए व घायल नक्सलियों के नाम व पहचान का कोई जिक्र नहीं था.

chhattisgarh
नक्सलियों के एक संगठन द्वारा ये तस्वीर जारी की गई, जिसमें सुरक्षा बल के जवानों से लूटे गए हथियार व अन्य सामाग्री रखे होने का दावा किया गया है.


जबकि माओवादियों का दावा, सिर्फ 3 ही मरे
सुकमा के मिनपा मुठभेड़ के पांचवें दिन 25 मार्च को माओवादियों के दक्षिण सब जोनल ब्यूरो ने कथित तौर पर एक प्रेस नोट जारी किया. इसमें उन्होंने मुठभेड़ में तीन नक्सलियों के मारे जाने की जानकारी दी. मारे गए अपने साथियों का नाम उन्होंने बीजापुर जिले के मेट्टा गांव का सकरु, गंगालुर के बरगिल गांव का रहने वाला सुक्कू और भैरमगढ़ के पास का रहने वाल राजेश बताया गया. इतना ही नहीं उनकी तस्वीरें भी जारी की गई. माओवादियों द्वारा मुठभेड़ में मारे गए जवान, लूटे गए हथियार और साथी नक्सलियों के मारे जाने के बाद उनके अंतिम संस्कार की फोटो भी वायरल की गई. इस विज्ञप्ति में दावा किया गया है कि सुकमा में 21 मार्च को हुई मुठभेड़ में सिर्फ 3 नक्सली ही मारे गए हैं.

ये भी पढ़ें:
'जिन नक्सलियों ने 17 जवानों की हत्या की, उनका सामना करना वाकई दिल दहलाने वाला था'

सुकमा नक्सली मुठभेड़: 17 जवानों की निर्मम हत्या की कहानी, साथी जवान की जुबानी 

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए रायपुर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 25, 2020, 2:35 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,150,001

     
  • कुल केस

    1,601,302

    +83,176
  • ठीक हुए

    355,671

     
  • मृत्यु

    95,630

    +7,170
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर