अपना शहर चुनें

States

'लोकसभा चुनाव में भाजपा को हराना ही है कम्युनिस्टों का उद्देश्य'

सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर

कांग्रेस विधानसभा चुनाव के बाद आत्मविश्वास के साथ चुनाव मैदान में उतर रही है. वहीं भाजपा की हार सुनिश्चित करने के इरादे के साथ साथ अपनी जीत के दावे कर रही है.

  • Share this:
भारत निवार्चन आयोग द्वारा आचार संहिता लागू करते ही छत्तीसगढ़ में चुनाव की सरगर्मी तेज हो गई है. प्रदेश में भाजपा की हार सुनिश्चित करने अब सीपीआईएम ने नई रणनीति का दावा किया है. हालाकि भाजपा ऐसे दावों को खारिज कर रही है, मगर कांग्रेस ने भाजपा की जीत पर ही सवाल खड़े करते हुए दावा किया है कि इस बार के लोकसभा चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ेगा.

छत्तीसगढ़ में विधानसभा का चुनाव हो या लोकसभा का कम्युनिस्ट पार्टियां चुनाव में अपना दम जरूर दिखाने का प्रयास करती हैं, मगर अब तक राज्य गठन के बाद कम्युनिष्ट पार्टियों को चुनाव में सफलता हाथ नहीं लगी. साल 2019 के लोकसभा चुनाव में सीपीआई जहां बस्तर सीट से तो सीपीआई एम सरगुजा से चुनाव मैदान में उतरने का ऐलान किया है. सीपीआईएम के राज्य सचिव संजय पराते का कहना है कि भाजपा को हराना कम्युनिष्टों का उद्देश्य है.

कांग्रेस विधानसभा चुनाव के बाद आत्मविश्वास के साथ चुनाव मैदान में उतर रही है. वहीं भाजपा की हार सुनिश्चित करने के इरादे के साथ साथ अपनी जीत के दावे कर रही है. कांग्रेस प्रवक्ता शैलेष नितिन त्रिवेदी का कहना है कि विधानसभा चुनाव से भी बेहतर परिणाम लोकसभा चुनाव में छत्तीसगढ़ कांग्रेस के लिए रहेंगे.



भारतीय जनता पार्टी कम्युनिस्ट पार्टियों के दावे को सिरे से खारिज कर रही है. साथ ही आधारहीन दल बता रही है. भाजपा प्रवक्ता गौरीशंकर श्रीवास का कहना है कि जनता ने भाजपा सरकार में विकास देखे हैं. जनता को पता है कि देश में भाजपा सरकार ही विकास कर सकती है. दूसरी पार्टियां सिर्फ दावे ही करती रह जाएंगी. बता दें कि 2014 के लोकसभा चुनाव में सीपीआई की टिकट पर बस्तर से मनीष कुंजाम को लगभग 50 हजार वोट हासिल हुए थे. इसी तरह सरगुजा से सुरेन्द्र लाल को 15000 वोट मिले थे.
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: 'कांग्रेस के पास खोने के लिए कुछ नहीं है' 
ये भी पढ़ें: लोकसभा चुनाव 2019: भूपेश सरकार ने आचार संहिता लगने से ऐन पहले किए ये 10 बड़े फैसले  
एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पाससब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज