छत्तीसगढ़ में बेकाबू कोरोना, 24 घंटे में 4174 नए मरीज, अब तक 4247 लोगों की मौत

छत्तीसगढ़ में कोरोना के चार  हजार से ज्यादा केस मिले हैं.

छत्तीसगढ़ में कोरोना के चार हजार से ज्यादा केस मिले हैं.

Chhattisgarh COVID-19 Update: पिछले 24 घंटे में  4174 नए कोरोना (Coronavirus) मामलों की पुष्टि की गई है. 43 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हो गई है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में कोरोना (COVID-19) के मामलों में तेजी से इजाफा हो रहा है. एक बार फिर सूबे से रिकॉर्ड मरीज मिले हैं. ताजा आंकड़ों के मुताबिक, पिछले 24 घंटे में  4174 नए मामलों की पुष्टि की गई है. जबकि 43 लोगों की मौत संक्रमण की वजह से हो गई है. इसमें से 10 मौत पहले हुए थे जिनकी पुष्टि आज की गई है. आंकड़ों की बात करें तो राजधानी रायपुर में सबसे ज्यादा मरीज मिले हैं. आज 945 मरीजों ने कोरोना को मात दी है. नए मामलों के बाद अब एक्टिव मरीजों की संख्या बढ़कर 31858 हो गई है. कोरोना से अब तक 4247 लोगों की मौत दर्ज की गई है. अब तक 321873 मरीज संक्रमण से रिकवर हुए हैं.

छत्तीसगढ़ के दो बड़े शेहरों से कोरोना के चिंताजनक आंकड़े सामने आए हैं. रायपुर में 24 घण्टे में रिकॉर्ड 1405 नए मरीज मिले है. दुर्ग में 964, बिलासपुर में 244, राजनांदगांव में 241, महासमुंद में 188, सरगुजा में 145, कोरबा में 112, धमतरी में 108, रायगढ़ में 103 नए मरीजों की पुष्टि हुई है.

Youtube Video


दुर्ग में लॉकडाउन
कोरोना वायरस  से फैल रहे संक्रमण के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए दुर्ग में संपूर्ण लॉकडाउन  करने का ऐलान किया गया है. कलेक्‍टर ने इस बाबत आदेश जारी कर दिए हैं. वहीं, जगदलपुर से खबर है कि यहां के रमैया वार्ड को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया गया है. मेडिकल सेवा को छोड़कर सभी प्रतिष्‍ठानों को बंद करने के निर्देश दिए गए हैं. वार्ड में अब तक 72 कोरोना पॉजिटिव मरीज मिल चुके हैं. कोरोना पॉजिटिव की बढ़ती संख्या को देखते हुए कलेक्टर रजत बंसल ने वार्ड को कंटेमेंट जोन बनाने का निर्देश दिया है.

ये भी पढ़ें: Switzerland का वेब डेवलपर हरिद्वार में बन गया बेन बाबा, भिक्षा मांगकर सीखता है अध्यात्म का पाठ 

कलेक्टर डॉ. सर्वेश्वर नरेंद्र भुरे ने आम नागरिकों से अपील की है कि जिले में संक्रमण के तेज प्रसार को नियंत्रित करने यह बहुत जरूरी है कि लॉकडाउन के माध्यम से कोरोना की गतिशीलता को नियंत्रित किया जाए. इसके लिए नागरिकों का सहयोग बेहद जरुरी है. पूर्व में जिले में लॉक डाउन लगाए गए थे और जन सहयोग से कोरोना की पहली लहर को रोक पाने में सफलता मिली थी. इस बार भी कोविड संकट के दौर में धैर्य की जरूरत है, ताकि कोविड संक्रमण के प्रसार को नियंत्रित किया जा सके. कलेक्टर ने नागरिकों से अपील की है कि घर में रहें, सुरक्षित रहें. पिछली बार की तरह हमने लॉकडाउन में सम्पूर्ण संयम का परिचय दिया तो कोविड की गंभीरता से पूरी तरह से बच सकेंगे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज