आज बिलासपुर में मिलेंगे एक-दूसरे के धुर-विरोधी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अजीत जोगी

छत्तीसगढ़ की राजनीति में साल 2018 का आखिरी दिन यादगार बनने जा रहा है. दरअसल इस दिन एक-दूसरे के धुर-विरोधी माने जाने वाले नेताओं की एक-दूसरे से मुलाकात होने वाली है.

Awadhesh Mishra | News18 Chhattisgarh
Updated: December 31, 2018, 11:42 AM IST
आज बिलासपुर में मिलेंगे एक-दूसरे के धुर-विरोधी मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और अजीत जोगी
अजीत जोगी और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल.
Awadhesh Mishra | News18 Chhattisgarh
Updated: December 31, 2018, 11:42 AM IST
छत्तीसगढ़ की राजनीति में साल 2018 का आखिरी दिन यादगार बनने जा रहा है. दरअसल इस दिन एक-दूसरे के धुर-विरोधी माने जाने वाले नेताओं की एक-दूसरे से मुलाकात होने वाली है. राजनीति में एक दूसरे के प्रबल विरोधी मानें जाने वाले मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पूर्व सीएम अजीत जोगी सोमवार को एक-दूसरे से मिलने वाले हैं. सियासत के दो दिग्गजों की इस मुलाकात पर सबकी निगाहें टिकी हुई हैं.

31 दिसंबर को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के बीच बिलासपुर के छत्तीसगढ़ भवन में दोपहर डेढ़ बजे मुलाकात का वक्त तय किया गया है. दोनों के बीच मुलाकात की सबसे दिलचस्प बात यह है कि बघेल से मुलाकात की पहल खुद जोगी ने की है. जबकि भूपेश बघेल के शपथ ग्रहण पर मिले आमंत्रण पर जोगी शामिल तक नहीं हुए थे. यहां यह बात भी जान लीजिए की अजीत जोगी भूपेश बघेल को लेकर हमेशा से मुखर रहते हैं. जबकि बघेल ने जोगी की बातों पर प्रतिक्रिया देना काफी पहले से ही बंद कर दिया है.

यहां इस मुलाकात की चर्चा इसलिए भी है. क्योंकि चंद महीने बाद ही लोकसभा के चुनाव होने हैं और लोकसभा चुनाव से पहले दोनों विरोधियों के बीच मुलाकात के सियासी मायने भी देखे जा रहे हैं. बहरहाल इस मुलाकात को मुख्यमंत्री और विरोधी दल के विधायकों के बीच शिष्टाचार भेंट नाम दिया गया है, लेकिन यह बात भी जान लीजिए कि बघेल और जोगी के बीच शिष्टाचार जैसे शब्द कब के समाप्त हो चुके हैं. बहरहाल इंतजार रहेगा उस पल का जब जोगी और बघेल के बीच मुलाकात होगी.

यह भी देखें- VIDEO: बिलासपुर में हवाई सेवा शुरू करने के लिए DGCA ने जारी किया लाइसेंस

यह भी पढ़ें- बिलासपुर: जनता बहुत परेशान है, यहां बदलाव की जरूरत है: कांग्रेस 
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...